शादी से पहले सेक्स का अनुभव

हैल्लो दोस्तों, आप सबको Antarvasna मेरा सेक्स भरा नमस्कार। मेरा नाम कुमार है और मेरी उम्र 28 साल है में जोधपुर का रहने वाला हूँ। में एक बार फिर से आप लोगों को अपनी कहानी बताने आया हूँ। में आजकल प्राइवेट प्ले-बॉय सेक्स फुकर का काम करता हूँ और इससे असंतुस्ट लेडी को अपनी चूत की गर्मी मिटाने का, अपनी गांड की खुजली मिटाने का, चूची मसलवाने और चुसवाने का, मेरे लंड को चूस-चूसकर वीर्य पीने का भरपूर मज़ा भी मिलता है, जो आज तक नहीं मिला था और मुझे कुछ पैसे और मज़े भी मिलते है। में बहुत ही चुदक्कड़ हूँ और औरतें मुझे सेक्स कुमार के नाम से जानती है। में औरत की चूत और गांड से लेकर उसके पूरे शरीर का हर सपना पूरा कर देता हूँ मगर बड़े ही प्यार से में अपने 7 इंच लम्बे और 4 इंच मोटे लंड से औरतों को पूरा संतुष्ट कर देता हूँ।

दोस्तों ये घटना जोधपुर की ही रहने वाली एम.सी.ए की स्टूडेंट पूजा के साथ की है, जिसकी फिगर साईज़ 34-32-34 और उम्र 22 साल की थी, वो दिखने में बहुत ही सुंदर, गोरी और एक बड़े बिज़नसमैन की बेटी थी। फिर एक दिन में जोधपुर यूनिवर्सिटी के अंदर से होकर दोपहर को अपने घर वापस जा रहा था। अब गर्मी का मौसम होने के कारण रास्ता सुनसान था। फिर मैंने देखा कि एक लड़की अपनी बाइक के नीचे बैठकर कुछ कर रही थी। फिर मैंने सोचा कि इस गर्मी में ना जाने इसको क्या हो गया है? ये सोचते ही मैंने अपनी बाइक का ब्रेक लगाया और उससे पूछा कि मेडम क्या प्रोब्लम है? तो उसने कहा कि मेरी बाइक स्टार्ट नहीं हो रही है।

फिर मैंने उतरकर देखा तो उसकी बाइक की तेल की नली में कचरा फँसा हुआ था। फिर मैंने उसके पेट्रोल के पाईप को निकाला और थोड़ा सा पेट्रोल बहाने के बाद वापस लगाकर स्टार्ट किया तो उसकी बाइक स्टार्ट हो गयी। अब में भी धूप में आने के कारण थोड़ा रुक गया था। फिर मैंने उससे उसका नाम और पता पूछा तो उसने अपना नाम पूजा बताया और मुझसे भी सब कुछ पूछा, तो उसके बाद उसने मुझे सेक्स अनुभव देने को कहा और अब पूजा को यही तो चाहिए था। फिर मैंने वैसे बैठे-बैठे अचानक से उसकी चूत में उंगली डाल दी, तो वो बहुत ज़ोर से चिल्लाई आआहह, लेकिन में अपनी उंगली हिलाता रहा और उससे पूछा कि मेरे तरीके से प्यास बुझाना चाहती हो जो कि बहुत अलग है या सिर्फ़ तुम्हारी चूत में अपना लंड डालकर हिला दूँ। फिर वो बोली कि आज में तुम्हारी हूँ, तुम मेरी बॉडी से जो करना चाहते हो करो, में सिर्फ़ अपनी बॉडी को पूरा सुख देते हुए सेक्स का पूरा एक्सपीरियन्स लेना चाहती हूँ। फिर में खड़ा हो गया और उसको पूरा नंगा कर दिया, उसकी चूचीयाँ बहुत टाईट थी फिर मैंने उनको मसलना शुरू किया और लिप से लिप मिला दिए। वो बहुत प्यासी थी और इस बात का अंदाज़ा मुझे तभी हो गया जब उसने मुझको पागलों की तरह किस करना शुरू किया था। फिर उसके बाद में उससे बोला कि तुम अब मेरे कपड़े उतारो। फिर उसने तुरंत मेरी पैंट और बनियान उतार दी और फिर मेरी अंडरवियर भी उतारकर खड़ी हो गयी। फिर वो मेरे लंड को देखते हुए बोली कि ये तो बहुत मोटा है और मैंने आज तक सिर्फ़ एक बार ही चुदवाया है, तुम तो लगता है आज मेरी चूत को फाड़ ही दोगे। फिर मैंने उससे कहा कि इसको पकड़ो और फिर में सोफे पर बैठ गया। फिर वो मेरे पैरों के बीच में बैठकर मेरा लंड हिलाने लगी। फिर मैंने उससे कहा कि अपना मुँह खोलो और अपनी आँखे बंद करो। फिर उसने वैसा ही किया। फिर तभी अचानक से मैंने उसके मुँह में अपना पूरा लंड अंदर तक घुसाकर उसके बाल पकड़कर उसका सिर आगे पीछे करके उसके मुँह को चोदना शुरू कर दिया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  विधवा आंटी की जवान चूत

अब वो आह्ह्ह की आवाज़ निकालने लगी थी, क्योंकि मेरा लंड उसके गले तक जा रहा था। फिर थोड़ी देर तक ऐसे ही चोदने के बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसको अपने कंधे पर उठाकर उसकी गांड को सहलाता हुआ बेडरूम में आ गया और वहाँ उसको बेड पर लेटाकर मैंने उसकी बॉडी को किस करना शुरू किया, सिर से पैर की तरफ और चूत के पास आकर और फिर मैंने उसकी चूत को सहलाना शुरू किया, तो वो सिसकारियाँ लेने लगी। फिर मैंने उसकी चूत में अपनी एक उंगली डाली और उसको अपनी उंगली से चोदने लगा और फिर धीरे से अपनी दूसरी उंगली भी डाल दी। अब उसके मुँह से चीखें निकल रही थी और फिर थोड़ी देर में वो झड़ गयी। फिर उसके बाद में उससे बोला कि अब मेरा लंड फिर से चूसो और में उसके सिर के पास बैठ गया और अपना लंड उसके मुँह में दे दिया।

Antarvasna Hindi Sex Story  भांजी की चुदाई

अब मुझको बहुत मज़ा आ रहा था और जब वो मेरा लंड चूस रही थी, तो में उसके बूब्स को बहुत ज़ोर से मसल रहा था और उसके निप्पल खींच रहा था। फिर ऐसे ही कोई 10 मिनट तक मैंने उसको अपना लंड चुसवाया। फिर मैंने कहा कि अब ज़रा बेड पर घोड़ी बन जाओ, तो उसने तुरंत मेरी आज्ञा का पालन किया। अब में बेड के नीचे खड़ा होकर उसकी गांड को सहलाने लगा था और अपनी उंगली से थोड़ा थूक उसकी चूत पर और अपने लंड पर लगाया, क्योंकि उसकी चूत बहुत टाईट थी और फिर अपने लंड को एक हाथ से पकड़कर उसकी चूत पर जैसे ही रखा तो उसकी बॉडी ने एक ज़ोर का झटका खाया। फिर मैंने अपने हाथ से लंड पकड़कर उसका सुपाड़ा धीरे से उसकी चूत में अंदर किया। फिर वो ज़ोर-जोर से आअहह, आआहह करने लगी, क्योंकि उसको बहुत दर्द हो रहा था। फिर मैंने वैसे ही कुछ देर रुककर साईड से अपना एक हाथ डालकर उसके बूब्स को सहलाना शुरू किया और फिर धीरे से उसके दोनों कंधो को कसकर पकड़कर एक झटका मार दिया तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया।

अब वो ज़ोर-जोर से चिल्लाने लगी थी हाईईईईई मेरी चूत फट गयी, मुझको छोड़ दो, लेकिन मैंने उसकी बातों को अनसुना करते हुए उसको चोदना शुरू कर दिया और ऐसे ही चोदता रहा। फिर थोड़ी देर में उसका दर्द मज़े में बदल गया और वो भी मेरा साथ देने लगी। फिर ऐसे ही मैंने उसको कुछ देर तक चोदा और फिर मैंने अपनी पोजिशन को चेंज किया और उसको बेड पर अपनी पीठ के बल लेटाकर उसके ऊपर आकर उसको खूब चोदा। फिर इतने में वो एक बार झड़ चुकी थी और में उसे चोदते ही जा रहा था। फिर थोड़ी देर के बाद मुझको लगा कि में भी झड़ने वाला हूँ तो मैंने उसकी पीठ के नीचे अपना हाथ डालकर उसको ज़ोर से हग किया और बहुत तेज अपनी स्पीड बढ़ा दी। अब वो मज़े से चिल्ला रही थी वाहह और चोदो, फाड़ दो मेरी चूत को, में फिर से झड़ने वाली हूँ और फिर हम दोनों एक साथ झड़ गये। फिर थोड़ी देर के बाद हम उठे और बाथरूम में गये। फिर वॉश लेने के बाद हमने ऐसे ही बिना कपड़े पहने हुए खाना खाया। अब तब तक उसकी गांड देखकर मेरी नियत फिर से खराब होने लगी थी तो मैंने उसको बेडरूम में चलने को कहा और उसको तेल की बोतल देकर कहा कि तेल से मेरे लंड की मालिश करो। फिर वो वैसा ही करने लगी मगर पहले उसने मेरा लंड ज़ोर-जोर से कुछ देर तक चूसा और फिर मेरे लंड पर बहुत सारा तेल लगा दिया।

Antarvasna Hindi Sex Story  आंटी की चूत को बेलन डालकर चोदा

अब मैंने उसको फिर से घोड़ी बनाकर पकड़ लिया था और उसकी गांड के छेद पर अपना लंड रख दिया और धीरे से एक झटका मारा। फिर वो तड़पने लगी मगर मैंने उसको कसकर पकड़ा हुआ था और उसको छोड़ा नहीं और अपना पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया और उसकी गांड भी बहुत ज़ोर-जोर से मारी। अब उसका दर्द से बहुत बुरा हाल था, जितनी देर में उसकी गांड मारता रहा, वो रोती ही रही और चिल्लाती रही कि मत फाडो मेरी गांड, मेरी चूत चोद लो, प्लीज मेरी गांड पर रहम खाओ, लेकिन मैंने उसकी एक नहीं सुनी और उसकी गांड मारता रहा और कोई 15 मिनट के बाद में उसकी गांड में ही झड़ गया। फिर मैंने जैसे ही उसकी गांड से मेरे लंड को बाहर निकाला तो मेरे लंड के साथ खून भी निकलने लगा। अब उसकी गांड फट गयी थी, वो चिल्लाती रही, तो मैंने उसको समझाया कि कोई नहीं सुबह तक ठीक हो जाएगा। फिर उसके बाद रातभर मैंने उसको अलग-अलग पोजिशन में बनाकर लगभग 5 बार चोदा और फिर दूसरे दिन हम कोर्ट गये। फिर रात को हम जब वहाँ से वापस आए, तो हमने फिर से पूरी रात चुदाई की और मैंने फिर से उसकी गांड मारी। अब उस दिन से वो महीने में 2 बार कोर्ट में तारीख का बहाना करके लखनऊ आती है और फिर हम बहुत चुदाई करते है ।।

धन्यवाद …