सेक्सी भाभी के साथ बेड पर खेल

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम शान है, में हैदराबाद का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 23 साल है और मेरी हाईट 5 फुट 9 इंच है। अब में आपको ज्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। ये कहानी मेरे पहले अनुभव मेरी भाभी के साथ की है। अब में आपको मेरी भाभी के बारे में बताऊंगा। मेरी भाभी की उम्र 27 साल है और उनका नाम स्नेहा है, कलर सांवला, साईज 32-30-34 है। मुझे पहले मेरी भाभी में रूचि नहीं थी, लेकिन यह एक दिन की बात है जिसने मेरी लाईफ को चेंज कर दिया। जब शादी के 2 महीने के बाद मेरे भैया ऑस्ट्रेलिया चले गये थे, तो तब से मेरी कहानी शुरू हो गई। फिर जब में कॉलेज से पढ़कर घर आया तो मैंने देखा कि घर अच्छी तरह से सजाया हुआ था तो तब मुझे पता चला कि उस दिन मेरी भाभी का बर्थ-डे है। फिर मैंने सोचा कि क्यों ना बधाई दी जाए? तो में उनके रूम में उन्हें बधाई देने चला गया, तो उनके रूम में कोई नहीं था। फिर तब मेरी आँखे चमकी और ऐसे ही देखने लगा, अब मेरे अंदर करंट दौड़ गया था।

अब मेरा लंड भी तैयार हो गया था, तब वो पंजाबी ड्रेस में थी और उसके कपड़े फुल टाईट थे, उसके बूब्स तक के कपड़े टाईट थे और वो बहुत खूबसूरत दिख रही थी। फिर मैंने सोच लिया कि ये मेरी ब्लू फिल्म की हिरोइन है, क्या बदन है? क्या बूब्स है? क्या गांड है साली की? अब मुझे सिर्फ़ उसे राज़ी करना है। अब में उसके बूब्स देखता ही रह गया था। फिर मैंने होश में आकर कहा कि भाभी हैप्पी बर्थ- डे और मन ही मन में कहा कि हैप्पी बूब्स डे। फिर उस दिन से में उनसे क्लोज़ हो गया। अब हम बहुत बातें करने लगे थे, मेरे कॉलेज पर और मूवी पर और में चान्स ढूँढ रहा था कि कब उसकी चूत देखूं? भाभी एक ऑफिस में नौकरी भी करती है, जो घर से बहुत दूर था।

Antarvasna Hindi Sex Story  चलती ट्रैन में स्कूल गर्ल को ठोका

अब में मौके की तलाश में था और फिर एक दिन मुझे मौका मिल ही गया और उस दिन रविवार था। उस दिन घर में कोई नहीं था, तब में और भाभी ही थे और सब सुबह 10 बजे बाहर चले गये थे। तो मैंने भी कहा कि मुझे भी बाहर जाना है और चला गया। अब मुझे पता था कि शाम तक कोई नहीं आएगा। फिर में फिर 2 घंटे में ही घर वापस आ गया और तब मेरी भाभी पीले कलर की नाइटी में थी और टी. वी देख रही थी और उस टाईम दोपहर के 12 बजे थे। तो में भी उनके पास जाकर बैठ गया और टी.वी देखने लगा। फिर मैंने अपना एक हाथ आगे ले जाकर उनकी कमर पर डाला। तो भाभी ने कुछ भी नहीं कहा और फिर वो काम करने किचन में चली गयी। तो में भी थोड़ी देर के बाद उनके पीछे-पीछे चला गया। अब में उसके गर्म बदन और उसकी बड़ी गांड को देखता ही रह गया था।

अब मेरा तो लंड खड़ा हो गया था तो में उसको रोक नहीं सका और उसके पीछे आकर खड़ा हो गया और मेरे हाथों से भाभी को कसकर दबोच लिया और उसके बूब्स प्रेस करने लगा। अब मेरा बड़ा लंड उनकी गांड में उसके कपड़ो के से ऊपर से ही घुस गया था, तो वो शॉक हो गयी और बोली कि छोड़ो मुझे, तो मैंने उसे छोड़ दिया। फिर उसने मुझे गुस्से में देखकर कहा कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि तू ऐसा है और जाकर बेडरूम में लेट गयी। फिर मैंने सारे दरवाजे खिड़कियाँ बंद किए और उनके बेडरूम में चला गया और सीधी बात कह डाली कि भाभी मुझे आपको चोदना है, में कब से इस टाईम का इंतजार कर रहा हूँ? प्लीज। तो भाभी ने कहा कि अगर किसी को पता चल गया तो क्या होगा? तो मैंने कहा कि क्या होगा? कुछ नहीं होगा और ये कहकर बेड पर आ गया। तो वो मुस्कुराने लगी और लेट गयी और तब मेरे अंदर करंट भी नहीं था, यह मेरा पहला अनुभव था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  लंड कुत्ते की चूत मेरी

फिर मैंने धीरे से उनकी नाइटी के हुक एक-एक करके निकाले और फिर उनकी पूरी नाइटी को उतार दिया, तो उसने अपनी आँखें बंद कर ली। फिर मैंने अपने पूरे कपड़े निकाल दिए, अब हम दोनों पसीने में पूरे भीगे हुए थे। फिर मैंने उनको बिस्तर पर सीधा लेटा दिया और उनसे कहा कि अब सब मुझ पर छोड़ दो, मेरी भाभी का बदन सांवला है और पूरा गर्मा गर्म है। फिर मैंने उनकी ब्रा के हुक खोलकर उनकी ब्रा को फेंक दिया, अब वो शर्मा रही थी। फिर में उनकी ब्लेक पेंटी को उतारने लगा। अब वो मुझे देख रही थी, तो मैंने उसकी चूत पर बहुत सारे बाल से देखे तो मैंने उनसे कहा कि मेरा लंड उसे ढूँढ लेगा। अब वो मुझे ही देख रही थी, अब में पूरे हवस में आ गया था और मन में अटैक कहकर उनके लिप्स पर स्मूच किया। अब वो भी मेरा साथ दे रही थी। फिर में थोड़ा नीचे आया और भाभी के एपल साईज बूब्स दबाने लगा। फिर भाभी ने कहा कि और आह और आह और फिर में 5 मिनट तक चूसता ही रहा और उनसे कहा कि साली रंडी कितनों से चुदवाया है? तो उसने कुछ नहीं कहा और हंसी।

फिर में थोड़ा और नीचे आया और उनके पूरे बदन का पसीना ऊपर से नीचे तक चाटा, तो वो मुझे देखती रही और वो उसके बदन का अंग-अंग मुझे देने लगी। फिर मैंने उनकी चूत पर हाथ डाले, तो मेरे हाथ डालते ही वो आआआआआ की आवाजे करने लगी। फिर में अपना मुँह उनकी चूत में डालकर उनकी चूत को चाटने लगा। मेरी भाभी की रसीली चूत का सबको मज़ा लेना चाहिए है। फिर मैंने अपना 8 इंच का लंड उसके मुँह पर रख दिया, तो भाभी अपने मुँह से मेरे लंड को चूसने लगी। अब वो 10 मिनट तक मेरे लंड को अपने मुँह से निकालने की सोच ही नहीं रही थी। फिर मैंने भाभी से कहा कि भाभी मेरा लंड रुक नहीं रहा है, ये आपकी रसीली चूत में घुसना चाहता है। तो उसने कहा कि देवर जी तो वैसे क्या देख रहे है? हमें आपके लंड का मज़ा तो दीजिए और फिर उसने अपनी दोनों टाँगों को चौड़ा कर लिया। तो मैंने उसकी चूत के बालों को अपने हाथ से हटाया और मेरा लंड उनकी काली चूत में धीरे-धीरे डालने लगा और उनका मज़ा लूटता रहा। अब मेरी भाभी भी आआआआई, आआआहहह कर रही थी।

Antarvasna Hindi Sex Story  जीना इसी का नम्म हें अगर चुदाई साथ में हो

फिर मैंने भी धीरे-धीरे हिलना करना शुरू कर दिया और धीरे से अपने लंड को बाहर लेकर आया और जोर से उसकी चूत में डाला। फिर तब वो कहने लगी कि देवर जी आआआ, क्या आआआ बात है? हाआ आआाआ ऐसे ही, हाँ ऐसे ही आआआआआआआआहह, और एक बड़ी जोर की आवाज निकाली। फिर मैंने कहा कि भाभी आपकी चूत तो फट गयी, मेरी साली रंडी और अब तेरी गांड की बारी है और भाभी की गांड में अपना लंड घुसाकर पूरी तरह से उस रंडी को 2 घंटे तक चोदा और फिर हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहन लिए ।।

धन्यवाद …