मौसी को खिलाई सेक्स की गोली

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम कनक है, में 18 साल का हूँ, वो दिन मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा दिन था। उस दिन मेरी मौसी मेरे घर आई थी। मेरी मौसी बहुत सेक्सी ब्यूटिफुल और जवान है। उस दिन मेरे मम्मी पापा बाहर गये थे और मौसी मम्मी से मिलने आई थे। अब मम्मी के ना होने पर वो जाने को कहने लगी। तो मैंने कहा कि मम्मी शाम तक आ जाएगी, तो फिर मौसी रुक गई। फिर दोपहर में लंच के बाद मौसी बेड पर लेट गई और उन्हें नींद आ गई थी। फिर जब मैंने उनके बूब्स देखे तो मेरा मन उन्हें चूसने के लिए मचल उठा, लेकिन मैंने कंट्रोल किया। फिर शाम को मैंने मौसी की चाय में सेक्स की गोली डालकर उन्हें दे दी। अब मौसी घर में बोर हो रही थी, तो में सी.डी प्लेयर में ब्लू फिल्म की सी.डी लगाकर बाहर चला गया, मुझे लग रहा था कि ब्लू फिल्म देखने से मौसी का सेक्स जाग जाएगा।

फिर मैंने बाहर से कंडोम खरीदा और 3 पैग शराब पी और 45 मिनट के बाद घर जाने लगा। फिर मैंने अपने घर की खिड़की के पर्दे को हटाकर अंदर देखा, तो मौसी अपने बूब्स को खुद सहला रही थी। अब यह देखकर में खुश हो गया था और दरवाजा खटखटाया। तो तब मौसी ने दरवाजा खोला और बनावटी गुस्से से मुझसे पूछा कि तूने कौन सी.डी लगाई थी। तो तब मैंने अंजान बनकर कहा कि में नहीं जानता। तो इस पर मौसी ने दरवाजा अंदर से बंद किया और टी.वी ऑन करके मुझसे कहा कि देखो तुमने क्या लगाया था? और चिल्लाने लगी। अब में बिल्कुल डर गया कि कहीं मेरा प्लान मुझे फंसा ना दे। फिर मैंने सॉरी बोलकर जैसे ही टी.वी बंद को करने को कहा तो तब मौसी ने मुझे पानी लाने को भेज दिया। अब में डर के मारे कंप रहा था तो तभी मेरे हाथ से पानी का गिलास मौसी की शमीज पर गिर गया और वो भीग गई थी।

Antarvasna Hindi Sex Story  मीरा बाई की मछली

फिर मैंने मौसी को मम्मी की नाइटी पहनने को दी, तो मौसी दूसरे कमरे में जाकर अपने कपड़े बदलने लगी। अब तब तक में ब्लू फिल्म देख रहा था। फिर मुझे पता ही नहीं चला कि मौसी कब मेरे पीछे आ गई? अब में अपने लंड को अपने एक हाथ से पकड़कर हिला रहा था। अब मौसी यह सब पीछे से देख रही थी, तो तभी वो अचानक से बोली कि क्या हो रहा है? तो मैंने हड़बड़ाकर पीछे देखा। अब मौसी ने अपनी ब्रा भी खोल दी थी। अब मुझे उनके बूब्स हल्के-हल्के दिख रहे थे। अब में उन्हें देखने में भूल गया था कि मेरा लंड बाहर है। अब मौसी मेरे लंड को बड़े ध्यान से देख रही थी। फिर जब में जागा तो मैंने जल्दी से अपनी चैन बंद की, तो इस हड़बड़ाहट में मेरा खड़ा लंड चैन में फंस गया तो दर्द के कारण मेरा लंड नॉर्मल हो गया। अब मौसी को मौका मिल गया था तो उन्होंने मेरा लंड मेरी चैन से बाहर निकाला और अपने एक हाथ में लेकर देखने लगी थी।

अब चैन में फंसने के कारण मेरा लंड लाल हो गया था। फिर मौसी ने मेरा लंड झट से अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी थी। अब उस वक़्त मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, क्योंकि पहली बार कोई मेरे लंड को चाट रहा था। फिर मौसी ने बहुत देर तक मेरे लंड को चाटा। फिर जब मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो तब में मौसी की नाइटी के बटन खोलकर उनकी पीठ सहलाने लगा, में जिंदगी में पहली बार किसी लड़की के नंगे बदन को सहला रहा था। अब मुझे बहुत मजा आ रहा था। फिर मैंने मौसी को उठाकर बेड पर चलने को कहा। अब मैंने मौसी को सिर्फ़ बिकनी में कर दिया था। फिर मौसी के गोरे बूब्स को देखकर में अपने आपको रोक नहीं सका और मौसी को जोर से बेड पर पटककर उनके बूब्स को पीने लगा था। तो तब मौसी ने कहा कि यह क्या कर रहे हो? जरा धीरे करो, उनकी आवाज में एक मस्ती थी। अब में उनकी आवाज को सुनकर उनके बूब्स को और जोर-जोर से मसलने और पीने लगा था।

Antarvasna Hindi Sex Story  मौसी की गांड में लण्ड

अब मौसी धीरे से चीखने लगी थी। फिर उन्होंने कहा कि अब मत करो, छोड़ दो। लेकिन में नशे में था तो मैंने ध्यान नहीं दिया और अपने काम पर लगा रहा। फिर धीरे-धीरे उनका दर्द कम हुआ तो उनके मुँह से सेक्सी आवाज़े निकलने लगी, आहह, वोह और करो और पियो, आहह। फिर मैंने उनकी बिकनी को खोला तो उनकी साफ चूत में मेरा लंड जाने के लिए हिलने लगा। फिर मैंने उनकी चूत पर किस किया और उनकी चूत चाटने लगा था। अब मौसी को बहुत मज़ा आ रहा था। फिर मैंने अपनी जीभ से ही उनको चोदना शुरू किया। अब मौसी मज़े के मारे उछलने लगी थी। फिर मैंने बहुत देर तक उनकी चूत में अपनी जीभ घुसाए रखी। तब मौसी ने कहा कि अब लंड भी घुसाओ ना। अब मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया था। फिर मेरे लंड को देखकर मौसी बहुत खुश हुई, मौसी अभी तक कुंवारी थी इसलिए उनकी चूत एकदम टाईट थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  प्रिन्सिपल की मजेदार गांड मारी

फिर मैंने अपने लंड को उनकी चूत पर रखकर निशाना लगाया और ज़ोर से एक धक्का दिया, जिससे मेरा आधा लंड उनकी चूत में घुस गया था। अब में जोश के मारे कंडोम लगाना भूल गया था। फिर मैंने अपने लंड को थोड़ा सा बाहर किया और ज़ोर से धक्का मारा तो इस बार तो मेरा लंड पूरी तरह से उसकी चूत की गहराई को नाप रहा था। लेकिन मौसी दर्द के मारे चीख रही थी आह माँ, आआआ, उफफफफ्फ कहने लगी, निकालो बाहर अब मुझे बर्दाश्त नहीं होता है, लेकिन ज़िंदगी में इतने बड़े मौके को में हाथ से जाने थोड़े ही देता। फिर मैंने थोड़ी देर तक उनकी चूत में अपना लंड डाले रखा और मौसी चीखे ना इसलिए उनके लाल होंठो को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा था। अब में धीरे-धीरे धक्के मारने लगा था, लेकिन मुझे मजा नहीं आ रहा था। तो तब में मौसी की परवाह किए बिना उनकी चूत को ज़ोर- जोर से चोदने लगा। तो मौसी फिर से चीखने लगी, लेकिन में उन्हें चोदता रहा। अब उनके मुँह से मस्ती भरी आवाज़े निकलने लगी थी। फिर में मौसी को रातभर चोदता रहा और वो चुदवाती रही। फिर हम दोनों ने खूब मज़े किए और खूब इन्जॉय किया ।।

धन्यवाद …