परियों के साथ चुदाई का मजा

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम हैरी है और आज में आपके साथ अपना एक अनुभव शेयर करना चाहता हूँ। में 20 साल का हूँ और मेरा एक दोस्त सोनू है। उसका घर मेरे घर के पास में ही है, वो मेरा सबसे अच्छा दोस्त है। सोनू के चाचा उदमपुर गाँव में रहते थे, वो जून जुलाई की छुट्टियों में वहाँ जाता था। उसने मुझे भी साथ ले जाने की बहुत कोशिश की, लेकिन में पढाई में बिज़ी रहता है अपने असाइनमेंट्स पूरे करता था, लेकिन एक बार में उसको मना नहीं कर पाया। फिर हम दोनों उसके चाचा के पास चले गये, वो गाँव पहाड़ो में था, हर तरफ जंगल ही जंगल था, वहाँ बहुत कम लोग रहते थे। फिर वहाँ पहुँचकर उसने मुझे पूरा जंगल दिखाया, लेकिन शाम होने से पहले वो मुझे वापस ले आया इसका कारण था कि गाँव वाले मानते थे कि अगर रात को कोई जंगल में जाता है, तो उसे परियाँ उठाकर ले जाती है और वो कभी वापस नहीं आता है। फिर कई गाँव वालों ने ऐसी ही अपने घर में हुई घटनाओं की बात बताई, अब में तो डर गया था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर सोनू ने बताया कि वो परियाँ सिर्फ़ कुंवारे लड़के ही चाहती है और उसने बताया कि परियाँ लड़कों को उठाकर अपने पैलेस में ले जाती है और वहाँ वो उसके साथ सेक्स करती है। अब में डर गया था, लेकिन सेक्स की बात सुनकर वो भी परियों के साथ मुझे काफ़ी अच्छा लगा था। अब हम अंदर रज़ाई डालकर सो गये थे। अब में परियों के बारे में ही सोच रहा था तो मुझे पता ही नहीं लगा कि कब मुझे नींद आ गयी? तो मैंने सपने में देखा कि में और सोनू जंगल में है। अब रात हो गयी थी, अब हम वापस गाँव की तरफ चल रहे थे कि आसमान में एक सफ़ेद रंग की लाईट आई, अब हम डर गये थे। फिर थोड़ी देर के बाद जब रोशनी कुछ कम हुई तो मैंने देखा कि दो खूबसूरत लड़कियाँ सफेद ड्रेस में हमारे सामने खड़ी थी। मैंने ऐसी सुंदरता पहले ज़िंदगी में कभी भी नहीं देखी थी, वो परियाँ थी। फिर उन्होंने हम दोनों को पकड़ा और हमें आसमान में ले गयी, अब हमारी आखें बंद थी। फिर जब हमारी आँखें खुली तो हमने देखा कि हम पैलेस में है, वहाँ सोने-चाँदी का कीमती सामान था, वो पैलेस बहुत सुंदर था, तो तभी मुझे एक मीठी सी आवाज सुनाई दी।

राजकुमारी – उठो मेरे राजकुमारो, उठो।

वो सब परियों की राजकुमारी थी, वो गजब की सुंदर थी और बोली

राजकुमारी – डरो नहीं, हम तुम्हें कुछ नहीं करेंगे, लेकिन जब तुम हमारी बात मानोगे।

तो मैंने कहा कि मुझे सब मंज़ूर है, आप जो कहेगे में करने को तैयार हूँ।

राजकुमारी – अच्छा है, आज तुम हम सबको मजा दोगे।

फिर मैंने कहा कि हाँ में आप सबको अपना सब कुछ दूँगा जो भी आपको चाहिए, आप कह सकती है।

राजकुमारी – सहेलियों, दूसरे लड़के को जो ले जाना चाहती है ले जाए, लेकिन ये मेरा है।

तो तभी 3-4 परियाँ सोनू को उठाकर एक कमरे में ले गयी और दरवाज़ा बंद कर दिया।

Antarvasna Hindi Sex Story  मम्मी को चोदा

राजकुमारी – सुनो सहेलियों पहले में मजा लूँगी बाकी बाद में आना।

परियाँ – जो हुकुम आपका राजकुमारी जी।

राजकुमारी – तो सबसे पहले अपना नाम बताओं?

तो मैंने जवाब दिया – हैरी।

राजकुमारी – मेरा नाम यसमीन है।

तो मैंने कहा कि बहुत अच्छा नाम है जी।

राजकुमारी – अच्छा मेरा शरीर कैसा है?

तो मैंने कहा कि कपड़ों में तो आप सुंदर लग ही रही है, बिना कपड़ों के तो?

राजकुमारी – काफ़ी समझदार हो, चलो अपने ऊपर के कपड़े उतारो।

तो तभी मैंने अपने कपड़े उतार दिए।

राजकुमारी – चलो अपने नीचे के कपड़े भी उतारो।

फिर मैंने झट से अपने नीचे के कपड़े भी उतार दिए।

राजकुमारी – अच्छा है, चलो अब पूरे नंगे हो जाओ।

अब मेरा लंड खड़ा था, अब मैंने अपना अंडरवेयर भी उतार दिया। अब में सभी परियों के बीच में बिल्कुल नंगा खड़ा था।

फिर उसने मेरा खड़ा लंड देखकर कहा कि

राजकुमारी – तुम्हारा लंड बहुत अच्छा है, बहुत मजा आएगा।

अब में ये सुनकर गर्म हो गया था।

राजकुमारी – चलो अब मैंने तुम्हें खुला छोड़ा और अगर तुमने मुझे संतुष्ट किया तो तुम मरने से बच जाओगे, वरना?

मैंने बहुत सी ब्लू फिल्म देखी थी, मैंने कभी सेक्स तो नहीं किया था, लेकिन लड़कियों का माल कैसे निकालते है? मुझे पता था।

फिर में उसके करीब गया, अब में उसके शरीर में पूरा खो चुका था। फिर मैंने पहले उसे अपनी बाँहों में लिया और उसके पूरे बदन पर अपना एक हाथ फैरा, वाह कैसा मखमल का बदन था? यारों में बता नहीं सकता, रेशम सी गांड। फिर मैंने उसके होंठो से अपने होंठ चिपका लिए। अब हम दोनों की जीभ एक दूसरे से मिल रही थी। फिर मैंने बहुत कसकर किस किया, उसके होंठ मलाई की तरह थे जिससे मेरे होंठ फिसले जा रहे थे। अब मुझे एक परी के साथ किस करके बहुत मजा आया था। फिर मैंने उसके बूब्स को दबाया आहह क्या नाज़ारा था? गोल-गोल बूब्स, वो भी मखमल की तरह। फिर मैंने उन्हें दबाया और उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसकी निप्पल को स्पर्श किया। अब उसे बहुत मजा आ रहा था और ऐसी आवाजे कर रही थी।

राजकुमारी – आह, हाँ, आहह, उफफफफफफफफफफफफफफफ्फ।

फिर मैंने उसके ऊपर के कपड़े उतार दिए, वाऊ मजा आ गया नंगे बूब्स, गोरे-गोरे, गोल-गोल, बड़े-बड़े। अब मेरा तो पानी निकलने वाला था। अब में उसकी चूचीयों को चूसने लगा था। अब में एक-एक करके उसकी चूचीयाँ चूस रहा था। अब सभी परियाँ ये सब देख रही थी। अब मुझसे और रहा नहीं जा रहा था तो मैंने उसके नीचे के कपड़े भी उतार दिए तो मैंने एक अलग नजारा देखा, वाह क्या चूत थी? कोई बाल नहीं, कमसिन चूत लग रही थी, उसकी गांड तो और भी चाँद लगा रही थी। फिर मैंने उसे उठाकर पलंग पर लेटा दिया और उसकी पूरी बॉडी को चूमना शुरू कर दिया। अब उसे बहुत मजा आने लगा था और वो बोली

राजकुमारी – और चूसो और चूसो, आहह मजा आआआआ आ रहा है।

फिर मैंने उसकी चूत के छेद को चाटना शुरू कर दिया, तो वो तो गर्म हो गयी।

Antarvasna Hindi Sex Story  चुद गई नखरे वाली साली

राजकुमारी – मुझे ऐसा नज़ारा पहले किसी ने नहीं दिया, अब में तुम्हारी हूँ, मज़े से मेरी चूत मारो और खुद भी मजा लो।

अब मुझे जोश आ गया था तो मैंने कहा कि पहले मेरा लंड को चूसो, तो उसने मेरा लंड अपने मुँह में डाल दिया और अपना मुँह आगे पीछे करने लगी थी। अब मुझे बहुत मजा आ रहा था तो मैंने कहा कि और ज़ोर से चूसो मेरी रानी और ज़ोर से और फिर में उसका सिर पकड़कर धक्के मारने लगा। अब मेरा माल निकलने वाला था तो मैंने थोड़ी देर में ही उसके मुँह में अपना माल छोड़ दिया और वो मेरा पूरा माल पी गयी। फिर मैंने उसे घुमाया और उसकी गांड को देखा तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। फिर मैंने उसे अपनी टाँगें खोलने के लिए कहा और अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रख दिया।

राजकुमारी – डाल दो अंदर, मुझे मजा दो, मुझे चोदो, मेरी चुदाई करो।

फिर मैंने एक ही धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी मखमल सी चूत में चला गया। उसकी चूत बहुत मुलायम थी इसलिए मुझे बहुत मजा आ रहा था। अब मुझे एक परी की चूत मारकर बहुत मजा आ रहा था। अब में धक्के लगाए जा रहा था, अब में मजा ले रहा था उफफफफफफफ्फ, आह।

राजकुमारी – हाआआआअन, आहह, चुदाई करो और तेज मारो, हाआँ, आहह, म्म्ममममममम।

अब सभी परियों ने अपने कपड़े खोल दिए थे। अब में राजकुमारी के बूब्स दबा रहा था और बीच-बीच में उसके होंठो का रस भी पी रहा था, उसके निप्पल बहुत टाईट थे। अब में किसी बच्चे की तरह उसके दूध पी रहा था, एक परी के बूब्स का रस। अब वो भी अपनी गांड हिला-हिलाकर चुदवा रही थी। फिर मैंने उसको पकड़कर अपने ऊपर लेटा दिया। अब मेरा माल फिर से निकलने वाला था, लेकिन उसका एक बार भी नहीं निकला था। फिर में नीचे लेट गया और वो मेरे ऊपर आ गयी और में उसके चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से पकड़कर उसे ऊपर नीचे कर रहा था। फिर थोड़ी देर के बाद उसे भी समझ में आ गया और उसे मजा आने लगा। फिर वो खुद ही उछल-उछलकर मुझे चोदने लगी। अब मेरा माल निकलने लगा था तो मैंने उसकी चूत में ही अपना माल छोड़ दिया, लेकिन वो उछलती रही और मेरे गर्म माल को अपनी चूत के अंदर महसूस करके उसे बहुत मजा आया। फिर तभी मैंने देखा कि उसका शरीर अकड़ रहा है। अब में समझ गया था तो मैंने भी धक्के तेज-तेज लगाने शुरू कर दिए, तो थोड़ी देर के बाद उसका भी माल निकला और वो मज़े से चिल्ला उठी।

राजकुमारी – आहह मालल्ल्ल्ल्लल्ल्ल्ल आहहहहहह गई।

अब उसने अपना माल छोड़ दिया था। फिर जब उसका गर्म-गर्म माल मेरे लंड को लगा, तो मेरा लंड फिर से तन गया। अब में उसके जिस्म के नज़ारे लूटकर मदहोश हो रहा था। फिर तभी वो उठी और उसने कहा कि तुमने मुझे संतुष्ट किया है, तुम्हें जो माँगना है माँगो। अब में तो उसके बदन पर फिदा था और मुझे उसकी गांड चाहिए थी तो मैंने उससे कहा कि मुझे आपकी गांड मारनी है।

Antarvasna Hindi Sex Story  पत्नी और बहन चुद गई ट्रैन में

राजकुमारी – अच्छा, लेकिन मजा जरूर देना।

तो मैंने कहा कि में आपको इससे भी ज़्यादा मजा दूँगा और फिर मैंने कहा कि अपनी गांड मेरी तरफ करके लेट जाओ और अपनी गांड को ऊपर रखना, तो वो लेट गयी, तो मैंने पहले अपनी जीभ से उसकी गांड के रस का स्वाद लिया और जब उसकी गांड गीली हो गयी, तो मैंने अपना लंड उसकी गांड के छेद पर रख दिया। अब मेरा लंड एकदम तना हुआ था, फिर मैंने एक हल्का सा धक्का मारा।

राजकुमारी – आहह, धीरे-धीरे आआआहहहहहह।

फिर मैंने एक और धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड उसकी रेशम जैसी गांड के अंदर चला गया।

राजकुमारी – आहह में मर गयी, हाईईईईईईईईई धीरे।

फिर मैंने एक और धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड अंदर चला गया और मेरे मुँह से आहह, उम्म्म्मममम की आवाज़ें निकलने लगी।

राजकुमारी – आहह फाड़ दी मेरी गांड, धीरे आहह।

फिर में कुछ देर ऐसी ही रुका, तो उसकी गांड और मेरे लंड का मिलन ठीक तरह से हो गया और फिर में धीरे- धीरे अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा। अब उसे भी बहुत मजा आ रहा था।

राजकुमारी – हाँ आह चोदो मेरी गांड को, अभी तक मेरी गांड किसी ने नहीं मारी है, मजा दो, आह, आहह, आई लव यू, आहह मेरे राजकुमार मेरी गांड मारते रहो।

अब में ऐसा सुनकर और भी मज़े में आ गया था और उसके चूतड़ो को अपने दोनों हाथों से कस-कसकर धक्के मारने लगा था, आआआहहहहहहह क्या गांड है? मैंने ऐसी गांड पहले किसी की नहीं मारी थी, मेरी राजकुमारी ऐसी ही चुदवाओ मुझसे, आहह, आई लव गांड, आहह।

अब पच-पच की आवाजे आने लगी थे, मुझे सचमुच ही उसकी गांड बहुत अच्छी लग रही थी। अब वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। फिर मैंने देखा कि वो अपना पानी निकाल चुकी है, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और ज़ोर-ज़ोर से राजकुमारी परी की गांड फाड़ने लगा था और फिर कुछ देर के बाद मैंने अपना पूरा माल उसकी गांड के अंदर ही छोड़ दिया और फिर में उसके ऊपर ही लेट गया। फिर थोड़ी देर के बाद राजकुमारी उठी और बोली।

राजकुमारी – तुमने मुझे बहुत अच्छा चोदा है, कई सालों के बाद मेरी प्यास बुझी है, में तुमको छोड़ देती हूँ और इतना कहकर राजकुमारी अपने कमरे में चली गयी।

फिर बाकी परियाँ मेरे लंड के पास आ गयी, तो मैंने देखा कि वो 3 परियाँ थी। अब एक परी मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी, दूसरी मुझे अपने होंठो का रस पिला रही थी और तीसरी मेरी गांड को चाट रही थी। अब मुझे इतना माज़ा आया था कि मैंने उसके मुँह में ही अपने लंड का माल छोड़ दिया था। तो तभी मुझे सोनू की आवाज़ सुनाई दी।

सोनू – उठो हैरी, उठो, सुबह हो गयी है, जल्दी उठो यार, में तुम्हारे लिए चाय लाता हूँ।

अब में सोच रहा था कि यार क्या सपना था? वो सपना आज भी मुझे याद है ।।

धन्यवाद …