माँ और बेटी ने मनोरंजन किया

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरी तरफ से सभी स्टोरी पढ़ने वालों को नमस्ते। मेरा नाम लक्की है और में अभी 25 साल का हूँ। मेरा कद 5 फुट 9 इंच और रंग सांवला है। मैंने जब से चोदन डॉट कॉम की कहानियाँ पढ़नी शुरू की है मुझे बहुत मज़ा आता है। मैंने भी अब तक बहुत सी लड़कियों के साथ बिस्तर पर रातें बिताई है, उनमें से कुछ कुँवारी और कुछ शादीशुदा थी, लेकिन मेरा पहला अनुभव एक शादीशुदा के साथ हुआ था, तब में सिर्फ़ 18 साल का था। उन्होंने मुझे चोदना सिखाया था और तब से आज तक में उनका सिखाया ही करता आ रहा हूँ। अब जब मैंने अपना परिचय दे ही दिया है तो में अब सब पढ़ने वालों से गुज़ारिश करूँगा कि वो भी मुझे अपने में शामिल कर ले। अब में टाईम वेस्ट किए बिना अपनी आप बीती पर आता हूँ। मुझे अभी तक याद है कि जब में 18 साल का हुआ तो दोस्तों की संगत में मुझे पता चला की बी.एफ भी कोई चीज होती है। मैंने अपने दोस्तों के साथ कई बार ब्लू फिल्म देखी भी। मुझे बड़ा मज़ा आता था, मेरा मन करता था कि कहीं कोई मिल जाए तो उसे अपने बिस्तर पर ले जाऊं और फिर वो मौका भी आ गया।

फिर एक दिन हम दोस्तों ने बाहर पिकनिक पर जाने का प्रोग्राम बनाया, वो 2 दिन का प्रोग्राम था। मेरे एक दोस्त का शिमला से ऊपर पहाड़ियों में एक फार्म हाउस था। फिर हम सब एक जीप में सवार होकर वहाँ पहुँचे तो में वहाँ का नज़ारा देखकर तो मदहोश हो गया, पहाड़ियों के बीच से निकलता हुआ झरना और हरे पेड़ो पर बादल सवार थे, वो एकदम जन्नत लग रही थी। फिर तभी मेरी नजर झरने पर नहाती हुई एक लड़की पर गयी, जो बिना हिचक अपने बदन को रगड़ते हुए नहा रही थी। फिर मेरे दोस्त बोले कि चल यार जरा पास जाकर देखते है और फिर कुछ देर तक हम उसे देखते रहे। अब उसने हमें देख लिया था और वहाँ से चली गयी थी। फिर हम लोग अपने कमरे में आराम करने लगे।

Antarvasna Hindi Sex Story  जैन मुनि की सेवा का मेवा

फिर थोड़ी देर के बाद दोस्त बोले कि ऐसे मौसम में तो कोई हसीना साथ होती तो मज़ा आ जाता। फिर तभी इतने में बाहर दरवाज़े पर टक-टक हुई तो मैंने देखा तो एक औरत हम सबके लिए चाय नाश्ता लेकर आई थी। फिर मैंने अपने दोस्त से पूछा कि यह कौन है? तो वो बोला कि हमारे माली की बीवी है, अब माली तो रहा नहीं, तो यही सारा काम काज करती है और फिर उसने मेरे कान आकर कहा कि इसकी 20 साल की एक जवान लड़की है, एकदम मस्त है, यह दोनों माँ बेटी एकदम चुदक्कड़ है, में जब भी यहाँ आता हूँ तो इन्ही के साथ रात बिताता हूँ। फिर मैंने कहा कि यार तो आज रात दोनों को बुला लेना, मिलकर मज़ा लेंगे, तो वो बोला कि ठीक है।

फिर इतने में वो औरत फिर से आई, तो मैंने उसका नाम पूछा। तो वो बोली कि मेरा नाम चंकी है और मेरी बेटी का नाम पारो है, आप सब निश्चिंत रहे, आज में और मेरी बेटी आप सबका मनोरंजन करेंगे। अब रात के ठीक 9 बजे थे और चारों तरफ घना अंधेरा था। फिर हमने खूब जमकर पी और फिर खाने की टेबल पर पहुँचे। फिर तभी चंकी बोली कि खाना तो होता रहेगा, चलिए कमरे में चलते है और फिर उसने पारो को आवाज़ दी। तो में उसका गठीला बदन और बड़े-बड़े बूब्स देखता ही रह गया, उसकी चूचीयाँ साफ दिख रही थी। फिर उसने आते ही हम सबको हैल्लो कहा और डांस करने लगी। फिर डांस करते-करते उसने अपने कपड़े उतारने शुरू किए। अब चंकी मेरे पास आकर बैठ गयी थी और मेरे लंड को जो कि टाईट हो रहा था उसे पकड़ लिया था। अब मुझे अच्छा लग रहा था, तो तभी वो बोली कि आप अभी नये लगते हो, अभी तक कुछ नहीं किया ना? तो मैंने कहा कि तुम्हें कैसे पता? तो वो कहने लगी कि उसने अपनी उम्र में ना जाने कितने लड़को को सिखाया है? और लंड पकड़ते ही समझ जाती हूँ कि नया है। फिर मैंने कहा कि तो मुझे भी सिखा दो। फिर उसने कहा कि यहीं सीखोगे या कमरे में चले।

Antarvasna Hindi Sex Story  एक समझौते का बदला

फिर में बोला कि यहाँ किसकी शर्म? यहीं शुरू करते है। फिर उसने अपने कपड़े उतार दिए। अब में उसका बदन देखकर मदहोश हो गया था, इस उम्र में भी इतनी टाईट निपल और कसे हुए बूब्स और गोरा बदन। फिर उसने अपनी सलवार भी उतार दी, अब उसकी चिकनी चूत देखकर मेरा लंड एकदम टाईट हो गया था। अब मेरे बाकी दोनों दोस्तों ने पारो को पकड़ लिया था। अब एक उसकी चूत को चाट रहा था, तो वो दूसरे का लंड अपने मुँह में लेकर चूस रही थी। फिर चंकी ने मेरा लंड पजामें में से बाहर निकाल दिया और बोली कि तुम्हारा तो बहुत बड़ा है 9 इंच लंबा और 3 इंच मोटा होगा। फिर मैंने कहा कि हाँ इतना तो है। फिर उसने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरे लंड को खोलकर मेरे सुपाड़े को अपनी जीभ से चाटने लगी। फिर मेरे अंदर करंट सा दौड़ गया तो मैंने कहा कि और ज़ोर से चूसो। फिर उसने मेरा पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और जैसे लॉलीपोप चूसते है, वैसे चूसने लगी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर दोस्त बोले कि मज़ा आ रहा है ना? तो मैंने कहाँ कि हाँ यार। फिर वो उठी और अपनी चूत की तरफ इशारा करते हुए कहने लगी कि चूसो इसका रस। फिर मैंने अपने होंठ उसकी चूत पर जमा दिए और अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटने लगा। अब उधर पारो की सिसकियाँ निकल रही थी। अब एक ने उसकी चूत में लंड डाला हुआ था, तो दूसरा उसके बूब्स को दबा रहा था। अब वो कह रही थी कि ज़ोर से चोदो। अब मैंने भी चंकी की चूत पर अपनी स्पीड बढ़ा दी थी और साथ में उसकी टाईट चूचीयों को रगड़ रहा था। अब वो गर्म हो रही थी, अब उसकी चूत एकदम गीली हो गयी थी। फिर उसने कहा कि अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो और जब तक पूरा अंदर ना चला जाए निकालना नहीं। फिर मैंने अपना लंड 6 इंच तक तो आसानी से डाल दिया और फिर उसके बाद एक धक्का मारा, तो वो चीख उठी।

Antarvasna Hindi Sex Story  आह…..से आहा….. तक

फिर मैंने कहा कि क्या हुआ? तो वो कहने लगी कि बंद मत करो और अंदर डालो। तो मैंने अपनी गति बढ़ा दी और वो मेरी गांड पकड़कर मुझे अपनी तरफ खींचने लगी। अब मेरा लंड 9 इंच तक उसकी चूत में अंदर चला गया था। फिर मैंने एक बार अपना आधा लंड बाहर निकालकर ज़ोर से एक धक्का मारा तो इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत में समा गया। फिर उसके बाद तो जैसे कि मशीन के गियर में ग्रीस लगने के बाद वो नर्म हो जाती है, उसी तरह उसकी चूत में मेरा लंड मशीन की तरह चोद रहा था। फिर मैंने उसे 15 मिनट तक चोदा, अब मेरा वीर्य निकलने वाला था तो मैंने उससे कहा कि अंदर डालूं या बाहर। फिर वो बोली कि बाहर निकालकर मेरे मुँह में डाल दो, में तुम्हारे रस का मज़ा लेना चाहती हूँ। अब उधर पारो गांड में एक और चूत में एक लंड लिए चुदवा रही थी। फिर वो बोली कि माँ दो के साथ बहुत मज़ा आ रहा है, पहली बार ऐसा हुआ है। दोस्तों मैंने चंकी को रातभर चोदा और पारो की भी चूत फाड़ी। दोस्तों हमने उस रात बहुत मजा किया ।।

धन्यवाद …