माँ के साथ आगे की बात

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और मेरी माँ सेक्सी माल है और में उसे पटाकर एक बार चोद चुका हूँ। अब में अपनी स्टोरी को आगे की तरफ बढ़ाता हूँ। अब में और मेरी माँ डिनर करने के बाद बेड पर चले आए और मैंने बेड पर आते ही माँ को अपनी आघोश में ले लिया। फिर माँ मुझे किस करने लगी और बोली कि अब सो जा कल स्कूल भी जाना है। फिर मैंने कहा कि माँ एक बार और चोदने दो तो माँ बोली कि ओके बस एक बार। फिर में माँ की चूची दबाने लगा और उनको किस करने लगा। फिर कुछ देर के बाद में बेड पर बैठ गया और माँ को अपने लंड पर बैठा लिया और उनकी एक चूची पीने लगा और दूसरी चूची को दबा रहा था। अब मैंने बारी-बारी से उनकी दोनों चूचीयों को चूसकर और दबाकर लाल कर दिया था। अब मेरा लंड हार्ड होकर माँ की गांड में जा रहा था। अब माँ मेरे लंड को सहला रही थी और बोली कि तेरा लंड तेरे पापा से बड़ा है, तेरा ज्यादा लंबा है, लेकिन तेरे पापा का थोड़ा मोटा है। फिर मैंने पूछा कि माँ आपको पापा का लंड पसंद है या मेरा लंड पसंद है, तो माँ बोली कि मुझे तुम दोनों का लंड बहुत पसंद है।

फिर मैंने माँ से पूछा कि क्या में आपको पापा के साथ चोद सकता हूँ? तो माँ बोली कि में तेरे पापा से बात कर लूँगी, वैसे भी तुम दोनों बाप-बेटे आपस में दोस्त की तरह हो। फिर मैंने पूछा कि माँ क्या पापा तैयार होगें? तो माँ बोली कि हाँ वो तैयार हो जाएगें, जब तुम्हारे मेरे पापा साथ में होते है तो तब वो रात मे सोने के वक़्त मेरा पेटीकोट अपने हाथ से ऊपर कर देते है और जब में तुमको अपनी गोद में लेकर सोती हूँ तो वो कहते है कि बेटे से क्यों शर्माती हो? तो मैंने कहा कि ओके तब तो पापा तैयार हो सकते है, तो माँ बोली कि हाँ। फिर मैंने कहा कि चलो अब मस्ती करते है और फिर मैंने म्यूज़िक सिस्टम ऑन कर दिया और माँ की चूत में उंगली करने लगा, अब माँ मेरा लंड सहलाने लगी थी।

Antarvasna Hindi Sex Story  ट्रेन में चुदाई की बरसात

फिर मैंने माँ की चूत पर किस कर लिया तो माँ बोली कि अब अपना लंड चूसने दो। फिर मैंने कहा कि 69 पोजिशन करते है, तुम मेरे लंड चूसो और में तुम्हारी चूत चूसता हूँ। फिर में बेड पर लेट गया और माँ मेरे ऊपर आ गई। अब माँ मेरा लंड चूसने लगी थी और में उनकी चूत और साथ में उनके गद्देदार चूतड़ मसलने लगा था। फिर में अपने दूसरे हाथ से माँ की गांड में उंगली करने लगा तो माँ अपनी चूत मेरे मुँह पर रगड़ने लगी। फिर मैंने माँ से पूछा कि कभी गांड मराई है? तो माँ बोली कि नहीं। फिर मैंने माँ से पूछा कि क्या में तुम्हारी गांड मार लूँ? तो माँ बोली कि पहले मेरी चूत चोद ले, फिर मेरी गांड मारना। फिर मैंने माँ की गांड के नीचे एक तकिया लगा दिया और माँ के ऊपर आ गया।

अब में माँ की चूत में लंड डालने के बाद धीरे-धीरे चोदने लगा था और उनकी एक चूची अपने मुँह में लेकर पीने लगा था। अब माँ पूरी मस्ती में थी और बोली कि ज़ोर से चोद बेटा, मादरचोद फाड़ दे अपनी माँ की चूत। फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और बोला कि ले मेरी माल संभाल मेरे धक्को को। अब माँ भी नीचे से ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगी थी। अब पूरे रूम में पछ-पछ की आवाजे होने लगी। अब माँ उछल-उछलकर मेरा लंड अपनी चूत में डलवा रही थी और में भी अपनी कमर हिला-हिलाकर अपना लंड माँ की चूत में डाल रहा था। अब माँ की 37 साल पुरानी चूत मेरा 18 साल का जवान लंड बड़े मजे से खा रही थी। फिर थोड़ी देर तक तो माँ ने अपनी कमर उछाल-उछालकर अपनी चूत में मेरा लंड लिया और फिर माँ की चूत से पानी निकलने लगा तो माँ ने मुझे अपने से चिपका लिया, जिस वजह से मैंने धक्का मारना बंद कर दिया और माँ से चिपक गया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  गाँव वाली चाची की चुदाई

फिर कुछ देर के बाद माँ की सांसे सामान्य हुई और माँ मुझे किस करने लगी और बोली कि बेटा बहुत मज़ा आया। फिर में माँ के ऊपर से हट गया और उनकी चूत से निकले पानी को उनकी गांड में डालने लगा, जिससे माँ की गांड चिकनी हो गई। अब मेरा लंड माँ की चूत के पानी से चमक रहा था। फिर कुछ देर के बाद माँ पलट गयी और में माँ की गांड में अपना लंड डालने लगा और मेरा लंड फिट करके एक जोर का धक्का मारा तो मेरा थोड़ा सा लंड माँ की गांड में चला गया। फिर मैंने एक और धक्का मारा तो मेरा आधा लंड माँ की गांड में चला गया। अब माँ को दर्द होने लगा था तो माँ बोली कि बेटा आराम से गांड में अपना लंड डालो, नहीं तो मेरी गांड फट जाएगी। फिर मैंने एक और ज़ोर का धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड माँ की गांड के अंदर चला गया और माँ ज़ोर से चिल्ला पड़ी। अब माँ की आँखों में आँसू आ गये थे, फिर में उनके ऊपर लेट गया और उन्हें किस करने लगा।

Antarvasna Hindi Sex Story  आप को बिस्वाश नहीं होगा

फिर मैंने माँ से पूछा कि अपना लंड बाहर निकाल लूँ क्या? तो माँ बोली कि नहीं कुछ देर रूको, तुमने तो मेरी गांड की सील ही तोड़ दी है। फिर कुछ देर के बाद में माँ की गांड में धीरे-धीरे धक्के मारने लगा। अब माँ भी अपनी गांड ऊपर नीचे करने लगी थी और अब माँ को भी मज़ा आने लगा था, तो तब में माँ की दोनों चूचीयों को दबाते हुए धक्के मारने लगा। फिर मैंने माँ से पूछा कि माँ आपने पापा से गांड क्यों नहीं मरवाई? तो माँ बोली कि तेरे पापा को पसंद नही है। फिर मैंने पूछा कि माँ आपको गांड मरवाना पसंद है? तो माँ बोली कि पसंद है इसलिए तो तुझसे गांड मरवा रही हूँ। फिर मैंने अपने धक्को की स्पीड को तेज़ कर दिया और कुछ देर के बाद मेरा पानी माँ की गांड में ही निकल गया। फिर में और माँ साथ में एक दूसरे से चिपक कर सो गये ।।

धन्यवाद …