मामी ने रंडी बनकर चुदवाना सिखाया

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरी उम्र 23 साल है। यह मेरी सच्ची कहानी है। में एक अमीर माँ बाप की खूबसूरत चिकने बदन वाली, गोरी और सेक्सी फिगर 36-24-38 वाली 19 साल की लड़की हूँ जिसे जवानी का गरूर और दौलत का नशा, लेकिन माँ बाप का डर भी था। मेरी कॉलेज में लड़को से फ्लर्ट करने की हिम्मत भी नहीं थी, लेकिन मेरी इच्छा बहुत थी, लेकिन फिर एक दिन जब मैंने मम्मी और पापा की बात रात को चुपके से सुनी, तो मेरा सारा डर निकल गया। अब पापा मम्मी को कह रहे थे कि अराधना अब जवान हो गयी है, उसे जरा मॉडर्न कपड़े पहनना सिख़ाओ, ये तो पुराने ज़माने के जैसे रहती है। तो तभी माँ बोली कि में उसे 15 दिन के लिए उसके मामा के पास मुंबई ले जाती हूँ और उसे सब धीरे-धीरे सिखा दूंगी, लेकिन आप उससे दिखावटी गुस्सा करना, तो वो और ज्यादा बोल्ड कपड़े पहनेगी, क्योंकि जवान लड़कियों को मना करना बुरा लगता है। तो में खुश हो गयी और फिर अगले ही दिन माँ ने ब्रेकफास्ट की टेबल पर पापा से बोला कि हम 15 दिन के लिए मुंबई हो आते है। तो मैंने माँ से कहा कि छुट्टियों में चलेंगे, लेकिन माँ ने कहा कि गर्मी में मुंबई में मज़ा नहीं आएगा, तो में झूठी नाराजगी दिखाते हुए तैयार हो गयी।

फिर हम अगले दिन की फ्लाइट से मुंबई आ गये। मेरी मामी मॉडर्न ख्याल वाली है और मामा की मर्ज़ी से अपनी साड़ी नाभि से 3 इंच नीचे और छोटे-छोटे ब्लाउज पहनती है, तो घर में नौकरो को भी फ्री में सीन देखने को मिलता रहता था। अब में दोपहर में सोने का नाटक कर रही थी, तो तब मम्मी ने मामी को आने का मकसद बताया, तो मामी बोली कि 15 दिन में इसे में नंगी घुमा दूँगी, लेकिन तुम बीच में मत बोलना। फिर यह सुनकर में बहुत खुश हुई कि अब जवानी का मज़ा आएगा। फिर शाम को मामी बोली कि तुम चलो, तुम्हें घुमाकर लाते है और फिर हम लोग बाजार चले गये। फिर मामी ने मुझे एकदम टाईट लो वेस्ट की जीन्स, छोटे टॉप, मिनी स्कर्ट्स और ढेर सारे स्टाइलिश कपड़े खरीद कर दिए और मैंने ट्रायल रूम में बदमाशी की और टॉप और स्कर्ट्स को बड़ा बताकर एक साईज़ और छोटे ले लिए। फिर तभी मामी ने कहा कि जीन्स और टॉप पहनकर चलो, तो मेरा रूप उसमें खुलकर उभर आया। अब लो वेस्ट की टाईट जीन्स में मेरा पेट साफ़-साफ़ दिख रहा था तो स्लीव लेस बड़े गले का छोटा टॉप जिसमें मेरी पीठ नंगी दिख रही थी। अब ऊँची हील की सैंडल पहनने के बाद तो ऐसा लगा कि मेरी गांड और बूब्स कपड़े फाड़कर बाहर आ जाएँगे। फिर मामी ने भी मुझे क्रॉसरोड मॉल दिखाने के बहाने पूरे मॉल में घुमाया और मेरे बदन की खुली नुमाइश लगाई।

Antarvasna Hindi Sex Story  बहु बनी पूरे घर की रंडी

अब सभी लोग और लड़के मुड़- मुड़कर मुझे देख रहे थे और में मन ही मन बहुत खुश हो रही थी, लेकिन मैंने मामी को शंका नहीं हो इसलिए अपनी नाराजगी दिखाई और बोली कि मामी मेरा पूरा बदन दिख रहा है। तो मामी बोली कि भगवान की दी हुई खूबसूरती दिखाने में बुराई होती तो भगवान खूबसूरत ही क्यों बनाता? अब गाड़ी में ड्राइवर भी कांच में मुझे देख रहा था और मामी भी मंद-मंद मुस्कुरा रही थी। फिर घर में अंदर जाते ही माँ ने भी मुझे टोका और बोली कि यह तुमने क्या पहना है? तो मैंने मन ही मन में बोला कि खुद ही तो चाहती है, लेकिन कैसे नाटक करती है। फिर मैंने मन ही मन में सोचा कि अब तो जब जिस्म दिखाने की छूट मिली है तो देखना अब में भी सेक्स का खुला मज़ा लूँगी और देखूँगी कि मुझमें भी क्या दम है? और में कितनो को निपटा सकती हूँ?

फिर शाम को मैंने मामा को स्कर्ट टॉप पहनकर दिखाया, तो मैंने अपनी तिरछी नजर से उनके लंड को खड़ा पाया। फिर अगले दिन मामी ने अकेले में मुझसे बोला कि छिनाल, स्कर्ट और टॉप 1 नंबर और छोटा लिया और समझदार बनती है? अब में भी समझ गयी थी कि मामी को पागल बनाना आसान नहीं है, तो में बोली कि मामी मेरे दिल की बात आपने समझी, लेकिन माँ को मत बताना, तो मामी बस मुस्कुरा दी। फिर मामी बोली कि मुझे सब समझ आता है, अभी तू मेरे सामने बच्ची है, लेकिन धीरे-धीरे में तुझको मर्द को मुट्ठी में रखना, फ्लर्ट करना और जिस्म की नुमाइश करना सब सिखा दूँगी, मर्दो को तो नंगा बदन देखना अच्छा लगता है, फिर वो बाप भी क्यों ना हो? हम औरतों को भी इस कमज़ोरी का फायदा उठना चाहिए और मजा करना चाहिए। फिर मामी आगे बोली कि मर्द को भगवान ने चोदने के लिए बनाया और औरत को चुदाने के लिए, तो चाहे एक हो या अनेक क्या फर्क पड़ता है? मर्द औरत पर चढ़ेगा, चूत में लंड घुसाएगा, 5-7 मिनट कूदाकूदी करेगा, मूठ झड़ेगा, चूचीयाँ दबाएगा और ठंडा पड़ जाएगा, लेकिन औरत एक बार में 8-8 मर्दो की प्यास बुझाने की ताक़त रखती है और इसका जमकर फ़ायदा लेना आना चाहिए, मर्द की जगह टाँगो के बीच में रखो और ज्यादा फ़ायदा लेना हो तो लंड को चूस लो, सब सीधे रहेंगे। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  दुल्हन की चूत की आग

अब में मामी के इस रूप से हैरान थी, लेकिन अब मुझे चूत का गहरा रहस्य समझ में आ रहा था। फिर अगले दिन मैंने मामी से पूछा कि मामी क्या आप भी? तो मामी बोली कि तेरे समझदार मामा से रुपये निकलवाना हो तो घर में थोड़े से कपड़े पहनकर जलवा दिखाओं और जब नौकर को नंगा बदन दिखता है, तो वो अपने आप बोलते है लो पैसे ले लो, लेकिन कपड़े पहन लो, ये मर्द अपनी बीवी को नंगा दूसरो के सामने नहीं देख सकते है, लेकिन दूसरे की औरत को नंगा ही चाहते है, वो कल रात ही तुम्हारे बारे में बोल रहे थे कि जब तक यहाँ है तब तक पूरे कपड़े मत पहनने देना। फिर मैंने भी ठान ली कि तुम्हारे वापस भोपाल जाने के पहले तुम्हें 5-7 लंड का मज़ा लेकर प्रेक्टीस करानी चाहिए, तभी तुम्हारी थोड़ी हिम्मत खुलेगी और उसी समय घर का नौकर राजू सामने से निकला, यह मेरा पहला शिकार होगा। फिर अगले दिन मैंने मामी के दर्शन शास्त्र की ट्रायल सूझी। अब सब लोग बाहर गये थे और में घर पर ही रुकी। फिर मैंने नहाने के बाद सफेद छोटी सी स्कर्ट और खुली पीठ वाला जरा सा टॉप पहना। अब मेरी गोरी बाहें, नंगी पीठ, नंगी जांघे, मेरे कपड़े फाड़कर बाहर आने को बेताब बूब्स साफ़ साफ़ दिख रहे थे। अब में राजू के सामने इधर उधर खूब घूम रही थी, तो करीब 3 घंटे में राजू का लंड फड़फड़ाया, तो उसने मुझे किचन में अपनी बाँहों में लेकर खूब चूमा, बूब्स दबाए, मेरी चूत पर अपना हाथ लगाया और बोला कि साली कुत्तिया 4 दिन से नंगी घूम रही है, मेरा लंड दुखी हो रहा है, रात को मेरे कमरे में नंगी होकर कुत्तिया की तरह चार पैरो पर रेंगते हुए आना और चुदवाना समझी, अब तो तू जब तक यहाँ रहेगी मेरे साथ-साथ तुझे माली विजय और चौकीदार बहादुर से भी चुदवाऊंगा और तेरे मुँह में गांड में और चूत में हमारा पानी भर देंगे। फिर में बोली कि राजा खाली बातें ही करोंगे या इस जवान शरीर का मज़ा भी लोंगे, मुझे ज़रा अच्छे से मसल-मसलकर चोदना और चुदवाना, ताकि मुझे भी जवान होने का एहसास हो जाए। अब राजू हैरान था की वो शिकारी था या शिकार। फिर मैनें सबके साथ मजा लिया और में बहुत खुल चुकी हूँ और मेरे पापा मम्मी को भी पता है कि में चुदवाने में कोई कमी नहीं छोड़ती हूँ ।।

Antarvasna Hindi Sex Story  सगी भाभी की चूत का प्रसाद

धन्यवाद …

  • Suz

    Ohhhh kya baat hai mujhse bhi chudwa le teri gaan bhi chatunga 9755861616