माँ और बहन के साथ चोदा चोदी

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम राहुल है, में फिर से आपके लिए एक स्टोरी लेकर आया हूँ जो बिल्कुल सच्ची है। यह स्टोरी मेरी माँ और मेरी बहन की है, अब में आपको मेरी माँ और बहन के बारे में बता दूँ। मेरी माँ का नाम सीमा है, उम्र 39 साल, फिगर साईज 36-34-36 है। मेरी बहन का नाम नेहा है, उम्र 19 साल, फिगर साईज 32-28-32 है। मेरा नाम लव है, उम्र 21 साल, लंड 8 इंच लम्बा है, मेरे पापा अमेरिका में रहते है, हम घर में 3 लोग है और हमेशा खुश रहते है। मेरे पापा को गये हुए 3 दिन हो गये थे, अब माँ बहुत दुखी हो गई थी। अब चोथे दिन माँ ने घर का खर्चा कम करने और कम को कम करने की सोचा, जैसे हम घर में सिर्फ़ इनरवेयर पहनेंगे, नहाएगें एक साथ, एक ही रूम में रहेंगे।

अब मुझे और मेरी बहन को माँ की बात माननी पड़ी, अब माँ ने अपने कपड़े उतारकर ब्रा पहन ली और मेरी बहन पूरी नंगी हो गई। अब मेरा तो बुरा हाल हो गया था, माँ बहुत सेक्सी थी क्या बूब्स थे? और गांड एकदम मस्त। मेरी बहन की चूत पर हल्के-हल्के बाल थे, छोटे बूब्स और गोल गांड। अब मेरा ये सब देखकर तो लंड खड़ा हो गया था, फिर माँ ने मुझे भी अपने कपड़े उतारने को बोला तो मैंने कहा कि मैंने अंडरवेयर नहीं पहनी है, तो माँ बोली कि तो क्या हुआ? उतार दे, तो में नंगा हो गया। अब मेरा 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा लंड पूरा खड़ा था, अब माँ तो देखती रह गई और मेरी बहन बोली कि भाई ये क्या है? तो माँ बोली कि ये लंड है आदत डाल लो आज से हमें घर पर नंगे रहना होगा और फिर माँ घर के काम करने चली गई।

अब में और मेरी बहन नंगे ही टी.वी देखने लग गये, अब में टी.वी कम बहन को ज्यादा देख रहा था। अब वो अपने पैर फैलाकर बैठी थी, अब मुझे उसकी नंगी चूत साफ़-साफ़ दिख रही थी, गुलाबी कलर, छोटा सा छेद। अब मेरा तो लंड फटा जा रहा था, फिर नेहा उठी और मेरे पास आ कर बैठ गई, भाई क्या ये ऐसे ही रहता है? तो में बोला कि नहीं यार ये नॉर्मल भी हो जाता है। तभी मैंने सोचा कि पहले कभी आपकी पेंट में नहीं देखा और फिर माँ भी आ गई चलो अब नहा लो। फिर हम बाथरूम में गये, फिर माँ ने शॉवर चला दिया, अब मेरी बहन और माँ नहाने लग गई। अब उनका गीला बदन तो मेरी जान ही ले रहा था, फिर माँ ने मुझे मेरे लंड से पकड़ा और अपनी और खींच लिया, अब माँ का हाथ लगते ही मेरे जिस्म में आग लग गई थी, अब मेरी बहन सब देख रही थी। फिर माँ ने अपनी ब्रा और पेंटी उतारी और साबुन लेकर अपनी और मेरी पूरी बॉडी को लगाया।

Antarvasna Hindi Sex Story  एनआरआई कजिन की चूत का स्वाद

फिर मैंने नेहा को भी पकड़ा और अपने लंड को उनकी गांड के नीचे चिपका दिया, तो अब नेहा के मुँह से छी आह्ह्ह भाई निकल गया और फिर हम एक दूसरे को नहाते हुए टच करते रहे। अब माँ के बूब्स हवा में आज़ाद थे और उनकी चूत पर बाल थे। फिर माँ ने रेजर निकाला और अपने पैर फैलाकर चूत को साफ़ करने लगी। तो नेहा बोली कि माँ मेरी भी चूत के बाल काट दो प्लीज। फिर माँ और नेहा ने अपनी चूत शेव की। अब उन दोनों की क्लीन शेव चूत क्या लग रही थी? एकदम मस्त चिकनी। फिर माँ ने फिर से मेरे लंड को पकड़ा और अपनी और खींचा और अब माँ मेरे लंड को शेव करने लगी, क्या बताऊ यारो क्या मज़ा आ रहा था? अब माँ का हाथ शेव करते हुए मेरे लंड को आगे पीछे कर रहा था और मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरे लंड की शेव हो गई। फिर हमने एक दूसरे को टावल से साफ़ किया और घर के काम करने लगे। अब मेरा मन मुठ मारने का कर रहा था, लेकिन कभी बहन पास होती, तो कभी माँ पास में होती, अब ऐसे ही चलते रात हो गई और हम टी.वी देखने लगे। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब माँ अपने पैर फैलाकर टी.वी देख रही थी और उनकी चूत पूरी खुली थी, उनकी चूत अंदर से पिंक कलर की थी और लाईट में चमक रही थी। फिर माँ बोली कि क्या देख रहे हो? तो में बोला कि आपकी चूत बहुत चमक रही है। तो माँ बोली कि वो मैंने क्रीम लगाई है इसलिए, तो मैंने कहा कि ओके। अब नेहा टी.वी देखते-देखते ही सो गई थी, अब वो उल्टी सो रही थी, उसकी गांड बहुत मस्त थी। फिर माँ ने कहा कि चल अब टी.वी बंद कर दे तू देख तो रहा नहीं, तो मैंने कहा कि क्यों माँ? क्या हो गया? तो माँ बोली कि तुम ये बात अपने लंड से पूछो जो सुबह से मेरी और नेहा की चूत में जाने को बेकरार है। तो मैंने बोला कि सॉरी माँ, तो माँ कहा कि सॉरी मुझे कहना चाहिए बेटा मुझे माफ़ कर दो, आजा मेरे पास। तो में उठकर माँ के पास चला गया, अब माँ लेट गई और में माँ के ऊपर लेट गया। अब माँ ने मुझे अपने सीने से चिपका लिया था, अब उनके बूब्स मेरी छाती से दबे हुए थे। अब मेरा लंड जो सुबह से खड़ा था वो अब पूरा हार्ड हो गया था, जिससे उसकी साईज़ 9 इंच लम्बा और 4 इंच मोटा हो गया था, जो अब माँ की चूत को टच कर रहा था और गीला हो गया।

Antarvasna Hindi Sex Story  तीन दिन तक ठुकाई

फिर माँ ने अपनी चूत पर मेरे लंड को सेट किया और हल्का सा अंदर धक्का दिया। अब मुझसे भी रहा नहीं गया और में भी शॉट लगाने लग गया। अब आधे से भी ज्यादा लंड माँ की चूत में चला गया था, तो माँ के मुँह से चीख निकल गई। उनकी चीख बहुत तेज थी जिससे नेहा भी उठ गई थी, फिर माँ ने बोला कि साले ये क्या किया? बता तो देता मार डाला, अब हिलना मत, मेरी चूत बहुत दर्द कर रही है, तेरे बाप का भी इतना मोटा और लम्बा नहीं है, तू मेरे एक्स बॉयफ्रेंड की निशानी है साले। अब माँ के मुँह से ये सब बात सुनते ही मैंने एक और शॉर्ट मारा और पूरा लंड माँ की चूत में पेल दिया। अब माँ मुझे पीछे करने लगी और मुझे धक्के भी दिए, लेकिन मैंने माँ को कसकर पकड़ा और शॉट मारता रहा।

अब माँ श ऑश साले रुक जा प्लीज, लव में तुम्हारी माँ हूँ कोई रांड नहीं हूँ, ओह मार डाला बाहर निकाल प्लीज, में मर जाउंगी। अब नेहा ये सब देख रही थी और अब वो रोने लगी थी। फिर में माँ को छोड़कर अपनी प्यारी बहन नेहा को हग करके चुप कराने लगा, तो नेहा बोली कि भाई आप बहुत बुरे हो माँ को तो आप मार ही डालोगे, आप मुझे छोड़ो। तो मैंने कहा कि सॉरी चलो अब नहीं और बहुत मनाने के बाद वो चुप हो गई। अब माँ का बेड पर बुरा हाल था, फिर में और नेहा एक दूसरे को हग करके सो गये। हम पहले भी ऐसे ही एक साथ सो जाते थे, लेकिन आज हम नंगे थे, अब वो मुझसे चिपकी हुई थी और उसका एक पैर मेरे ऊपर था। फिर मैंने उसे पकड़ा और अपने ऊपर किया। अब मेरे ऊपर आते ही उसके पैर ओपन हो गये। अब मेरा लंड उसकी चूत को टच कर रहा था, नेहा अभी भी गहरी नींद में थी। अब माँ मुझे ये सब करते हुए देख रही थी। फिर माँ ने धीरे से कहा कि चोद दे इसे तुम हो मेरी औलाद, लेकिन ये मेरे पति के छोटे लंड की तरह छोटी चूत लेकर इस दुनिया में आ गई और तू मेरे बॉयफ्रेंड के लंड से दुगुना लंड लेकर इस दुनिया में आ गया। तो मैंने कहा कि माँ में इससे प्यार करता हूँ ये मेरी बहन है। तो माँ बोली कि चल अब चोद, अब आ मुझे चोद, अब मेरा तेरा लंड लेने का पूरा मूड है, तो मैंने कहा कि आप पक्का करोंगे।

Antarvasna Hindi Sex Story  चाची और उसकी बहन की चुदाई

फिर माँ ने कहा कि सॉरी आजा बेटा, अब तू चाहे तो जान ले ले में वो भी हंसकर दे दूंगी, मुझे 4 दिन हो गये मैंने चूत नहीं मरवाई, अब और ना तरसा। फिर मैंने अपनी बहन नेहा को एक साईड में किया, अब नेहा को साईड में करते ही माँ एकदम से मेरे ऊपर आ गई। फिर माँ ने मुझे किस किया और मेरे लंड को अपनी चूत पर रखा और धीरे से अंदर कर लिया। अब मेरा तो बुरा हाल हो गया था, अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, में बता नहीं सकता। अब माँ की चूत में मेरा लंड था और उनके बूब्स हवा में थे, अब माँ के मुँह से आहें निकल रही थी। अब में भी धीरे-धीरे से अपना लंड ऊपर करता रहा, फिर धीरे- धीरे मेरा पूरा लंड माँ की चूत में समा गया। अब हम पूरा सेक्स का मज़ा ले रहे थे, फिर में माँ के लटकते बूब्स पर टूट पड़ा और चूसने लगा, अब में कभी लेफ्ट बूब्स चूसता, तो कभी राईट बूब्स चूसता, तो कभी दबाता। अब माँ की आवाज़ पूरे रूम में गूँज रही थी आहाहह हह हहा ऊह्ह्ह्ह ऑश हह्ह्ह्हह, फिर माँ का पानी निकल गया और मेरा लंड गीला होते ही में भी झड़ गया। अब माँ पूरी थक गई थी और फिर वो मेरे ऊपर ही गिर गई। अब रूम में पच पच पच सब शांत हो गया था, फिर मैंने माँ को हग किया और आई लव यू माँ बोला और कब में सो गया मुझे पता ही नहीं चला ।।