गुलामी के साथ माँ की चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम संतोष Antarvasna है और आज में आपको अपनी माँ की चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ। मेरी माँ का नाम रजनी है और वो बहुत ही सुंदर औरत है। मेरी उम्र 18 साल है और मेरी माँ अभी 33 साल की है, में इंजीनियरिंग की पढाई कर रहा हूँ और मेरे पापा बिज़नेस के सिलसिले में बाहर ही रहते है। में अक्सर सुबह जल्दी उठकर पढ़ता हूँ और मेरी माँ देर रात से सोती है। मेरा कमरा बेसमेंट में है और में अधिकतर बेसमेंट में ही रहता हूँ। फिर एक दिन में रात को प्रॉजेक्ट पर काम कर रहा था तो में पानी पीने ऊपर आया, तो माँ के रूम की लाईट जल रही थी, तो में रूम में चला गया। मैंने देखा तो माँ टी.वी पर एडल्ट चैनेल देख रही थी और बिल्कुल नंगी बिस्तर पर लेटी अपनी चूत में उंगलियाँ कर रही थी। फिर में वहाँ 5 मिनट तक खड़ा रहा और मम्मी के गोरे बदन को देखता रहा। मम्मी के बूब्स ऐसे थे कि उनसे दूध पीने का मन कर रहा था, मम्मी की पतली कमर और सबसे सुंदर मम्मी की टांगे। अब मेरा लंड खड़ा हो गया था, लेकिन मैंने कंट्रोल किया और रूम की लाईट ऑन कर दी। फिर मम्मी ने एकदम से मेरी तरफ देखकर टी.वी ऑफ कर दी, लेकिन उनका गोरा बदन लाईट में चमक रहा था। मम्मी के पास अपना गोरा बदन ढकने के लिए कुछ नहीं था तो मम्मी ने मुझे वहाँ से चले जाने के लिए कहा।

अब मेरा हाथ मेरे लंड पर था तो मम्मी मेरे खड़े लंड को देखकर मुस्कुरा दी और देखते ही देखते मेरा रस निकल गया। अब मम्मी ज़ोर से हँसने लगी थी, तो में वहाँ से चला गया। फिर अगले दिन मम्मी स्कूल गयी तो आते समय मम्मी की स्कूटी पंचर हो गयी और मम्मी को 2 किलोमीटर पैदल स्कूटी लानी पड़ी तो इस कारण से मम्मी की टाँगे बहुत दर्द कर रही थी और मम्मी घर आकर सो गयी। फिर उसी दिन रात को पापा अपने एक बॉस के साथ आ गये, तो मम्मी ने मुझे रात में जागने को कहा। फिर रात को करीब 10 बजे में ऊपर आया तो मैंने देखा कि मम्मी, पापा और बॉस तीनों नंगे है और पापा मम्मी के पैर दबा रहे है और मम्मी और पापा के बॉस आपस में किस कर रहे है, तो में वहीं खड़ा रहा। फिर थोड़ी देर के बाद मम्मी ने पापा को बिस्तर से उतरने को कहा और अपने पैर बिस्तर से नीचे कर लिए और पापा मम्मी के पैर चाटने लगे। अब मम्मी ने अपने पैर पापा के मुँह में डाल दिए थे और पापा मम्मी के पैर चाटते रहे और बॉस मम्मी के बूब्स चूस रहे थे। फिर मम्मी ने पापा से पानी लाने को कहा तो पापा पानी लेकर आए और मम्मी के पैर धोकर वो पानी पीने लगे। अब मम्मी अपने एक पैर से पापा का लंड हिला रही थी और दूसरा पैर पापा के सिर पर रखा था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  नेहा की चूत का कुआं बनाया

फिर 15 मिनट तक पापा मम्मी के पैर चाटते रहे और बॉस मम्मी की चूत में उंगली करते रहे। फिर मम्मी ने पापा को ड्रिंक बनाने को कहा और पापा ड्रिंक बनाने के लिए चले गये। अब बॉस ने अपना लंड मम्मी की चूत में डाल दिया और 15 मिनट के बाद जब पापा ड्रिंक बनाकर वापस आए, तो तब तक बॉस ने अपना रस मम्मी की चूत में डाल दिया था। फिर वो तीनों ड्रिंक पीने लगे, अब बॉस और मम्मी तो बेड के ऊपर बैठ थे और पापा मम्मी के पैरों में बैठे थे और मम्मी ने अपने पैर पापा के सिर पर रखे थे। फिर ड्रिंक पीने के बाद मम्मी और बॉस तो सो गये और पापा मम्मी के पैर दबाने लगे और उन्हें चाटने लगे। फिर अगले दिन सुबह जब पापा वापस जा रहे थे तो मैंने देखा कि पापा तो मम्मी के पैर छू रहे है और मम्मी और बॉस किस कर रहे है। फिर पापा के जाने के बाद मम्मी मेरे पास आई और बोली कि तेरे पापा मेरे गुलाम है और अगर तू भी मेरा गुलाम बनेगा तो तुझे भी सब कुछ मिलेगा। फिर मम्मी चली गयी और मेरा दिमाग खराब हो गया।

Antarvasna Hindi Sex Story  पुलिस वाले ने गांड मार डाली

फिर रात को मम्मी मेरे कमरे में आई और उनके हाथ में तेल की शीशी थी। फिर मम्मी आकर मेरे सामने कुर्सी पर बैठ गयी और अपनी टांगे मेरे ऊपर रख दी और अपने पैरो से मेरे लंड को हिलाने लगी। फिर मम्मी ने मुझे अपनी टांगो की मालिश करने को कहा और बेड पर लेट गयी। फिर में मम्मी की गोरी-गोरी टाँगो को हाथ लगाने लगा और अब मेरे हाथ काँप रहे थे। फिर मम्मी ने अपना गाउन उतार दिया। अब मुझे मम्मी की टाँगे साफ-साफ दिख रही थी। अब मम्मी ने अपनी एक टाँग मेरे कंघे के ऊपर रख दी थी, जिससे मुझे मम्मी की चूत भी साफ-साफ दिखने लगी थी। अब मेरा लंड खड़ा हो गया था और मम्मी ने अपने दूसरे पैर से मेरे लंड को दबाकर रखा था और पैरो की मालिश करने को कहा, तो में मालिश करने लगा। फिर मम्मी ने अपना पैर मेरी नाक पर रखा, उनके पैरो की खुशबू इतनी अच्छी थी जैसे गुलाब की खुशबू हो और में मम्मी के पैर चाटने लगा और उनके पैर के अंगूठे को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और फिर उनके पैरो की उंगलियाँ चूसने लगा। अब में पूरी तरह से मम्मी का गुलाम बन चुका था। अब धीरे-धीरे में मम्मी की चूत को चाटने लगा था और उनके बूब्स दबाने लगा था। फिर में अपने कपड़े उतारकर मम्मी के साथ सेक्स करने को तैयार हो गया, लेकिन मम्मी ने मुझे पानी लाने को कहा, तो में पानी लेकर आया। तो मम्मी ने इशारा किया, तो में समझ गया और मम्मी के पैर धोकर वो पानी पीने लगा। फिर मम्मी ने मुझसे 1 घंटे तक अपनी टांगे दबवाई और अपने पैर चटवाए और उसके बाद मुझे चोदने दिया। अब घर में में और पापा साथ मिलकर मम्मी की पूजा करते है और उनकी गुलामी करते है और फिर मम्मी को चोदते है ।।

Antarvasna Hindi Sex Story  रुपाली गुलाबी रंग का पंजाबी वाला सूट

धन्यवाद …