सीनियर स्टूडेंट की चूत मारी

हैल्लो दोस्तों, ये मेरी पहली और सच्ची कहानी है और मैंने पिछले साल पॉलोटेक्निक में एड्मिशन लिया था Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai अब पहले दिन जब कॉलेज की बस स्टैंड पर रुकी तो में उसमें चढ़ गया और मेरे साथ 3-4 और भी नये स्टूडेंट्स थे। अब बस में कुछ सीनियर्स भी थे, वो सभी फ्रेशर की रेंगिग कर रहे थे और अब मेरा नम्बर आने ही वाला था कि एक लड़की जिसका नाम प्रिया था तो उसने मुझसे कहा कि यहाँ मेरे पास बैठ जाओ कोई कुछ नहीं करेगा। फिर मैंने उसकी बात मान ली और उसके पास बैठ गया। वो बी.टेक IIIrd ईयर की स्टूडेंट थी, इसलिए उससे किसी ने कुछ नहीं कहा। फिर वो रोज मेरे लिए सीट बचा देती और में उसी के साथ कॉलेज जाने लगा था।

फिर कुछ ही दिनों में मेरी उससे अच्छी दोस्ती हो गई। फिर एक दिन जब में बस में चढ़ा तो मैंने देखा कि वो बस में नहीं थी। फिर मैंने उसके नम्बर पर कॉल किया तो उसने कुछ देर के बाद रिसीव किया। फिर मेरे पूछने पर उसने बताया कि उसकी पीठ में दर्द हो रहा है। फिर उसने कहा कि आज घर पर कोई नहीं है और तुम ना जाने कैसे दोस्त हो? जो बीमार दोस्त को देखने भी नहीं आ सकते। फिर मैंने बुरा महसूस किया और उससे कहा कि में आ रहा हूँ। फिर में ये कहकर बस से उतर गया। अब में ऑटो करके उसके घर पहुँचा और डोर बेल बजाई तो प्रिया ने दरवाजा खोला। अब उसे देखकर में चौंक सा गया। उसने एक ब्लेक हाफ टी-शर्ट और शॉट्स पहने हुए थे। अब मुझे देखते ही वो मेरे गले लगी तो अब उसके बूब्स मेरे सीने से दब गये। फिर वो मुझे अंदर ले गई और फिर उसने मुझसे चाय के लिए कहा तो मैंने मना कर दिया। फिर हम दोनों बेड पर लेट गये और अब उसका सर मेरे हाथों पर था।

Antarvasna Hindi Sex Story  माँ के साथ लेस्बियन सेक्स किया

फिर मैंने उससे पूछा कि दर्द कहाँ हो रहा है? तो वो पेट के बल लेट गई और बोली यहाँ तो मैंने कहा कि में समझा नहीं, तो फिर उसने अपनी टी-शर्ट उठा दी। अब में उसकी पीठ पर अपना हाथ घुमाने लगा और कुछ ही देर में उसके रोये खड़े हो गये। फिर में धीरे-धीरे अपने हाथ उसके बूब्स पर ले गया और दबाने लगा तो वो मौन करने लगी। फिर मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए, अब वो मुझसे लिपट गई और हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे। अब 10 मिनट तक उसे चूमने के बाद मैंने उसकी टी-शर्ट उतार कर फेंक दी, उसने अंदर ब्रा नहीं पहनी थी। फिर मैंने उसके बूब्स पर किस किया। फिर उसके शॉट्स उतार दिए और अब वो सिर्फ़ पेंटी में थी, गोरे बदन पर ब्लेक पेंटी क्या लग रही थी? फिर मैंने उसकी पेंटी भी उतार दी। फिर उसने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिए, अब हम दोनों नंगे थे। फिर हम 69 की पोज़िशन में आ गये, अब वो मेरा 8 इंच लंबा लंड चूस रही थी और में उसकी मुलायम चिकनी, गुलाबी चूत को चूस रहा था।

फिर 15 मिनट के बाद उसने अपना पानी छोड़ दिया और जिसे में पी गया। फिर मैंने भी उसके मुँह में अपना वीर्य छोड़ दिया। अब मैंने उसे बेड पर लेटाया और उसकी टांगे फैला दी। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत के ऊपर रखकर रगड़ने लगा। फिर वो बोली प्लीज समीर तड़पाओ मत, अब अंदर डाल भी दो, मेरी प्यास बुझा दो। ये सुनकर मैंने उत्तेजित होकर उसकी चूत में एक ही बार में अपना लंड डाल दिया और उसकी चूत बहुत टाईट थी, जिस वजह से उसकी चीख निकल गई और आँखो में आँसू आ गये। ये देखकर में रुक गया, लेकिन वो बोली कि रूको मत तो में फिर से शुरू हो गया। अब वो चीखती रही। फिर कुछ देर के बाद वो नॉर्मल हुई तो अपनी गांड उछाल-उछालकर चुदवाने लगी। अब में बीच-बीच में उसे किस भी कर रहा था और उसके बूब्स को भी मसल रहा था। तभी उसने अपना पानी छोड़ दिया। फिर 35 मिनट के बाद मुझे लगा कि में भी झड़ने वाला हूँ। फिर मैंने उससे कहा कि में झड़ने वाला हूँ तो उसने कहा कि बाहर मत निकालना और में उसकी चूत में ही झड़ गया। फिर कुछ देर तक हम दोनों एक दूसरे से लिपटे रहे और किस करते रहे। फिर 10 मिनट में मेरा लंड फिर फड़फडाने लगा। फिर मैंने उससे कहा कि अब में तुम्हारी गांड मारूँगा तो उसने कुछ नहीं कहा और चुपचाप पलटकर अपनी गांड ऊपर उठाकर लेट गई।

Antarvasna Hindi Sex Story  दोस्त की बीवी की गांड में ऊँगली

फिर मैंने उसकी गांड पर थूक लगाया और जैसे ही अपना सुपाड़ा उसकी गांड के छेद पर रखा तो वो सहम गई। फिर मैंने एक झटके में ही अपना पूरा लंड उसकी गांड में डाल दिया। इस बार वो बहुत ज़ोर से चीख पड़ी और रोने लगी, लेकिन में नहीं रुका और तेज़ी से धक्के मारने लगा। अब उसकी गांड से खून बहने लगा था और वो रोए जा रही थी। अब में उसके बूब्स के साथ भी खेल रहा था। फिर 25 मिनट तक उसकी गांड मारने के बाद में अंदर ही झड़ गया और बेड पर लेट गया। अब वो मुझसे चिपक गई और मेरे सीने पर अपना सर रखकर लेट गई। फिर कुछ देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद वो बाथरूम में जाने लगी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  देवर की पिचकारी मेरी चूत में

अब उसको चला भी नहीं जा रहा था। फिर मैंने उसको गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया। फिर वहाँ हम दोनों फ्रेश हुए और बाहर आकर कपड़े पहने। फिर उसने मुझसे कहा कि तुम बैठो में खाना लगाती हूँ, लेकिन उसकी हालत देखकर मैंने उसे बैठने को कहा और पूछा कि किचन कहाँ है? फिर मैंने खाना लगाया। फिर वो उठकर मेरी गोद में बैठ गई और बोली कि अपने हाथों से खिला दो, तो मैंने उसके होंठो पर किस करते हुए कहा कि क्यों नहीं जान? फिर मैंने उसे खाना खिलाया और उसने मुझे खाना खिलाया। फिर में उसे रूम में ले गया। फिर वहाँ हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर लेट गये। फिर उसने मुझसे कहा कि आई लव यू समीर, तो मैंने भी उसके माथे पर किस करते हुए कहा कि आई लव यू टू प्रिया। फिर उसके बाद मैंने उसे रात में फिर से चोदा ।।

धन्यवाद …