आंटी की नंगी जवानी बाथरूम में

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मैंने चोदन डॉट कॉम की काफ़ी सारी कहानियाँ पढ़ी है और काफ़ी दिनों के बाद में अपना पहला अनुभव आप सब लोगों के साथ शेयर करने जा रहा हूँ। अब मेरी उम्र 30 साल की है और मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच है और मेरे लंड का साईज 8 इंच है, लेकिन ये बात तब की है जब मेरी उम्र सिर्फ़ 21 साल की थी और मेरे लंड का साईज 5-6 इंच का होगा। दोस्तों मेरे पापा सरकारी नौकरी में जॉब करते थे और एक बार उनका ट्रान्सफर हरियाणा के एक छोटे से कस्बे में हो गया, तो हम सब वहाँ शिफ्ट हो गये। वो घर बहुत छोटा था और उसमें बाथरूम और टॉयलेट एक साथ ही थे, यानि हमें मकान मालिक के साथ शेयर करना पड़ता था। हमारे मकान की फेमिली में अंकल जिनकी उम्र लगभग 35 साल की होगी, उनकी वाईफ लगभग 33 साल और उनकी एक बेटी थी जो 18 साल की थी। उनके टॉयलेट और बाथरूम में दरवाजे भी नहीं थे, सिर्फ़ एक पर्दा लगा रहता था और उस पर छत भी नहीं थी जैसा पहले होता था। उस घर की छत से बाथरूम का आधा हिस्सा दिखाई देता था।

फिर एक दिन दोपहर में स्कूल से आने के बाद में कुछ गर्मी महसूस कर रहा था तो में नहाने चला गया, मेरी आदत नंगा होकर नहाने की थी। अब नहाते समय मेरा लंड खड़ा हो गया था तो मैंने सोचा कि चलो क्यों ना मुठ मार ली जाए? मैंने कुछ दिनों पहले ही मुठ मारना शुरू किया था। अब जब में लास्ट समय पर था और मेरा बस जूस निकलने वाला था, तो तभी वो लड़की बाथरूम में आ गई, वो शायद हाथ मुँह धोने आई थी। अब में मुठ मारने में व्यस्त था तो मैंने ध्यान नहीं दिया, लेकिन जब मेरे लंड से जूस निकला, तो तभी वो बोली कि छी यहीं सू सू कर रहे हो और भाग गई। तो में हक्का बक्का रह गया और सोचने लगा कि अगर इसने घर में बता दिया तो। फिर तब में जल्दी से स्नान करके डर के मारे बाहर भाग गया और करीब 2 घंटे के बाद वापस आया। फिर तब आंटी सब्जी काट रही थी और वो लड़की (जिसको हम गुड़िया) कहते थे, वो पास में ही बैठी हुई थी और मेरी माँ मंदिर गई हुई थी। फिर गुड़िया मुझे देखते ही अपनी मम्मी से बोली कि माँ जीतू भाई बहुत गंदे है, वो स्नान करते हुए अपनी नूनी को हिलाते है और फिर वहीं पेशाब कर देते है, वो टॉयलेट में क्यों नहीं करते है? तो ये सुनकर मेरे पैरो के नीचे से जमीन निकल गई। अब में समझ गया था कि आज तो मेरी पिटाई होगी, लेकिन आंटी ने मुझे कुछ कहने के बजाए पहले गुड़िया को डाटा कि जब ये बाथरूम में थे, तो तुम अंदर क्यों गई? और ये किसी को नहीं बताना।

Antarvasna Hindi Sex Story  मुझे माँ के यार ने चोदा

फिर उन्होंने उसको कुछ सामान लेने शॉप पर भेज दिया और फिर मेरी तरफ देखते हुए बोली कि क्यों? क्या गुड़िया ठीक कह रही थी? तो में कुछ जवाब नहीं दे पाया और चुप रहा। फिर उन्होंने फिर से पूछा कि सच-सच बता दो वरना वो शिकायत करेगी। तो तब में बोला कि नहीं आंटी मैंने कोई सू-सू नहीं किया। तो वो बोली कि फिर क्या कर रहे थे? तो में चुप रहा। तो इस पर वो बोली कि अच्छा तो मुठ मार रहे होंगे, इस उम्र में लड़के ऐसा ही करते है। अब में मुठ की बात सुनकर दंग रह गया था, लेकिन उनसे बोला कि प्लीज आंटी ये माँ को मत बताना, में फिर कभी ऐसा नहीं करूँगा। फिर इस पर वो बोली कि इसमें बताना क्या है? सभी लड़के मुठ मारते है, लेकिन आगे से ध्यान रखना कोई तुम्हें पकड़े ना। फिर वो बोली कि क्या तुम्हें मुठ मारने में मज़ा आता है? तो मैंने कहा कि हाँ आंटी जब उससे कुछ निकलता है तो मुझे बहुत मज़ा आता है। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर तभी वो बोली कि किसमें से क्या निकलता है? तो में बोला कि नूनी में से। तो इस पर वो बोली कि अच्छा तो क्या अब तक तुम्हारी नूनी ही है? अब तक तो इसे लंड हो जाना चाहिए था। अब में उनके मुँह से लंड शब्द सुनकर दंग रह गया था। फिर वो बोली कि कोई बात नहीं आगे से ध्यान रखना और ज़्यादा मुठ भी मत मारना वरना कमजोर हो जाओगे। अब उस दिन के बाद से मुझे आंटी बहुत अच्छी लगने लगी थी, क्योंकि उन्होंने घर पर कुछ नहीं बताया था और गुड़िया को भी समझा दिया था। फिर इसके बाद तो में मुठ मारते हुए ध्यान रखने लगा, लेकिन फिर एक दिन जब में मुठ मारने के इरादे से बाथरूम में घुसा तो मैंने देखा कि आंटी वहाँ पहले से ही थी और रेजर से अपनी चूत के बाल साफ कर रही थी। मैंने लाईफ में पहली बार चूत देखी थी और में देखता ही रह गया था। फिर तभी उनका ध्यान मेरी तरफ गया, तो में झट से बाहर निकल आया। फिर में छत पर गया और बाथरूम में देखने की कोशिश करने लगा, लेकिन वो बैठी थी।

Antarvasna Hindi Sex Story  पूजा की चुदाई का उद्घाटन

फिर करीब आधे घंटे के बाद वो बाहर आई और मुझे अपने पास बुलाया। इस बार वो काफ़ी गुस्से में थी और बोली कि तुम बाथरूम में क्या कर रहे थे? तो मैंने कहा कि गलती हो गई, में मुँह हाथ धोने गया था, तो इस पर वो बोली कि जब तुमने मुझे देख लिया था तो तुम वापस क्यों नहीं गये? तो में कोई जवाब नहीं दे पाया। अब उस समय घर पर हम सिर्फ़ तीन ही लोग थे, यानि वो, गुड़िया और में। फिर वो बोली कि बोलो ना, तो मैंने कहा कि में समझ नहीं पा रहा था कि आप क्या कर रही है? इसलिए देखने लगा। तो तब वो थोड़ी मुस्कुराई और बोली कि तुमने मुझे नंगा देख लिया। तो मैंने कहा कि नहीं मैंने ऐसा कुछ नहीं देखा है। तो तब वो बोली कि क्या तुमने मेरी चूत नहीं देखी? तो मैंने कहा कि जानबूझकर नहीं देखी। तो इस पर वो बोली कि तुम्हें मेरी चूत देखकर कैसा लगा था? तो में बोला कि आंटी मुझे बहुत अच्छा लगा इसलिए में खड़ा हो गया था। फिर इस पर वो बोली कि चल भाग शैतान।

अब उस दिन के बाद से में मौके की तलाश में रहता था कि कब में अकेला रहूँ? और वो बाथरूम में जाए और में वापस से उनकी चूत देख सकूँ, लेकिन मुझे मौका ही नहीं मिल रहा था। फिर एक दिन वो टॉयलेट में गई, तो मुझे एक आइडिया आया और फिर 2 मिनट के बाद ही में अपने लंड को निकालकर टॉयलेट में पहुँच गया और जल्दी से सू-सू करने लगा, ऐसे जैसे मुझे पता ही ना हो वहाँ वो बैठी है। अब मेरा लंड टाईट था इसलिए मेरी धार सीधे उनके ऊपर गिरी। फिर तभी वो ज़ोर से चिल्लाई क्या कर रहे हो तुम? देख नहीं रहे में यहाँ हूँ। फिर मैंने कहा कि सॉरी आंटी मुझे ज़ोर से सू-सू आई थी इसलिए मैंने ध्यान नहीं दिया। अब तब तक उनकी निगाह मेरे लंड पर पड़ चुकी थी तो तभी वो बोली कि चल जल्दी से सू-सू कर और भाग, अब मुझे नहाना भी पड़ेगा। अब में एक बार फिर से उनकी चूत देख चुका था और मुझे पता था वो सीधा स्नान के लिए बाथरूम में आएगी, तो में पहले से ही बाथरूम में आ गया और अपनी पेंट निकालकर अपने लंड को सहलाने लगा था। फिर तभी थोड़ी देर में वो आई और मुझे देखकर बोली कि तू क्या कर रहा है? मैंने कहा था ना ज़्यादा मुठ मत मारना और ये क्या नूनी है? ये तो लंड है।

Antarvasna Hindi Sex Story  मम्मी चुद गई मेरी गलती से

फिर मैंने कहा कि आंटी मुझसे आपकी चूत देखकर रुका नहीं गया इसलिए। फिर तभी वो बोली कि ठीक है तुम जल्दी से मुठ मारो और यहाँ से भागो, मुझे स्नान करना है और वो अपने कपड़े निकालने लगी। फिर वो नंगी हो गई और में मुठ मारना बंद करके उन्हें ही देख रहा था। फिर तभी वो बोली कि क्या देख रहे हो? जल्दी से अपना काम करो और यहाँ से भागो, लेकिन उनकी नजर मेरे लंड पर ही चिपकी हुई थी, तो मैंने फिर से मुठ मारना शुरू किया। फिर वो बोली चल तुझे मुठ मारना भी नहीं आता, ला में तुझे सिखाती हूँ और ये कहकर उन्होंने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और ज़ोर-ज़ोर से ऊपर नीचे हिलाने लगी। अब उनके नर्म हाथ के स्पर्श से में और ज़्यादा उत्तेजित हो गया था और फिर जल्दी ही मेरे लंड ने अपना गर्म-गर्म लावा उनके ऊपर गिरा दिया, क्योंकि वो मेरे सामने ही बैठी थी। फिर वो बोली कि अब जाओ में नहा लेती हूँ। दोस्तों फिर ऐसे ही चलता रहा, लेकिन में उनको चोद नहीं पाया ।।

धन्यवाद …