छोटी चूत का असली मजा लूटा

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna में पहले आपको अपने बारे में बताता हूँ। में हैदराबाद का रहने वाला हूँ और मेरा नाम कुछ और है, लेकिन मेरे दोस्त मुझे हैरी बुलाते है। मेरे लंड का साईज़ 8 इंच लम्बा है और मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है। अब में कहानी शुरू करता हूँ। यह उन दिनों की बात है जब 10वीं क्लास में पढ़ता था। मेरे साथ कई लड़कियाँ पढ़ती थी, उनमें से एक थी सोनिया, जो मेरे घर के सामने रहती थी, वो दिखने में थोड़ी साँवली थी, लेकिन मासूम सा चेहरा था। मेरे एक दोस्त से उसका अफेयर था, जो मुझसे उम्र में थोड़ा बड़ा था। में और मेरा दोस्त अक्सर स्कूल की छत पर बैठकर अपना लंड देखा करते थे। उसका लंड मेरे लंड से बड़ा था और कुछ सफेद-सफेद सा निकलता भी था। फिर उसने मुझे बताया कि अपने हाथ से इसको रगड़ने से इसमें बहुत मज़ा आता है, अब में ऐसा ही करता था।

फिर एक दिन उसने मुझसे कहा कि चलो ब्लू फिल्म देखते है। तब मैंने कहा कि चलो और फिर हमने ब्लू फिल्म देखी। अब शिल्पी हॉल में जाकर मूवी देखने से मुझे रातभर नींद नहीं आई थी और मैंने बिस्तर पर लेटे-लेटे ही 2 बार मुठ मार दिया। खैर फिर मुझे अगले दिन बहुत अफसोस हुआ कि कितना माल गिर गया? लेकिन मज़ा भी बहुत आया था। अब अगले दिन में और मेरा दोस्त स्कूल में बातें कर रहे थे। अब सोनिया आगे वाली सीट पर बैठी थी, वो क्या कयामत लग रही थी? ब्लेक स्कर्ट पर वाईट शर्ट जिसमें से उसके छोटे-छोटे नींबू झांक रहे थे। अब में तो बस देखता ही रह गया था। फिर इतने में मेरे दोस्त ने मुझे सोनिया को घूरते हुए देख लिया। फिर उसने मुझसे पूछा कि क्या देख रहा था?

फिर तब मैंने कहा कि कुछ नहीं। तो तब उसने कहा कि सोनिया को मत देख, वो तेरी भाभी है। तब मैंने कहा कि क्या हुआ? भाभी तो माँ समान होती है। उस दिन के बाद मेरा दोस्त नाराज हो गया और मुझसे बात भी नहीं करता था। तब मैंने उससे कहा कि तूने लड़की के लिए दोस्त को छोड़ दिया, एक दिन यही लड़की तुझे छोड़ देगी और तू मेरे पास आएगा और मांफी माँगेगा। फिर उस दिन के बाद से में सोनिया को चोदने के बारे में सोचने लगा। में पहले पढ़ाई में बहुत कमज़ोर था, क्योंकि लड़कियों में मास्टर था, लेकिन मैंने खूब मेहनत से पढ़ाई की और क्लास में फर्स्ट आया, तो उसके बाद से सब लड़के लड़कियाँ मेरे आगे पीछे चलने लगे। अब सोनिया का भी घमंड कुछ कम हो चुका था और फिर उसने भी मुझसे बात करने की कोशिश की, लेकिन मैंने कोई भाव नहीं दिया। फिर ऐसे ही चलता रहा। अब में उसकी सहेलियों से खूब हँसी मज़ाक करता था, लेकिन जब वो बात करने की कोशिश करती, तो में उठकर चला जाता था।

Antarvasna Hindi Sex Story  बीवी ने नौकरानी को पति से चुदवाया

फिर एक दिन हमारे स्कूल में प्रोग्राम होने वाला था, उसका अभ्यास चल रहा था। मैंने भी एक डांस में पार्ट लिया था। अब सोनिया भी मेरे साथ डांस करने वाली थी, तो मैंने डांस करने से मना कर दिया। तो इस पर सोनिया को बहुत गुस्सा आया और फिर उसने मुझे स्कूल की छत पर बुलाया। फिर में थोड़ी देर के बाद ऊपर गया तो वो मुझे देखते ही रोने लगी। तब मैंने कहा कि रोने के लिए बुलाया था क्या? तो तब उसने कहा कि तुम मुझे इतना क्यों अनदेखा करते हो? में जब-जब बात करना चाहती हूँ तुम मुँह क्यों फैर लेते हो? और यह कहते–कहते वो और ज़ोर से रोने लगी। अब मेरे सब्र का बाँध टूट गया था तो तब मैंने कहा कि में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ। तब उसने कहा कि इतनी देर क्यों लगा दी कहने में? और यह कहते-कहते वो मेरे गले लग गयी। फिर पहले तो में बहुत इमोशनल हो गया, लेकिन तुरंत मुझे अपने दोस्त की कही बात याद आ गयी और फिर में उसको चोदने के लिए सोचने लगा और उसके बालों को सहलाते-सहलाते उसको अपनी बाहों में भर लिया और उसकी गर्दन को चूमने लगा था। तब उसने मना नहीं किया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी कमर में अपना हाथ डाल दिया और फिर मैंने उसको छोड़ दिया और उससे कहा कि मुझे माफ करना, में ये क्या कर रहा हूँ? लेकिन अब वो गर्म हो चुकी थी तो वो मुझसे लिपट गयी और कहने लगी कि कर लो जो तुम करना चाहते हो। अब हरी झंडी मिलते ही में उसे साईड में ले गया, जहाँ कोई आता जाता नहीं है। फिर मैंने उसके होंठो को चूमना शुरू किया, तो वो भी मेरे होंठो को चूसने लगी। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी शर्ट के बटन खोले तो उसने अपने सीने को अपने हाथों से ढक लिया। फिर मैंने उसे और ज़ोर से चूमते हुए धीरे से उसके हाथ हटाए और उसकी शर्ट उतार दी। उसने अंदर सिर्फ़ समीज पहन रखी थी। फिर मैंने उसकी समीज उतारी ऊफ क्या चूचीयाँ थी उसकी? अब में तो बस पागल ही हो रहा था। अब मेरा लंड बिल्कुल मस्त होकर मेरे अंडरवेयर के बाहर आने को बेताब था।

Antarvasna Hindi Sex Story  बिहारी चिकनी चूत को चोद के लाल बनादिया

फिर में पागलों की तरह उसकी चूचीयों को चूसता रहा और वो आआहह, ऊहह, उहह की आवाज़ें निकाल रही थी। फिर मैंने उसका स्कर्ट उतारा तो मैंने देखा कि उसने अंदर कुछ नहीं पहना था, ऑश क्या पिंक चूत थी? और थोड़ी गीली भी हो चुकी थी। फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी, जिससे उसे दर्द होने लगा था। फिर में थोड़ी देर रुककर अपनी उंगली को आगे पीछे करने लगा। अब उसे भी मज़ा आ रहा था। फिर उसने मेरे बदन को सहलाते हुए मेरे लंड को मेरी पेंट के ऊपर से ही पकड़ लिया। अब मेरा लंड फुल फॉर्म में था। फिर मैंने अपनी पेंट उतारी और मेरा अंडरवेर भी उतारा तो मेरा लंड सांप की तरह लहराता हुआ बाहर आ गया, जिसे देखकर वो डर गयी थी। फिर मैंने अपना लंड उसके एक हाथ में दे दिया, जिसे वो बड़े प्यार से सहलाने लगी थी। अब में बिल्कुल पागल होने लगा था। फिर उसने मेरे लंड को अपने मुँह में डाल दिया और चूसने लगी। फिर हम 69 पोज़िशन में हो गये।

अब में उसकी चूत को चाट रहा था और वो मेरे लंड को चूस रही थी। फिर थोड़ी देर में उसने अपना पहला पानी मेरे मुँह पर ही छोड़ दिया, जिसे में पूरा चाट गया था और तभी मेरे लंड से भी बौछार निकाल पड़ी, जिसे उसने पूरा चाट लिया था। फिर हम सीधे हो गये और फिर मैंने अपना लंड उसके हाथ में दिया, जिसे वो चूसने लगी थी और अब में अपनी एक उंगली उसकी चूत में डालकर हिला रहा था। फिर थोड़ी देर के बाद हम दोनों फिर से गर्म हो गये। अब उसकी चूत भी गीली हो चुकी थी। फिर में अपने लंड को उसकी चूत पर रखकर रगड़ने लगा तो तब उसने कहा कि अब डाल दो, मत तड़पाओ। फिर जैसे ही मैंने अपने लंड का टोपा उसकी चूत में डाला तो उसकी आँखों में आँसू आ गये। फिर मैंने अपने लंड को वैसे ही रखे रखा और उसकी चूचीयों को चूसने लगा।

Antarvasna Hindi Sex Story  नौकरी में चोदने को मिली छोकरी

फिर कुछ देर के बाद जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने एक ज़ोर का झटका मारा तो मेरा लंड उसकी कुँवारी चूत को फड़ता हुआ अंदर पहुँच गया और वो चिल्लाने लगी आह में मर गयी, बचाओ-बचाओ मर गयी। तब मैंने अपने एक हाथ से उसका मुँह बंद किया कि कोई सुन लेगा तो बहुत बुरा होगा। फिर थोड़ी देर तक हम ऐसे ही लेटे रहे। फिर जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने अपने लंड को आगे पीछे करना शुरू किया। अब उसे भी मज़ा आ रहा था। अब वो भी अपनी गांड को हिला-हिलाकर चुदाई का मज़ा ले रही थी। फिर इसी तरह से करीब 30 मिनट तक चुदाई चली और वो झड़ गयी। अब में भी झड़ने वाला था। फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह में रख दिया और वो उसे चूसने लगी और अब मेरा सारा वीर्य उसके मुँह में गिर गया था। अब इस तरह से हम अक्सर चुदाई करते थे और फिर उसने मेरे दोस्त से बात करना भी बंद कर दिया। फिर हम दोनों को जब कभी भी कोई मौका मिला तो हमने उस मौके का भरपूर फायदा उठाया और खूब मजा किया ।।

धन्यवाद …