अनजान औरत के साथ चुदाई का मजा

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम संजय है, में चेन्नई का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र 24 साल है। दोस्तों फेसबुक पर मेरी मुलाकात एक महिला से हुई और उसने अगले दिन फिर से मुझे फोन किया और मुझे एक जगह पर बुलाया। में लगभग टाईम पर वहाँ पर पहुँच गया और उसका इंतजार करने लगा। तो तभी 5 मिनट के बाद एक औरत आई और बोली कि मिस्टर संजय तो मैंने कहा कि जी और हैल्लो हाए और उसने मुझे अपने साथ आने को बोली, तो में उसके साथ उनकी कार में बैठ गया और उनकी कार की सारी खिडकियों पर काले कांच लगे थे। फिर वो मुझसे बोली कि मिस्टर संजय इफ़ यू डोंट माइंड में अपनी प्राइवसी के लिए आपकी आँख पर पट्टी बाँध देती हूँ और अपने घर पर जाकर खोल दूंगी।

फिर मैंने अपनी आँख बंद की, तो उसने मेरी आँख पर पट्टी बाँध दी और फिर कार स्टार्ट करके चल दी। फिर लगभग 20 मिनट के बाद कार एक जगह पर रुकी और फिर लगभग थोड़ी देर के बाद फिर से स्टार्ट होकर थोड़ी दूर चलकर वापस से बंद हुई और उसने बोला कि मिस्टर संजय आप थोड़ी देर कार में बैठो में अभी आई। दोस्तों मुझे बिल्कुल नहीं मालूम था कि में कहाँ पर हूँ? और किस एरिया में हूँ? फिर लगभग 5 मिनट के बाद वो आई और मेरा हाथ पकड़कर बोली कि मिस्टर संजय आप आराम से मेरे साथ आइए। तो में उसके साथ धीरे-धीरे चलने लगा और अब मुझे किसी रूम में अंदर जाने का एहसास हो रहा था। फिर उसके बाद वो बोली कि मिस्टर संजय अब में आपकी आँख पर से पट्टी हटा रही हूँ। फिर मैंने धीरे-धीरे से अपनी आँखे खोल दी तो मैंने देखा कि वो किसी का बेडरूम लग रहा था, जो कि साईज में भी काफ़ी बड़ा था और एकदम मोर्डन लग रहा था। फिर वो मुस्कराते हुए बोली कि मिस्टर संजय ये मेरा बेडरूम है आप आराम से बैठ जाइए और आगे कुछ मत पूछिएगा कि आप कहाँ पर है? किस एरिया में है? में कौन हूँ? मेरा नाम क्या है? आप सिर्फ़ इतना ही जानिए की आपको मैंने अपने मज़े के लिए चुना है और इसके लिए आप मुझसे फीस लेंगे।

Antarvasna Hindi Sex Story  मेरी बीवी प्राइवेट रंडी

फिर मैंने कहा कि जरूर, में तो सिर्फ़ अपनी फीस से मतलब रखता हूँ, आप कोई भी हो मेरे लिए आप सिर्फ़ मेरी क्लाइंट है और में अपनी क्लाइंट की प्राइवसी का पूरा ख्याल रखता हूँ। फिर उसने टी.वी ऑन कर दिया और एक सेक्सी मूवी लगाकर बोली कि आप मूवी देखिए और में आपके लिए कुछ खाने पीने का इंतजाम करती हूँ और फिर वो बाहर चली गयी और में आराम से बैठकर सेक्सी मूवी के मज़े ले रहा था। फिर लगभग 10 मिनट के बाद वो वापस आई और उनके हाथ में वाईन की बोतल और कुछ ड्राई फ्रूट थे और फिर उसने मुझसे बोला कि मिस्टर संजय हम लोग थोड़ा सा ड्रिंक कर ले, फिर आप मेरी सेवा में लग जाइएगा और उसने दो बड़े पैक बनाये और हम लोग आराम से मूवी देखते हुए ड्रिंक करने लगे। दोस्तों अब हम दोनों चुपचाप आराम से मूवी देख रहे थे और वाईन पी रहे थे और ये सब तब तक चलता रहा, जब तक मूवी ख़त्म नहीं हुई। अब हम दोनों भी काफ़ी गर्म हो चुके थे और मेरा लंड एकदम से टाईट हो रहा था, लेकिन वो कुछ बोल ही नहीं रही थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  भाभी का बुखार

फिर ड्रिंक ख़त्म होने के बाद मैंने बोला कि मेडम अब मेरे लिए क्या हुकम है? क्योंकि अब में आपका गुलाम हूँ, मेरे लिए क्या हुकम है? दोस्तों अब यहाँ से मेरी ड्यूटी चालू हो जाती है। फिर उसने बोला कि मिस्टर संजय मेरी ड्रेसिंग टेबल के पास कुछ मसाज़ तेल पड़े है, उसको लीजिए और मेरा बदन दुख रहा है मेरी मालिश कर दीजिए। फिर मैंने नौकर की तरह अपना सिर हिलाया और कुछ तेल की शीशी लेकर मेडम को बोला कि आप आराम से बेड पर लेट जाइए और फिर उसके बाद में उसके धीरे-धीरे सारे कपड़े उतारने लगा। फिर मैंने उसके पैर से मसाज करनी स्टार्ट कर दी और धीरे-धीरे आराम से उसके नंगे बदन पर मसाज करने लगा। दोस्तों वो एक स्लिम और सेक्सी लेडी थी, उसके बूब्स ना बहुत बड़े और ना ही छोटे थे, एकदम मीडियम थे। फिर मैंने लगभग 20 मिनट तक मसाज की और फिर में उससे बोला कि मेडम अब आप अपने पेट के बल लेट जाइए और फिर मैंने उसकी पीठ पर मसाज करनी चालू कर दी और उसके बाद मैंने भी धीरे-धीरे अपने सारे कपड़े उतार दिए और फिर मेडम को अपनी गोदी में उठाया और उसके होंठो पर किस किया और उनसे बोला कि मेडम आपका बाथरूम कहाँ पर है? अब आपकी साफ सफाई कर दूँ।

फिर उसने बाथरूम की तरफ इशारा किया तो में उसको बाथरूम में लेकर गया तो मैंने देखा कि उसके बाथरूम में बाथटब था। तो मैंने उसको उसमें लेटा दिया और पानी स्टार्ट कर दिया और फिर में भी उसके साथ आराम से टब में बैठ गया और उसके बूब्स को चूसना चालू कर दिया। अब वो अपनी आँखें बंद करके अपने हाथ में मेरे लंड को पकड़कर सहलाने लगी थी। फिर में अपने बनाए हुए तरीके के हिसाब से उसकी बॉडी के एक-एक पार्ट को गर्म करता रहा और वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसती रही। फिर मैंने बाथरूम में उसको आराम से नहलाया और बाथरूम में ही सेक्स के मज़े लिए। फिर हम लोग फ्रेश होकर बाहर निकले और अपने-अपने कपड़े पहने और फिर साथ में खाना खाया और फिर आराम से हम दोनों लोग सो गये। फिर थोड़ी देर के बाद उसने मुझे उठाया और बोली कि मिस्टर संजय चलिए में आपको छोड़ देती हूँ और फिर जब में उसके घर से निकला तो वापस से उसने मेरी आँख पर पट्टी बांध दी और जहाँ से उसने मुझे लिफ्ट दी थी, वहाँ पर अपनी कार रोकी और मेरी पट्टी खोल दी और बोली कि मिस्टर संजय आपके साथ काफ़ी मज़ा आया और मुझे जब भी आपकी जरूरत पड़ेगी तो में आपको वापस से फोन करूँगी और फिर उसने मेरे हाथ में मेरी फीस रखी और मेरे होंठो पर एक हार्ड किस किया और बोली कि फिर मिलेंगे। फिर मैंने कार का दरवाजा खोला और बाहर निकल आया और उसको जाते हुए देखता रहा। दोस्तों मैंने उसके साथ पूरे 6 घंटे बिताए थे, लेकिन ना मैंने उसके बारे में पूछा, ना उसने मेरे बारे में पूछा और ना में उसका रियल नाम जान सका ।।