सेक्सी रानी की गांड फाड़ी

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम आदित्य है। में 19 साल का हूँ और में मथुरा में रहता हूँ और बी.एस.सी कर रहा हूँ। में चोदन डॉट कॉम की सभी स्टोरियों को बहुत दिनों से पढ़ रहा हूँ। में जब हाई स्कूल में था तो तभी से मुझे सेक्स की कहानियां और बुक्स पढ़ने और देखने की आदत पड़ गयी और फिर थोड़े दिनों के बाद में ब्लू फिल्म भी देखने लगा। दोस्तों और सहेलियों अब में आपका ज़्यादा वक़्त ना लेते हुए अपनी इस रियल स्टोरी पर आ जाता हूँ। ये स्टोरी मेरी और मेरे साथ की एक लड़की की है जिसका नाम रानी था, जो पहले तो मुझसे बात नहीं करती थी, दरअसल वो मेरी बहन की सहेली थी। मेरी बहन मुझसे उम्र में बड़ी है और रानी भी मुझसे 1 साल बड़ी है। अभी कुछ महीने पहले मेरी बहन की शादी हो गयी, तो उसने भी आना कम कर दिया और जब मेरी बहन अपने ससुराल से आती तो तभी वो आती थी। चूँकि में कंप्यूटर का डिप्लोमा भी कर रहा हूँ तो एक दिन उसने मुझसे कहा कि में उसे भी कंप्यूटर सिखा दूँ। तो तब मैंने कहा कि आ जाया करो।

फिर अगले दिन से वो मेरे पास कंप्यूटर सीखने आने लगी और में उसे सिखाने लगा था, लेकिन वो अकेली पढ़ने वाली थी इसलिए में उसे मेरे बेड पर ही बैठाकर सिखाने लगा था, फिर सिखाते वक़्त कभी- कभी मेरे शरीर का कुछ हिस्सा उसके शरीर से टच हो जाया करता तो मुझे बड़ा करंट सा लगता और अब में उसे चोदने के सपने देखने लगा था। अब मेरी बड़ी इच्छा होती कि में उसके साथ सेक्स करूँ, लेकिन मुझे डर लगता था, क्योंकि मैंने कभी भी किसी के साथ सेक्स नहीं किया था, लेकिन दिल है कि मानता ही नहीं था। में पिछले 6 सालों से रोज मुठ मारता आया हूँ और मैंने इतनी ब्लू फिल्म देखी है कि अब मुझे सिर्फ़ सेक्स करने से ही संतुष्टि मिल सकती थी। अब में उसे कभी-कभी उसके बूब्स पर भी टच कर लिया करता था।

फिर एक दिन मेरे घर के सभी लोग घर से बाहर किसी शादी में गये हुए थे, रानी मेरे पास शाम को 6 बजे कंप्यूटर सीखने आती थी। में शादी और पार्टी में कम ही जाता हूँ, क्योंकि मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता है, इसलिए में उस दिन भी नहीं गया था। फिर उस दिन भी रानी अपने टाईम पर ही आई और बोली कि आज कंप्यूटर नहीं सिख़ाओगे? तो तब मैंने कहा कि क्यों नहीं सिखाऊँगा? और फिर हम मेरे रूम में चल दिए और में उसे चोदने के सपने देखने लगा। वो उस दिन ज़्यादा ही सजकर आई थी। तो तब मैंने उससे पूछा कि आज इतना मेकअप क्यों करके आई हो? तो तब वो बोली कि बस ऐसे ही। अब इससे पहले में आपको सभी को बता दूँ कि उसका उसके बॉयफ्रेंड से अभी-अभी ब्रेकअप हुआ था।

Antarvasna Hindi Sex Story  दीदी की मस्त जवानी को मामा ने लूटा

अब में उसे सिखाने लगा था, लेकिन उसे माउस में दिक्कत हो रही थी, तो में उसका हाथ पकड़कर सिखाने लगा, तो तभी मेरे हाथ उसके बूब्स से टच होने लगे थे। अब मुझे मज़ा आने लगा था और फिर में उसे ऐसे ही सिखाता रहा। फिर थोड़ी देर के बाद वो मुझसे अलग हो गयी और फिर हम नॉर्मल हो गये। तभी उसने पूछा कि तुमने अभी तक फीस के बारे में तो बताया ही नहीं। तो तब मैंने कहा कि उसकी जरूरत नहीं है, बस तुम मेरी एक मैटर में मदद कर दो। तो तब उसने कहा कि क्या? तो तब मैंने उससे कहा कि क्या तुम मेरे साथ सेक्स करना पसंद करोगी? तो वो सन्न रह गयी और बोली कि में सोचकर बताऊँगी। तब मैंने कहा कि अभी बताओ। तो तब वो बोली कि किसी को पता चल गया तो? तो तब मैंने कहा कि जब हम किसी को बताएँगे तभी तो पता चलेगा। तब वो बोली कि ओके, में तैयार हूँ और फिर में उसे बिना देखे समझे उसके लिप्स पर किस करने लगा। पहले तो वो थोड़ी कसमसाई, लेकिन बाद में मान गयी और अपने आपको ढीला छोड़ दिया था।

फिर हम 5 मिनट तक किस करते रहे। फिर उसके बाद मैंने उसकी गर्दन पर किस किया और इस बीच मैंने उसका कुर्ता अलग कर दिया था। अब वो सिर्फ ब्रा में थी और फिर जल्दी ही मैंने उसकी ब्रा और सलवार भी उतार दी। अब में अपने एक हाथ से उसके बूब्स दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसकी चूत को सहला रहा था और साथ ही साथ किस भी कर रहा था। फिर में उसके बूब्स पर टूट पड़ा, क्या बूब्स थे उसके? बड़े-बड़े और गोल-गोल। में आपको बता दूँ कि शुरुआत से मुझे बड़े बूब्स की लड़कियाँ और औरतें पसंद है और में शुरुआत से उन्हें ही चोदना चाहता था। अब में उसके बूब्स चूस रहा था और वो आहह, ऊहह की आवाज़े निकाल रही थी, जिससे मुझे और भी जोश आ रहा था और अब में उसके बूब्स बड़ी मस्ती से चूस रहा था।

फिर आधे घंटे तक उसके बूब्स चूसने के बाद में नीचे की तरफ आया और उसकी गीली चूत पर अपनी जीभ रख दी, क्या गर्म और नाज़ुक चूत थी उसकी? उस दिन मज़ा आ गया था। फिर मैंने उसकी चूत की फांको को अलग किया और चूसने लगा, जिससे मेरा 8 इंच का लंड तनकर खड़ा हो गया था। तभी वो बोली कि मेरा सब कुछ चूस लोगे और में क्या प्यासी रहूँ? तो तब मैंने कहा कि ओके और फिर हम 69 की पोज़िशन में आ गये। अब वो मेरे लंड को और में उसकी चूत को सक कर रहे थे। अब इस दौरान वो दो बार झड़ गयी थी। फिर मुझसे भी नहीं रहा गया और फिर मैंने उससे कहा कि में आ रहा हूँ। तब वो बोली कि मेरे मुँह में ही आना और फिर मैंने अपना सारा माल उसके मुँह में ही छोड़ दिया और एक तरफ लेट गया था। तब वो बोली कि अब मुझसे नहीं रहा जा रहा है। फिर तब मैंने कहा कि मेरे लंड को और चूसो और जब मेरा लंड फुल फॉर्म में आ गया तो तब मैंने कहा कि अब तैयार हो जाओ। तो तब वो बोली कि में तैयार हूँ। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  रोजाना की मस्त वाली चुदाई

फिर में उसकी दोनों टागें फैलाकर उसके बीच में आ गया और अपने लंड का सुपड़ा उसकी चूत पर रखकर एक धक्का लगाया तो मेरा लंड 2 इंच अंदर चला गया और उसकी आँखों में आसूं आ गये। तो तब वो बोली कि आह बहुत दर्द हो रहा है, उसकी चूत काफ़ी टाईट थी। तब मैंने कहा कि अभी थोड़ी देर में दर्द कम जाएगा और फिर उसके मुँह पर अपना एक हाथ रखकर एक जोरदार शॉट लगाया तो मेरा लंड 6 इंच तक अंदर चला गया और वो छटपटाने लगी थी। अब में उसे धीरे-धीरे चोदने लगा था। फिर लगभग 10 मिनट के बाद वो नॉर्मल हो गयी और अब उसे भी मज़ा आने लगा था और अब वो अपनी गांड उचका-उचकाकर अपनी चूत में लंड डलवाने लगी थी और बोली कि फाड़ दो मेरी इस रंडी चूत को, जो रात में मुझे सोने नहीं देती है। फिर मैंने उसे 25 मिनट तक चोदने के बाद अपना वीर्य उसकी चूत में डालने की बजाए उसके बूब्स पर गिरा दिया, क्योंकि वो अभी कुँवारी थी और में कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था। हालाँकि इस दौरान वो 4 बार झड़ चुकी थी, परंतु वो बोली कि मुझको एक बार और चोदो। तो तब मैंने उसकी चूत में अपना लंड डालकर उसे फिर से चोदा और फिर थोड़ी देर के बाद वो पाँचवी बार झड़कर ढेर हो गयी और में भी वहीं लेट गया था।

फिर हम बाथरूम में गये और फिर वहाँ हमने पेशाब किया और एक दूसरे को देखकर मुस्कुराए और फिर मेरे रूम में आ गये। फिर वो बोली कि अब में चलती हूँ। तो तब मैंने कहा कि अभी कहाँ? तो वो बोली कि माँ घर पर इंतजार कर रही होगी। तब मैंने कहा कि अभी रूको और उसके घर पर फोन करके कह दिया कि आंटी अभी रानी को आने में देर लगेगी और क्लास लंबी चलेगी, चूँकि उसकी माँ मुझे जानती थी तो इस वजह से उन्हें मुझ पर भरोसा था, क्योंकि में भी अक्सर उनके घर जाता था इसलिए उन्होंने हाँ कर दी थी और मेरे मज़े आ गये थे। फिर मैंने उससे कहा कि चलो घोड़ी बन जाओ। तो वो बोली क्यों? ऐसे ही ठीक है। तब मैंने कहा कि अब में तुम्हारी गांड मारूँगा। तब वो बोली कि नहीं उसमें बहुत दर्द होगा। तब मैंने कहा कि सारा दर्द गायब हो जाएगा जैसे चूत में हो गया है, लेकिन वो नहीं मानी।

Antarvasna Hindi Sex Story  एनआरआई कजिन की चूत का स्वाद

फिर तब मैंने उसे जबरदस्ती घोड़ी बना दिया, तो पहले तो उसने विरोध किया, लेकिन फिर उसने मेरे आगे हार मान ली और बोली कि पहले इसे गीला तो कर लो। तब मैंने कहा कि ओके और अपना ढेर सारा थूक उसकी गांड पर डाल दिया और अपने लंड को भी गीला करके उसकी गांड पर अपना लंड रखकर एक धक्का मारा और अपना लंड 3 इंच उसकी गांड में पेल दिया तो वो दर्द के मारे बुरी तरह से रोने लगी, लेकिन अब में कहाँ मानने वाला था? और फिर अपना लंड पीछे ले जाकर एक धक्का और लगाया और अपना 8 इंच लंबा लंड पूरा का पूरा उसकी गांड में घुसेड दिया। तब वो बोली कि निकाल कुत्ते इसे मेरी गांड में से, वरना मेरी गांड फट जाएगी, लेकिन में नहीं रुका और उसकी गांड मारता ही रहा।

फिर 10 मिनट तक गांड मरवाने के बाद उसे भी मज़ा आने लगा और अब वो ज़ोर-ज़ोर से अपनी गांड मरवाने लगी थी। अब वो मुझे गालियाँ देने लगी थी मार भोसड़ी के, मादरचोद, बहनचोद, मार अपनी इस रंडी की गांड, मार और भुर्ता बना दे इस रंडी की गांड का। फिर में उसकी गांड मारता रहा और वो मरवाती रही। फिर लगभग 45 मिनट के बाद हम दोनों शांत पड़ गये और में उसके बूब्स चूसने लगा था। फिर थोड़ी देर के बाद वो उठी अपने कपड़े पहनने लगी। अब मुझमें ताकत कम ही थी तो तब मैंने उससे कहा कि कल आओगी। तो वो बोली कि नहीं, पहले अपनी इस चूत और गांड की सूजन उतार लूँ तभी आ पाऊँगी। तो तब मैंने कहा कि जैसी तुम्हारी मर्ज़ी और फिर उसने मुझे किस किया और चली, तो तभी वो लड़खड़ाने लगी तो में उसे सहारा देकर घर से बाहर तक छोड़कर आया और फिर वो मुस्कुराती हुई चली गयी और फिर में वापस घर में अंदर आकर लेट गया। फिर आधे घंटे के बाद मेरे घरवाले भी आ गये और फिर में खाना खाकर सो गया और मीठे-मीठे सपने देखने लगा। फिर मुझे आगे भी जब कभी भी मुझे कोई मौका मिला तो तब मैंने उसकी जमकर चुदाई की और हम दोनों ने खूब मजा किया ।।

धन्यवाद …