सेक्सी बहन ने प्यार कबूल किया

हैल्लो दोस्तों, में चोदन डॉट कॉम का नियमित Antarvasna पाठक हूँ और मुझे इसकी सभी कहानियाँ बहुत अच्छी लगती है, लेकिन सबसे ज़्यादा अच्छी स्टोरी मुझे बहन और भाई वाली लगती है, क्योंकि आई लव माई सिस्टर और में भी अपनी बहन को चोद चुका हूँ इसलिए आज मैंने भी सोचा कि क्यों ना में भी अपनी दिल की बात आप सब दोस्तों को बताऊँ? क्योंकि ये आप भी जानते है कि ये सब बातें हमारे इंडियन समाज में गलत मानी जाती है और में अपने आपको गलत मानता हूँ, लेकिन में भी क्या करूँ? अब मुझे अपनी बहन से ही प्यार हो गया तो में क्या कर सकता हूँ? तो मैंने आप लोगों को काफ़ी बोर कर दिया, अब में सीधा आपको अपनी स्टोरी सुनाता हूँ।

मेरा नाम रोहित है, में अभी दिल्ली में रह रहा हूँ, मेरे घर में पापा, मम्मी और 2 छोटी बहनें और में हूँ। मेरी उम्र अभी 26 साल है और मुझसे छोटी बहन की उम्र 23 साल और उससे छोटी वाली बहन की उम्र करीब 20 साल है। ये कहानी करीब 3 साल पहले स्टार्ट हुई थी, दोस्तों हम सब लोग घर में एक साथ रहते है। मेरे पापा सरकारी कर्मचारी है और मम्मी टीचर है इसलिए वो दोनों रोज ड्यूटी चले जाते है। मेरी बड़ी बहन का नाम नामिता है और वो अभी बी.ए पार्ट सेकेंड में है और उससे छोटी बहन 12वीं का एग्जॉम देने वाली है, उसका नाम सानिया है और में अभी एम.बी.ए की तैयारी कर रहा हूँ इसलिए घर पर ही रहकर तैयारी कर रहा हूँ। दोस्तों में आज आपको ये बताने वाला हूँ कि मैंने अपनी बहनों को कैसे चोदा? अब में आपको अपनी स्टोरी सुनाता हूँ। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  मेरी बीवी प्राइवेट रंडी

हम लोग साथ में ही एक ही घर में रहते है और मेरा और मेरी बहनों का रूम एक ही है और मेरे मम्मी, पापा का एक रूम है जिस कारण से में बचपन से ही अपनी बहनों को देखता आ रहा हूँ। बचपन में जब में छोटा था तो कुछ गलत लड़को की संगति के कारण में सेक्स के बारे में जल्दी ही जान गया था, उस समय मेरी उम्र शायद 23 साल होगी और मेरी छोटी बहन की उम्र करीब 20 साल और सबसे छोटी वाली बहन की उम्र करीब 17 साल की होगी। अब सेक्स की जानकारी होने के कारण और गलत बुक्स और गलत दोस्तों के कारण मैंने मुठ मारना शुरू कर दिया था। इसी बीच मेरी छोटी बहन नामिता पर भी जवानी आ रही थी और में उसके तरफ आकर्षित होने लगा था। अब में जोश में कभी उसे गले से लगाकर उसके गोल-गोल संतरे जैसी चूचीयों का मज़ा लेता, तो कभी उसकी कमर पकड़कर उसकी गांड का मजा लेता था। वो छोटी होने के कारण इस हरकत को भाई का प्यार समझती थी, लेकिन में तो कुछ और ही मजा लेता था।

अब इसी बीच में कभी-कभी जब वो सो जाती तो में धीरे से उसकी स्कर्ट को उठाकर और उसकी सफ़ेद जाँघो और उसकी चूचीयों को चूमता और उसके होंठो को चूमता और उसके हाथ में अपने लंड को पकड़ाकर मुठ मारता था। अब वो नींद में होने के कारण जाग नहीं पाती थी और में धीरे-धीरे मज़े लेता रहता था। मुझे आज भी याद है जब मैंने पहली बार उसकी मस्त चूत को देखा था, वो उस दिन गहरी नींद में थी और में धीरे-धीरे उसके बगल में जाकर सो गया (हम लोगों का कमरा कॉंमन था मेरा मतलब मेरा और मेरी बहनों का) और धीरे से उसकी स्कर्ट को उठा दिया तो मैंने देखा कि उसकी मस्त जाँघ एकदम मुलायम थी। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी स्कर्ट को और ऊपर किया तो मैंने देखा कि नामिता ने ब्लेक कलर की पेंटी पहनी हुई है। अब में तो उसकी चूत देखना चाहता था इसलिए मैंने धीरे-धीरे उसकी पेंटी को नीचे किया तो मैंने देखा कि उसकी चूत पर एकदम हल्के-हल्के भूरे-भूरे बाल थे। अब में तो उसे देखते ही मदहोश हो गया था और उसकी चूत को चूमने लगा था।

Antarvasna Hindi Sex Story  मम्मी के बूब्स को चूसा

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत में अपनी एक उंगली डाली और अंदर बाहर करने लगा। उसकी चूत बहुत टाईट थी (उस समय उसकी उम्र करीब 18 साल होगी) अब में अपने एक हाथ की एक उंगली से उसकी चूत को चोद रहा था और एक हाथ से मुठ मार रहा था। फिर इसी तरह से दोस्तों में मज़े लेता रहता था और जब मेरा मन करता, तो जब वो सो जाती तो उसकी जवानी का मजा लेता रहता था। लेकिन में उसे चोद नही पा रहा था, क्योंकि में सोचता था कि कहीं वो जाग गई, तो वो घर में मम्मी, पापा से कह देगी इसलिए में हाथ से ही काम चला रहा था। फिर में हॉस्टल में पढ़ने चला गया और अब मुझे अपनी बहन से प्यार सा हो गया था। अब मुझे सब लड़कियों से ज़्यादा सेक्सी मेरी बहन ही लगती थी, क्योंकि मैंने उसे नंगे देखा था शायद इसलिए। फिर में जब भी छुट्टियों में घर पर आता, तो नामिता के सो जाने के बाद में मज़े लेता रहता था। अब मेरी बहन धीरे-धीरे जवान हो रही थी और में उसकी मस्त जवानी का दीवाना होता जा रहा था। में हमेशा जब भी हॉस्टल से घर आता तो में उसे चोदने के लिए सोचता रहता था और हॉस्टल में उसकी मस्त जवानी को सोचकर मुठ मारता रहता था, पता नहीं क्यों में नामिता की तरफ आकर्षित हो रहा था? जबकि सानिया भी जवान हो रही थी, लेकिन मुझे उसमें कोई रूचि नहीं आ रही थी। मेरी बहन मेरा शायद पहला प्यार बन गई थी। फिर एक दिन मैंने उससे अपने प्यार का इजहार कर दिया और उनसे भी कबूल कर लिया। उसके बाद हमारी चुदाई शुरू हो गई जो आज तक भी चल रही है। आज भी में अपनी बहन को खूब चोदता हूँ और हम दोनों खूब मजे लेते है ।।

Antarvasna Hindi Sex Story  गौरी की चूत की खुसबू

धन्यवाद …