मामी की चूत में काला नाग

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम रॉबिन है, मुझे सेक्स बहुत पसंद है। यह मेरी फर्स्ट स्टोरी है, अब में आपका समय ज्यादा ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। यह बात उस समय की है, जब में 18 साल का था, लेकिन अपनी 6 फुट की लंबाई की वजह से 20 साल का लगता था। मेरे 12वीं के एग्जॉम होने के बाद में अपनी नानी के गाँव रहने के लिए गया था। मेरी नानी के यहाँ मेरे 4 मामा थे, जिनमें से 2 की शादी हो चुकी थी। मेरी बड़ी मामी का नाम कोमल और छोटी मामी का नाम रेखा है। मुझे मेरे नाना जी के यहाँ सभी बहुत प्यार करते है। मेरे मामा लोग खेतो का काम संभालते है, दोपहर के टाईम पर मामा और नाना खेतो पर होते थे और नानी सो रही होती थी और छोटी मामी घर का काम करती थी। अब में और बड़ी मामी टाईम बिताने के लिए ताश खेलते थे।

फिर एक दिन हम दोनों ताश खेल रहे थे कि अचानक छोटी मामी हमारे कमरे में आई और बोली कि दीदी बहुत दर्द हो रहा है, कुछ करो। तो बड़ी मामी उनको अपने साथ ले गयी और थोड़ी देर में वापस आ गयी। फिर मैंने उनसे पूछा कि मामी को क्या हुआ? कहाँ दर्द हो रहा है? तो तब मामी ने हँसते हुए कहा कि कुछ नहीं पेट में दर्द हो रहा है। तो तब मैंने पूछा कि मामा की शादी को अभी केवल 15 दिन ही हुए है और मामी के पेट में दर्द इतनी जल्दी शुरू हो गये। तो तब कोमल मामी ने कहा कि बदमाश वो दर्द नहीं हो रहा है, तेरे मामा ने उसकी कल पहली बार ली थी, उसका दर्द उसकी चूत में हो रहा है।

Antarvasna Hindi Sex Story  आंटी के साथ अंकल की गांड मारी

फिर यह सुन कर मैंने मामी से कहा कि मामी तुम कितनी बेशर्म हो गयी हो? मुझसे ऐसी बात कर रही हो, थोड़ा तो रिश्तों का ख्याल किया करो। तो मेरी बात सुनकर वो बोली कि तेरा मेरी में घुसने से मना कर देगा क्या? क्या तेरा लंड मेरी चूत को रिश्तेदार मानेगा? तो उनकी बात सुनकर में चुप हो गया और उनसे कहा कि चलो ताश खेलते है और फिर हमने ताश खेलना चालू कर दिया। अब मेरी टांग मामी की टांगो के पास ही थी, जिसको में धीरे-धीरे खिसकाकर उनकी टांगो के पास ले गया था। अब में उनसे बातें भी कर रहा था और अपने पैर की उंगलियों से उनके तलवे भी सहला रहा था। अब मामी ने मेरी इस हरकत का कोई विरोध नहीं किया था, तो मेरा हौसला बढ़ गया था। फिर में अपने पैर को उनकी साड़ी के अंदर घुसाने की कोशिश करने लगा। अब मामी अपनी टाँगे मोड़कर घुटनों को ऊपर करके बैठी थी। फिर मैंने अपना पैर धीरे से उनकी साड़ी में घुसा दिया और उनकी टांगो को अपने पैर से सहलाने लगा था। फिर थोड़ी देर सहलाने के बाद मामी ने अपने घुटने नीचे कर किए और अपनी टाँगे फैलाकर दीवार के सहारे बैठ गयी। फिर मैंने अपने पैर को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ करना शुरू किया तो थोड़ी देर के बाद मेरा पैर उनकी जाँघो के ऊपर पहुँच गया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  नौकरानी पूजा की कुँवारी चूत का उद्घाटन

तब मेरे पैर को एकदम चिकना और गर्म एहसास हुआ और मेरा लंड मेरी पैंट में फूलकर मस्ती में आ गया। फिर थोड़ी देर तक उनकी जांघे सहलाने के बाद मैंने अपना पैर थोड़ा और ऊपर बढ़ाया तो जैसे मुझे करंट लग गया। मामी ने पैंटी नहीं पहनी थी और उनकी चूत घने बालों से भरी थी। अब उनकी चूत पर मेरे पैर का अंगूठा लगते ही मुझे गर्म ओवन से पैर लगाने का एहसास हुआ। अब में उनकी चूत को अपने पैर की उंगलियों और अंगूठे से सहलाने लगा था। फिर थोड़ी देर तक उनकी चूत सहलाने के बाद उनका पेट अकड़ गया। अब उनका पूरा बदन पसीने में नहा गया था और उनकी चूत के छेद पर गीला- गीला लगने लगा था। तब मामी ने कहा कि ये क्या किया? निकाल दिया मेरा, चल अब अपना लंड तो दिखा दे। अब में उनके पास ही तो था ही, तो मामी ने तुरंत ही मेरी पैंट की चैन खोलकर अपना एक हाथ मेरी चड्डी के अंदर डाल दिया और मेरा लंड पकड़ लिया। अभी तक मेरे काले नाग को किसी भी औरत या लड़की ने छुआ नहीं था, तो उनका हाथ लगते ही मुझे जनन्त में होने का एहसास हुआ।

Antarvasna Hindi Sex Story  आह…..से आहा….. तक

फिर मामी मेरे लंड को मेरी चड्डी के अंदर ही टटोलती रही और मेरी गोलियों को सहलाती रही। अब मुझे स्वर्ग में होने का अनुभव हो रहा था। तो तभी मामी ने उठकर कमरे के दरवाजे बंद करके मुझको बेड पर जाने का इशारा किया। अब में मामी की बात को मानते हुए बेड पर लेट गया था। फिर मामी मेरे पास बैठ गयी और मेरी पैंट और चड्डी को नीचे खिसकाकर मेरे लंड को सहलाते हुए अपने दूसरे हाथ से मेरी गोलियों को सहलाते हुए अपनी एक उंगली मेरी गांड के छेद के आस पास फैरती रही। अब में तो सातवें आसमान में उड़ रहा था। अब मामी के सहलाने के कारण थोड़ी देर के बाद मेरे लंड से ढेर सारा गाढ़ा पानी निकल पड़ा था, जो मेरे पेट पर जाकर गिरा। फिर उसको मामी ने चादर से साफ कर दिया, तो तभी हमें ट्रेक्टर के रुकने की आवाज आई। तो तब मामी बोली कि तेरे मामा आ गये है, चल अब बाद में मज़े लेंगे। दोस्तों उसके बाद हमें कोई मौका ही नहीं मिला और जब भी मौका मिलेगा तो आगे की कहानी आपको जरूर बताऊंगा ।।

धन्यवाद …