Indian Sex Stories दूध ही दूध

Indian Sex Stories दूध ही दूध -kahani hindi-1

जब मैं घर की तलाश कर रहा था एक स्कूल मे एक सिर थे उन्होने आपना घर मुझे ऑफर किया और मैं राज़ी हो गया गाव के घर के हिसाहब से वो काफ़ी अच्छा था उनका एक बाउंड्री था और उस बाउंड्री के अंडर 4 घर थे

जिसमे से एक मेरा था पहले पूसपा का घर, फिर संजू, फिर सुअजता और आख़िर मे मेरा और वहाँ टीन घरों मे यह तीनो देवियन रहती थी जिनकी कृपा से मेरा दूध पीने का शौक को कोई कमी नही हुआ लेट्स टॉक अबौट देम.

सुजाता एज-24 सेक्सी और हेल्ती जो की मेरे हाउस ओनर की बीवी थी जिसका एक बेटा था जिसको एक साल हो रहा था उनके घर मे टीन लोग रहते थे हाउस ओनर, सुजाता और हाउस ओनर‚स मोम जो की बहुत एज्ड थी हाफ-परलयज़ेड भी टीचर पूसपा एज-28 सेक्सी और थोड़ी मोटी जिसका हज़्बेंड देल्ही मे काम करता था उनके दो बाकछे थे एक 5 साल का और एक 2 साल की मुन्नी और आखरी दूध वाली थी संजुलता एज- 22 सेक्सी और सूपर हॉट जिसके हज़्बेंड की एक राशों की दुकान थी
मैं डेली बॅंक के लिए निकालता था और शाम होते ही घर आ जाता मैं क़िस्सी से ज़्यादा बात नही करता था क्यूंकी मैं मेरे घर के प़ड़ोष वाली भाबियों को बहुत मिस करता था और उनके दूध को भी.

पूसपा ने कहा अभी तो तुम्हारी शादी भी नही हुई और क्या घर के अंडर बेंड हो के रहते हो यह सुनकर मैं भी हासने लगा और मैने कहा ठीक है चलो आज आपके साथ बैठ कर बात करता हूँ.

मैं 4 बजे शाम को जब लौटा तो मैं आपने घर के लिए कुछ बिस्कट और स्नॅक्स ले आया था फिर मैने उनका प्लेट देखा तो सोचा की चलो उन्हे कुछ दे आते हैं और मैं प्लेट मे कुछ बिस्कट और थोड़े नमकीन डालकर उनके घर गया, मैने डरवाज़ा खटकतया.

मैने जो देखा उसके बाद मुझे कई रातों तक नींद नही आई. सुजाता बोलते हुए निकाल रही थी आज इतनी जल्दी आ गये वो आपने बच्चे के साथ बाहर आई एक साइड का ब्लाउस खुला था जिसपर बाकचा मज़े से दूध पे रहा था.

मुझे देखते ही वो पलट गयी और बोली मुझे लगा वो हैं मैने कहाँ मैं तो प्लेट देने आया था कह कर बाहर वाले कमरे की एक टेबल पर उसे रख के वहाँ से चले गया उष रात मुझे सिर्फ़ सुजाता के दूध की प्यास लग रही

मैं खुश तो बहोट हुआ की मुझे दूध मिल सकता है, पर कैसे? कई रातों तक मुझे वो सपना आ रहा था की मैं सुजाता के मम्मो से दूध पे रहा हूँ.

आख़िर कर वो दिन आ ही गया मेरे हाउस ओनर की एलेक्षन ड्यूटी प़ड़ गयी और उन्होने मुझे कहा की उनके घर मे थोडा हेल्प कर दुन जब उन्हे मेरी ज़रूरत हो और अबसे हर रात मैं उनके घर ही खाना खाया करूँ.

ई साइड ओक और वाज़ हॅपे जिस दिन वो गये मैं शाम को जब पहुँचा तो उन्होने मुझे आपने घर खाने के लिए बुलाया मैं गया और नॉर्मली बात करने लगा सुजाता की सास से और सुजाता खाना बना रही थी.

थोड़ी देर बाद वो आई और हम सूब बात करने लगे तभी बाकचा रोने लगा और सुजाता उसे देखने गयी, थोड़ी देर बाद वो ज़ोर से चिल्लाई साँप साँप तो मैं दौड़ के अंडर गया सुजाता बेड के उपर खड़ी हो गयी थी

आपने बचे के साथ और उसका एक साइड का ब्लाउस खुला हुआ था मैं उसके मम्मो को देख रहा था, तभी वो बोली उधर अलमारी के नीचे मैं एक डंडा लेने गया और जब लौटा तब भी वो उसी हालत मे थी उससे साँप का डर्र था आपने मम्मो के दिखने का बिल्कुल नही

मैने साँप को डरा के बाहर भगा दिया और बाकी लोग जो आवाज़ सुने थे वो लोग आके साँप को मार दिए मैं दुबारा उनके घर घुसा तो देखा की सुजाता वैसे ही आपने बेड पर खड़ी है मैं उसके पास गया और उसका हाथ पकड़ कर नीचे उतरा. kahani hindi

Antarvasna Hindi Sex Story  पति की साजिश मुझे चुदवाने की

वो काँप रही थी फिर मैने उसके बच्चे को उसके पालने मे लेटया और उसे कहा साँप चला गया वो मुझसे लिपट गयी उसके नंगे माममे मेरी छाती पर लग रहे थे उसे कुछ होश ही ना था, थोड़ी देर बाद वो संभाल गयी तो मे बाहर चले आया.

थोड़ी देर बाद हम लोग खाने के बैठे और खाना ख़तम किए फिर उसकी सास को उसके कमरे मे पहुँचा कर हम दोनो बात करने लगे. सुजाता ऐसे बिहेव कर रही थी जैसे कुछ हुआ ही नही, मैने भी उस बात पे और ध्यान नही दिया तभी बच्चा फिर से रोने लगा

सुजाता जैसे ही उठी मैने मौका पाके कह दिया फिर से तो नही चिल्लाओगी तो वो हास कर अंडर चली गयी. मैं बहुत देर तक बाहर बैठा रहा फिर मैं हिम्मत जुटा कर अंडर गया. मैने देखा की सुजाता आपने बच्चे को दूध पेला रही थी उसने कहा क्या हुआ मैने कहा प्यास लगी है तो वो बोली

पानी पिएँगे मैने कहा हाँ वो फिर आपने बच्चे को आपने मम्मो मे चिपका कर किचन मे गयी और पानी ले कर आई. मैं जब उसके हातों से ग्लास लिया तब मैं उसके मम्मो को देख रहा था और जब पानी पिया तब भी उसके मम्मो से मेरी नज़र नही हटी फिर मे बाहर आकर बैठ गया..

थोड़ी देर बाद सुजाता आई और बोली आप रात को जल्दी सो जाते हैं क्या मैने जवाब दिया नही तो वो बोली अच्छा है मुझे भी जल्दी नींद नही आती तो मैने कहाँ नींद नही आती या सिर सोने नही देते फिर हम दोनो हासने लगे वो बोली आप भी ना थोड़ी देर फिर इधर kahani hindi

उधर की बात करके मैं बोर हो गया तो मैने पूछा आप आपने बच्चे को दिन मे कितनी बार दूध पिलाती हैं वो बोली जब भी वो रोता है फिर वो बोली क्यूँ क्या कुआ मैने कहा बच्चे हमेशा भूख की वजह से नही रोते उनके अलग अलग कारण होते हैं वो गौर देने लगी जैसे

की पेट दर्द, या फिर सर दर्द या फिर गीले हो जाने पर वो थोड़ी बोल सकता है नहीं खाना हाइतो फिर वो बोली मुझे कैसे पता चलेगा मैं अंडर गया और उसके बच्चे को ले आया और उसे धीरे धीरे नींद से जगाया और सुजाता से बोला लो इसे अब दूध पेला के देखो.
उसने आपना एक साइड का ब्लाउस उतरा और आपने मम्मो से उसे दूध पिलाने की कोशिस की बच्चा कभी इधर तो कभी उधर आपना मूह फेरने लगा मैने कहा देखा अभी उसे भूख नही है तो वो मुस्कुराइ.

मैने आयेज बढ़ कर बच्चे को उसके मम्मो से दूर करने लगा उसी बहाने मैने उसके मम्मो पर थोडा हाथ भी फेर दिया जैसे की वो जान पाए मैं क्या चाहता हूँ वो कुछ नही बोली और आपने ब्लाउस के दो बटन ही बेंड किए और बाकी मेरे आँखों की प्यास के लिए चोद दिए.

मेरी प्यास मनो बढ़ गयी मैने कहा प्यास लगी है वो फिर से किचन जाने के लिए उठी तो मैने कहा नही और उसके मम्मो की तरफ इशारा किया वो मुस्कुराइ और अंडर चलने का इशारा किया.

हम दोनो बच्चे के साथ अंडर गये और मैं बच्चे को पालने मे रख कर बेड पे जाके लेट गया. सुजाता मेरे कमर के पास आकर बैठ गयी और आपना ब्लाउस उतार कर मेरे मूह के पास आपने मम्मो को पहुँचा दिया

मैं झट से उसके मम्मो को आपने मूह से चूसने लगा उसका दूध नहीकालने लगा और मैं प्यार से उसका दूध पीने लगा मैने दोनो मम्मो के दूध पेकर ख़तम कर दिए फिर मैं आपना हाथ उसके पेटीकोआट की तरफ लेने

लगा तो उसने कहा आज नही आज मेरा दिन ठीक नही है पेरियड्स पड़ीाब्लम, सेयेल अच्छे ख़ासे वक़्त को बिगाड़ देते हैं फिर मैने कहा हाथ से तो हिला दो तो वो हासने लगी मैने आपना लंड पेंट से बाहर निकला तो उसने उसे एक बार चूमा और उसे बड़े ही प्यार से हिलाने लगी मुझे बहोट मज़ा

Antarvasna Hindi Sex Story  दीदी की पेंटी का दीवाना

आया फिर जब मेरा रस नहीकालने का टाइम आ गया तो मैने उसके पति के लॅंडगी मे सब डाल दिया वो हास रही थी फिर मैने उसे चूम लिया और कहा कल सवेरे का नास्टा मुझे घर पर चाहिए वो बोली क्या खाएँगे मैं उसके मम्मो पर देखने लगा वो मुस्कुरा के बोली ठीक है.

दूसरे दिन सवेरे वो मेरे घर हलवा लेके आई, मैने बाहर की तरफ देखा कोई नही था तो उसे अंडर खीच लाया और डरवाज़ा बेंड कर दिया वो बोली क्या कर रहे हो मैने कहा नास्टा करूँगा वो बोली लो हलवा

मैने कहा दूध पेना है वो बोली हलवा खा लो फिर पे लेना मैने कहा नही एक साथ ही खाऑनगा और पेऊँगा उसे मैं आपने बेड पे ले आया और मैं दीवार से सात कर बैठ गया और 2 तकिये आपने जांघों पर रखा और उसे कहा आओ बैठो, वो आई और टाँग फैला कर तकिये कू उपर

बैठ गयी मैने उसका ब्लाउस खोला और आपना मूह उसके मम्मो पर लगाया और दूध चूसने लगा वो हलवा पकड़ी हुई थी मुझे एक बार हलवा खिलती और मैं फिर उसका दूध चूस्टा मज़ा आ जाता. ऐसे ही 15 मीं तक उसका

दूध पेता रहा और हलवा ख़ाता रहा घड़ी देखते हुए वो बोली बाकी खाना रात को मुझे मनो वक़्त का अंदाज़ा ना रहा मैं रुकना नही चाहता था पर वो जाना चाहता थी मैने सोचा एक दिन की खुशी से हर दिन की खुशी ज़्यादा बड़ी चीज़ है इसलिए मैने उसे जाने दे दिया.

शाम को आपना काम जल्दी ख़तम कर के मैं जब वापस लौटा और जब बाउंड्री के अंडर घुसा तो मैने एक नया स्कूटी गाड़ी देखा वो पूसपा ने खरीदा था उसका पति भी वहाँ था उसने मुझसे कहा की आपनी भाभी को थोडा गाड़ी सीखा देना मैं तो ज़्यादा दिन रहता नही हूँ मैने कहा

ओक और आपने घर मे घुस गया थोड़ी देर बाद जब अंधेरा हुआ तो मैं सुजाता के घर गया और मैने देखा की बुद्धि आपने कमरे मे लेती हुई है तो मैं सीधे सुजाता के कमरे मे घुस गया वो आपने बच्चे को दूध पेला रही थी

मैने घुस्से से उसकी तरफ देखा तो उसने मुस्कुरा के कहा यह दूसरा तुम्हारे लिए मैं खुश हो गया और मैं दौड़ कर उसका दूसरा साइड का ब्लाउस खोला और उसके मम्मो को दबाने लगा और थोड़ी देर बाद उससे दूध पीने लगा मैं बच्चे को देख रहा था की साला कितना दूध पेता

है मेरे लिए एक माममे का दूध कम पढ़ जाएगा, बाकचा सो गया और उसने बच्चे को साइड मे रखा और कहा अब यह भी तुम्हारा है मैने दूसरे मम्मो को पकड़ा और उसके नहीपल को आपनी उंगलियों से सहलाने लगा

वो बोली ऐसा मत करो कुछ कुछ होठा है पर मैं कहाँ सुनता मैं लगा रहा 30 मीं के बाद उसके दोनो मम्मो से दूध निकाल ना बेंड हो गया तो मैं उठ कर जाने लगा वो बोली क्या हुआ मैने कहा मुझे ज़्यादा दूध चाहिए, मेरी प्यास ख़तम नही होती वो हासने लगी और बोली

ठीक है अब मैं तुम्हे ज़्यादा दूध दूँगी फिर मैं आपने घर चला आया और आपना काम ख़तम कर के रात के खले लिए उनके घर गया. मैं जैसे ही पहुँचा वो मुझसे आ कर लिपट गयी और कहाँे लगी. बुद्धि सो गयी है

चलो मेरे कमरे मे चलें और मैने डरवाज़ा बेंड किया और उसके कमरे मे जाते ही मैने उससे नंगा कर दिया और कहा आज मैं कुछ नही सुनूँगा और मैं भी नंगा हो गया और मैने कॉंडम लगाया और मैने उससे कहा अब कुछ पड़ीाब्लम नही होगा और मैं उसके उपर चड़ गया

Antarvasna Hindi Sex Story  नामर्द की बीवी को चोदकर माँ बनाया

मैने करीब 30 मीं तक उसके साथ सेक्स किया और कहा अब तो मैं तक गया उसने कहा दूध पीने से ताक़त आ जाएगी मैं समझ गया और मैने उसके मम्मो को चूसा और सारा दूध ख़तम कर दिया और फिर थोड़ी बहोट बात करके आपने घर वापस चला आया.

दूसरे दिन सवेरे जब डरवाज़े की खटखटने की आवाज़ सुनी मैं दौड़ कर आपने शॉर्ट्स मे चला गया पर वहाँ पूसपा खड़ी थी और गाड़ी की चाबी दिखाने लगी मैने कहा ओक और मैं एक त-शर्ट पहेंकर वैसे ही शॉर्ट्स के अंडर नो अंडरवेर चल पड़ा.

मैने पूसपा को आयेज बिठाया और पेछे मैं बैठ गया, गाड़ी चलते वक़्त मैने उसके कंधे पर आपना सर रखा और कमर की तरफ से आपना हाथ आयेज करके गाड़ी की हॅंडल पकड़ी और कहा तुम भी पाकड़ो और गाड़ी स्टार्ट करके हम निकाल पड़े

मैं वैसा ही उसे पकड़ा रहा थोड़ी देर बाद मैने कहा अब मे चोदड़ रहा हूँ इतना सुनते ही गाड़ी हिलने लगा थोड़ी देर बाद गाड़ी लेफ्ट की तरफ घूमा और गिरने लगा मैने दोनो तरफ आपने पैर दे दिए और पूसपा जो की गिरने वाली थी अचानक से मेरे हाथ पेछे से उसके मम्मो के उपर चले गये और

मैने उससे संभाल लिया उसने कहा थॅंक योउ मैने कहा किसलिए बचाया इसलिए या पकड़ा इसलिए वो हासने लगी फिर वो बोली चलो फिर से ट्राइ करते हैं मैने कहा क्या गाड़ी चलना या पकड़ना वो फिर से हासने लगी और

बोली आप भी ना फिर क्या मैं उससे गाड़ी चलना सेखा था और मौका मिलते ही उसके मम्मो को पकड़ लेता गाड़ी चलते चलते जब सुका गांद बार बार मेरे लंड से सात रहा था तो मेरा लंड खड़ा हो गया वो जान गयी और बोली थोडा कंट्रोल कीजिए मैने कहा आप तो कंट्रोल

होने देती नही हम दोनो हासने लगे ऐसे ही मेरे ऑफीस जाने का टाइम हो गया मैने कहा चलो हो गया आज के लिए इतना ही तो वो कहाँे लगी गाड़ी चलना या पकड़ना मैं और वो दोनो हासने लगे फिर हम घर वापस आ गये और उसने मुझे नास्टे के लिए इन्वाइट किया थोड़ी देर बाद सुजाता मेरे घर आई और कहा नास्टा?

मैने कहा पूसपा ने बुलाया है वो गुस्से से लाल हो गयी फिर मैने उससे समझाया की मैं पूसपा को गाड़ी चलना सीखा रहा हूँ फिर वो थोडा सांत हुई और मैने उससे चूमा और कहा शाम को मेरे लिए दूध तय्यार रखना मैं जल्दी आऑनगा वो मुस्कुरके चली गयी.

मैं भी तय्यार होके पूसपा के घर गया उसके घर का डरवाज़ा खुला था मैं बिना नॉक किए अंडर घुस गया फिर मैने जो देखा उससे मेरी ख़ुसी का ठिकाना ना रहा पूसपा ब्रेस्ट-पंप इस्तेमाल कर रही थी दोनो मम्मो पर एक एक कप लगा हुआ था जो एक बॉटल के साथ कनेक्ट हुआ था और उसका

दूध मोटर से पंप होके बॉटल मे जा रहा था वो मुझे देखकर उठ गयी पर करती तो क्या करती मैं वहाँ से हिला भी नही वो मोटर बेंड की आपने मम्मो से कप को निकला और आपना ब्लाउस पहें कर अंडर चली गयी

मैं बाहर बैठा उस बॉटल को देख रहा था जिसमे पूसपा का दूध भरा हुआ था थोड़ी देर बाद वो आई तो मैं अंजान बनकर उससे सवाल पूछने लगा की वो क्या मशीन थी उसने कहा जो मा घर पर नही रहती वो इश्स मशीन से आपना दूध निकाल कर बच्चे के लिए चोदड़ कर चली

जाती है इससे बच्चा को भी कोई दूसरा खाना खाने की ज़रूरत महसूस नही होती मैने कहा मैने इससे पहले तो इसके बारे मे कहीं ना देखा और नही सुना वो बोली उसके हज़्बेंड ने ला दिया देल्ही से फिर उसने मुझे नास्टा दिया और मैं नास्टा करके जा ही रहा था की उसने कहा शाम को भी गाड़ी