पड़ोसन के साथ डॉक्टर का खेल

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राणा है और में मुंबई का रहने वाला हूँ। आज में आपको मेरे बचपन की एक कहानी बता रहा हूँ। में जब 19 साल का था तो मेरे बाजू में एक फेमिली रहती थी, उसमें दो लड़कियाँ रहती थी। उनका नाम कला (20 साल) और छोटी का नाम तान्या (18 साल) थी। में और तान्या रोज़ खेलते थे। फिर एक दिन उनके घर में कोई नहीं था तो मैंने खेलते-खेलते तान्या से पूछा कि क्यों ना हम डॉक्टर का खेल खेलें? तो वो बोली कि ठीक है और मैंने डॉक्टर का रोल किया। फिर मैंने तान्या से कहा कि क्या हुआ? तो उन्होंने पेट की तकलीफ़ बताई और मैंने उसे बेड पर सीधा लेटा दिया और मैंने ऊपर से ही उसके पेट को दबाया और पूछा कि यहाँ दर्द है, तो उसने हाँ कह दी। फिर मैंने उसके टॉप ड्रेस को ऊपर किया और उसके पेट को दबाने लगा, तो वो कुछ नहीं बोली। तो मैंने उसको बोला कि आपको इंजेक्शन दूँगा, तो उसने राज़ी होकर अपने हाथ आगे कर दिए, तो मैंने उससे बोला कि कूल्हें पर, तो वो पहले तो थोड़ी शरमाई और फिर उल्टी हो गई।

फिर मैंने उसकी स्कर्ट को थोड़ा ऊपर किया, तो वो पिंक कलर की पेंटी पहनी थी, अब में उसकी ब्रा को देखता ही रह गया था। फिर तान्या बोली कि डॉक्टर साहब जल्दी से इंजेक्शन लगा दीजिए, तो मैंने हिम्मत करके उसकी पेंटी को थोड़ा सा नीचे कर लिया और हट गया और वापस चला गया और रातभर उसके बारे में ही सोचता ही रहा। फिर थोड़े दिन के बाद एक दिन हमारे घर के सब लोग किसी काम की वजह से बाहर गये और उनके घर में उनकी माँ को कुछ काम था, तो उन्होंने मुझसे बोला कि मेरी बेटी को बोल देना कि रात को लेट आऊँगी, तो में खुश हो गया। फिर जब तान्या घर आई, तो मैंने बोला कि तुम्हारी मम्मी रात को लेट आएगी, तो वो अंदर चली गई और फिर थोड़ी देर के बाद मुझे भी अपने घर में बुलाया, तो में चला गया। अब हम लोग खाना खाकर बातें करने लगे थे, तो तान्या ने मुझसे डॉक्टर का खेल खेलने को पूछा, तो में खुशी से राजी हो गया। फिर उसने बोला कि में अपने कपड़े बदलकर आती हूँ। फिर थोड़ी देर के बाद वो नाईटी पहनकर आ गई और हम फिर से शुरू हो गये।

Antarvasna Hindi Sex Story  तीन लंड लेकर हिरोइन बन गई

में : क्या हुआ?

तान्या : डॉक्टर साहब पेट में दर्द हो रहा है।

में : लेट जाओ, तो तान्या लेट गई।

फिर मैंने उसके कपड़े के ऊपर से ही उसके पेट पर अपना हाथ रखकर कहा कि यहाँ। तो उन्होंने कहा कि नहीं थोड़ा नीचे। फिर मैंने उनकी नाभि पर अपना हाथ रखा तो उन्होंने कहा कि थोड़ा और नीचे, तो में समझ गया कि तान्या मुझसे चुदवाना चाहती है तो मैंने कहा कि तुम्ही बोलो कि कहाँ दर्द है? तो उन्होंने शर्माकर मेरा एक हाथ अपनी चूत के थोड़ा सा ऊपर रख दिया और में खुश होकर बोला कि चैक करना है, तो वो लेटी ही रह गई। फिर मैंने उनकी नाइटी को थोड़ा सा ऊपर किया तो मैंने देखा कि उनकी जांघे बहुत सफ़ेद थी और फिर मैंने उनकी नाइटी को उनके पेट तक ऊपर किया, तो क्या नज़ारा था? फिर मैंने उनकी पेंटी पर अपना एक हाथ रखकर बोला कि यहाँ, तो वो चुप हो गई और में समझ गया कि वो थोड़ी गर्म हो गई है। अब मेरे उनकी पेंटी पर हाथ रखते ही मुझे 200 वॉट का झटका लगा था, अब में धीर-धीरे ऊपर से ही दबा रहा था।

फिर लगभग 10 मिनट के बाद वो बोली कि डॉक्टर साहब कभी-कभी मेरे बूब्स पर भी दर्द होता है। तो मैंने बोला कि तो आपकी पूरी नाइटी उतारो, तो वो बोली कि आप ही उतार दीजिए। फिर मैंने उनकी नाइटी उतार दी, तो उन्होंने ब्रा पहनी थी और उनके बूब्स थोड़े छोटे थे। फिर मैंने कहा कि तान्या तुम्हारा बूब्स छोटा है इसलिए आपको दर्द हो रहा है। फिर वो बोली कि अब क्या करूँ? तो मैंने बोला कि में बड़ा कर दूंगा और यह बोलकर उसके बूब्स को दबाने लगा। अब वो अऊऊऊ उूउउ की आवाज़े निकालकर सिसकियाँ ले रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद में अपने एक हाथ को उनकी पेंटी पर रखकर रगड़ने लगा और थोड़ी देर के बाद उनकी पेंटी के अंदर अपना एक हाथ डाल दिया। उसकी चूत पूरी गीली हो गई थी, क्योंकि वो उसका पहली बार था। फिर मैंने उनकी पेंटी पूरी उतार दी, वाह क्या नज़ारा था? उसकी चूत गीली होने के कारण चमक रही थी, तो मैंने उसको किस करना शुरू कर दी। अब में उसे किस करते हुए अपने एक हाथ से उनका एक बूब्स भी दबा रहा था और दूसरे हाथ से उनकी चूत को रगड़ने लगा था।

Antarvasna Hindi Sex Story  लिली एक पहेली

अब 15 मिनट के बाद वो गर्म हो चुकी थी, तो तब मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी और उनकी चूत इतनी टाईट थी कि उसे बहुत दर्द हो रहा था और अब वो मुझे मना कर रही थी, लेकिन मैंने उसे समझाया कि कुछ नहीं होगा और पहली बार ऐसा होता है और अपनी एक उंगली को उनकी चूत में अंदर बाहर करने लगा, तो वो उूउउ प्लीज़ राणा, नहीं प्लीज़ ऐसे बोले जा रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए तो वो मेरा लंड देखकर पूरी तरह से डर गई और चुदवाने से मना करने लगी। फिर मैंने कहा कि क्या हुआ? तो उसने कहा कि तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है और कुछ गड़बड़ हो गई तो में प्रेग्नेंट हो जाउंगी। फिर में उनकी बात समझकर उसे ऐसे ही रहने को बोलकर अपने कपड़े बदलकर बाहर जाकर 3 निरोध लेकर आया और उसने मेरे लंड पर 2 निरोध लगाए, तो मैंने पूछा कि 2 क्यों? तो उसने बताया कि तुम्हारा लंड तो इतना बड़ा है कि एक निरोध फट भी सकता है इसलिए। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर मैंने उसे बेड पर लेटाकर अपने एक हाथ से उनका पैर ढीला कराया और मेरा लंड उनकी चूत पर रख दिया तो मुझे स्वर्ग का आनंद मिला, तो तब मैंने उनकी चूत में मेरा लंड थोड़ा सा घुसा दिया। फिर उन्होंने दर्द से चीखकर मेरे लंड को बाहर निकाल दिया और बोली कि नहीं प्लीज़ मुझे छोड़ दो। फिर मैंने उसे समझाकर तेल की शीशी लेकर थोड़ा सा तेल उनकी चूत पर डाल, तो वो कुछ नहीं बोली और उसके बाद मैंने मेरी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी। फिर वो कुछ नहीं बोली और फिर उसके बाद में मेरी दूसरी उंगली को उनकी चूत में डालकर अंदर बाहर करने लगा, तो वो थोड़ी दर्द से रो रही थी। अब मेरी तीसरी उंगली उनकी चूत के अंदर नहीं जा रही, तो मैंने समझकर उसके लिप्स को चूसते-चूसते अपनी एक और उंगली उनकी चूत के अंदर डाल दी तो वो चिल्ला पड़ी, लेकिन मेरे उसे किस करने की वजह से उसकी आवाज़ बाहर नहीं निकली। फिर उसके बाद में मेरी तीनों उँगलियाँ उनकी चूत में अंदर बाहर करने लगा। अब वो भी धीरे-धीरे अपनी आँखें बंद करके मज़ा ले रही थी। फिर मैंने मेरी उंगलियाँ डालते-डालते धीरे धीरे उस पर चढ़कर अपनी उंगलियाँ बाहर निकालकर तुरंत अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया, तो वो थोड़ी सी चीख पड़ी। फिर में धीरे-धीरे अपना लंड उनकी चूत में अंदर बाहर करने लगा।

Antarvasna Hindi Sex Story  मेरी दहकती चूत

फिर 20 मिनट के बाद मैंने नीचे देखा, तो उनकी चूत में से थोड़ा खून भी बाहर आ गया था। अब उसे कुछ भी मालूम नहीं चला था, तो मैंने मेरे लंड से निरोध निकालकर फिर से अपना लंड उनकी चूत के अंदर डाल दिया और फिर हम दोनों मजे लेते रहे। अब वो भी गर्म होकर उूउउ हाईईईईई, सस्स्स्स्स्सस्स ऊऊऊऊ प्लीज़ और करो ऐसे कर-करके मेरा साथ दे रही थी और फिर थोड़ी देर के बाद वो झड़ गई और में भी उनकी चूत के अंदर ही झड़ गया, तो तब उसे समझ में आया कि मैंने निरोध निकाल दिया है। अब वो पूरी तरह से डर रही थी और वो खून देखकर पसीना-पसीना हो गई थी। फिर मैंने उसे समझाया कि कुछ नहीं होगा, तो तब वो शांत हो गई। फिर उसके बाद हम फ्रेश होने चले गये और अपने कपड़े पहनकर तैयार हो गये ।।

धन्यवाद …