हाउसवाईफ चुदी गोलगप्पे वाले से

Hindi Sex Stories हाउसवाईफ चुदी गोलगप्पे वाले से

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम सागर है और में दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 28 साल है और में एक कम्पनी में नौकरी करता हूँ। दोस्तों मुझे कामुकता डॉट कॉम पर कहानियाँ पढ़ना बहुत अच्छा लगता है और में इस साईट पर पिछले 5 साल से कहानियाँ पढ़ रहा हूँ। दोस्तों आज में जो कहानी आप सभी को सुनाने जा रहा हूँ यह मेरी इस साईट पर पहली कहानी है और यह एक सच्ची कहानी है.. दोस्तों यह कहानी एक सीधी साधी हाउसवाईफ की है जो एक गोलगप्पे वाले से चुदी। उस हाउसवाईफ का नाम श्वेता है और उसकी उम्र 30 साल की है और वो एक अच्छी हाउसवाईफ है। उसका फिगर 38-28-36 है और में जब भी उसकी चूची देखता हूँ तो मेरा लंड खड़ा हो जाता है और मेरा क्या उसका फिगर देखकर तो हर किसी का यह हाल था।

उनकी एक छोटी सी दुकान थी.. जिस पर थोड़ा बहुत सामान मिलता था और दुकान उसके घर में थी। जहाँ पर वो और उसकी सास रहते थे क्योंकि उनकी दुकान घर के अंदर थी। मेरा घर उसके घर के सामने है.. जहाँ पर दुकान है और उसके सामने हमारे घर के पास वाले मकान में कुछ बिहारी लोगों ने कमरा किराए पर ले रखा था.. उनमे से एक गोलगप्पे वाला था। वो जब भी दुकान के आगे से जाता तो श्वेता को देखकर स्माईल देता था.. लेकिन श्वेता हमेशा उसे दिमाग से निकाल दिया करती थी.. लेकिन अब यह उसका रोज का रुटीन हो गया। फिर एक दिन श्वेता ने यह बात अपने पति से कही.. लेकिन उसने कहा कि इनका यही काम है तुम इन लोगो की बातों पर ज्यादा ध्यान मत दिया करो। फिर एक दिन जब उसकी सास घर के अंदर थी तो गोलगप्पे वाला दुकान के आगे से जा रहा था और उसने सोचा कि आज बहुत अच्छा मौका है और वो दुकान के बाहर सामान लेने खड़ा हो गया और स्माईल पास करने लगा और श्वेता उस पर ज्यादा ध्यान नहीं दे रही थी।

फिर तो उसने हद ही कर दी.. वो उसके सामने अपने लंड को मसालने लगा। तो श्वेता ने उसे देखा और उसे घूरते हुए उसे साफ मना किया कि आगे से ऐसा किया तो वो पुलिस में शिकायत कर देगी.. लेकिन श्वेता एक इज़्ज़तदार हाउसवाईफ थी इसलिए उसने उस दिन उससे ज्यादा कुछ नहीं कहा और अगले दिन वो फिर दुकान पर आया और लंड सहलाने लगा.. लेकिन श्वेता ने उसकी तरफ ज्यादा ध्यान नहीं दिया और वो ऐसे ही लंड मसलता रहा। फिर जब वो जाने लगा तो उसने लूँगी से अपना लंड बाहर निकाला और दुकान के आगे मुठ मारने लगा। फिर श्वेता ने देखा और एकदम चकित रह गई.. लेकिन तभी कोई और दुकान पर आने लगा.. जिसे देखकर उसने लंड छिपा लिया और चला गया। फिर श्वेता ने इज़्ज़त की खातिर किसी को कुछ नहीं बताया। फिर ये उसके रोज़ का काम हो गया और श्वेता भी गरम होने लगी। फिर एक दिन वो रात को सामान लेने आया और श्वेता के सभी फेमिली के लोग वहाँ बैठे थे जिन्हे देखकर उसने लंड नहीं सहलाया और उसने एक सिगरेट ली और 500 का नोट दिया और वो बहुत देर तक खुल्ले पैसे ढूंडती रही.. लेकिन तभी लाईट चली गयी और अंधेरा हो गया और उसने मौके का फायदा उठाकर श्वेता की चूची दबा दी और एक चूची सहलाने लगा जिसे देखकर श्वेता एकमद चकित रह गई और उसने छुड़ाने की कोशिश की.. लेकिन नहीं छुड़ा पाई और कुछ कह भी नहीं सकती थी क्योंकि उसकी इज़्ज़त खराब हो जाती। फिर श्वेता ने उसे खुल्ले पैसे दिए.. लेकिन वो अभी भी चूची दबा रहा था और निप्पल को खींचकर चला गया।

तभी श्वेता नॉर्मल होने की कोशिश करने लगी और उसने किसी को कुछ भी नहीं बताया। फिर अगले दिन उसकी सास बाहर गई थी तो वो दुकान पर आ गया और श्वेता को देखकर फिर से लंड सहलाने लगा। तभी श्वेता ने कहा कि अगर कोई बदतमीजी की तो वो शोर मचा देगी। तो गोलगप्पे वाले ने बोला कि मचा दो मेरा क्या है में तो पिट लूँगा.. लेकिन तेरी इज़्ज़त खराब हो जाएगी। श्वेता अब चुप हो गई और फिर उसने 500 का नोट दिया और गुटखा माँगने लगा। इस बार भी चेंज नहीं था तो वो चेंज ढूँडने लगी। इतने में उसने श्वेता की दोनों चूची पकड़ ली और दबाने लगा। दोबारा उसने छूटने की कोशिश की.. लेकिन कोई फायदा नहीं था। वो चूची दबाने लगा और निप्पल को मसलने लगा। फिर दुकान पर कोई आने लगा तो उसने चूची छोड़ दी.. इतने में श्वेता ने खुल्ले पैसे दिए और वो चला गया। ये उसका रोज़ का काम हो गया था और श्वेता को भी अब अच्छा लगने लगा.. वो जब भी आता उसकी चूची दबाने लगता और श्वेता भी कुछ नहीं कहती थी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

तभी एक दिन वो और उसकी सास मार्केट गये गोलगप्पे खाने तो उसकी सास उसे उसी गोलगप्पे वाले के पास ले गई जिसे देखकर श्वेता आँख चुराने लगी और वो गोलगप्पे खिलाने लगा। फिर उसकी सास का फोन बजा और वो दूसरी साईड चेहरा घुमाकर बात करने लगी और इतने में उसने श्वेता की गांड दबा दी। तो श्वेता घबरा गयी.. लेकिन नॉर्मल होने की कोशिश करने लगी.. उसने चटनी ली और उसकी चूची पर लगा दी और तभी उसने साड़ी के पल्लू के नीचे उसे छिपा लिया। फिर उसकी सास ने कहा कि उसे कुछ काम है तो वो चली गयी। इतने में उसने श्वेता को पीछे से पकड़ा और चूची दबाने लगा उसका लंड उसकी गांड पर छू रहा था और फिर वो श्वेता को होंठ पर किस करने लगा.. लेकिन श्वेता भागने की कोशिश कर रही थी। उसने फिर लंड निकाला और उसका हाथ उस पर रख दिया और वो उससे आग्रह करती ही रही कि वो उसे छोड़ दे.. लेकिन वो नहीं माना और उसने कहा कि अगर तू आज मेरी मुठ मार देगी तो जाने दूँगा। तो श्वेता मज़बूर थी उसने यहाँ वहाँ देखा और लंड पकड़ कर सहलाने लगी गोलगप्पे वाले की तो किस्मत खुल गयी और श्वेता घबरा रही थी कि कोई आ ना जाए। इतने में उसने श्वेता का ब्लाउज खोला और फिर वो मना करने लगी.. लेकिन वो नहीं माना श्वेता फिर से आग्रह करने लगी। फिर उसने कहा कि अगर वो कल दुकान पर चूची चूसने दे और मूठ मारे तो छोड़ देगा। तो उसने घबरा कर हाँ कह दिया और चली गयी। फिर अगले दिन वो फिर से दुकान पर आया श्वेता अकेली थी और वो मौका देखकर उसकी चूची दबाने लगा और वो मना करने लगी। तो उसने कहा कि चूची चूसने दे नहीं तो वो सभी से कह देगा कि उनका चक्कर है। वो घबरा गयी और चुप हो गई फिर वो दुकान के अंदर आ गया और उसकी चूची दबाने लगा और श्वेता रो रोकर मना करती रही.. लेकिन उसने उसका ब्लाउज खोल दिया और अब उसकी चूची ब्रा में बहुत बड़ी लग रही थी। उसने ब्रा नीचे की और चूची को देखकर मदहोश हो गया और उसने उसकी नंगी चूची हाथ में ली और पागलो की तरह चूसने लगा और श्वेता दुकान के बाहर देख रही थी कि कोई आ ना जाए।

फिर वो श्वेता की चूची चूसने लगा और निप्पल काटने लगा श्वेता ने हल्का सा चीखा तो वो उसे किस करने लगा। फिर उसने लंड को बाहर निकालकर उसके हाथ लंड पर रख दिए और चूची चूसने लगा उसका लंड 8 इंच बड़ा और 2 इंच मोटा था और श्वेता ने इतना बड़ा लंड पहले कभी नहीं देखा था। श्वेता उसकी मुठ मारती रही और वो उसकी चूची चूसता रहा और उसके होंठ काटने लगा। इतने में उसकी सास का फोन आया कि वो थोड़ी देर में आने वाली है तो श्वेता ने उसे जाने के लिए कहा। तो उसने कहा कि मुठ मार दे फिर चला जाऊंगा। वो अब तेज़ तेज़ मूठ मारने लगी और वो मजे कर रहा था। फिर उसने कहा कि वो झड़ने वाला है तो उसने उसके बूब्स पर अपना वीर्य डाल दिया। तो श्वेता ने जल्दी से ब्रा पहनी और वो चला गया।

अब यह इसका रोज़ का काम हो गया था और श्वेता को भी अब मज़ा आने लगा। वो रोज़ उससे मूठ मरवाता। फिर एक दिन उसने सोच लिया कि आज उसे चोदेगा और एक दिन रात को वो मार्केट से आ रही थी तो उसने उसे इशारा करके अपनी दुकान पर बुला लिया। तो श्वेता ने सोचा कि रोज़ की तरह आज भी मुठ मारेगा.. लेकिन जैसे ही वो अंदर गई उसने उसे टेबल पर लेटा लिया और उसके ऊपर चढ़ गया। तभी श्वेता ने कहा कि यह क्या कर रहे हो? तो उसने कहा कि मेरी जान आज तेरी चूत के दर्शन करवा दे। तो वो घबरा गयी और फिर श्वेता कहने लगी कि वो अपने पति से बहुत प्यार करती है.. वो यह सब नहीं करेगी। तो उसने कहा कि तू अगर प्यार करती है तो मेरी मूठ नहीं मारती। फिर उसने श्वेता की साड़ी ऊपर की और उसके दोनों पैर ऊपर करके बीच में आ गया और उसकी गोरी जांघ देखकर वो मदहोश हो गया और उसने उसकी साड़ी को पूरा कमर तक ऊपर कर दिया और उसकी पेंटी पर हाथ फैरने लगा। फिर श्वेता चिल्ला नहीं सकती थी क्योंकि कोई भी सुन सकता था। उसने अब श्वेता की पेंटी उतारी पहली बार उसने उसकी चूत देखी और वो उसकी चूत को सूंघने लगा.. बहुत मीठी खुश्बू आ रही थी। फिर अपनी जीभ से उसकी चूत चाटने लगा श्वेता को भी मज़ा आने लगा और फिर उसने श्वेता को पूरा नंगा कर दिया और पागलों की तरह टूट पड़ा उस पर श्वेता कहने लगी कि उसे जाने दे क्योंकि रात के 9 बज गये थे। तो उसने कहा कि जाना ज़रूर.. लेकिन चूत चुदाई के बाद और उसने उसके पैर खोले और अपना 8 इंच का लंड उसकी चूत पर रख दिया और एक झटका मारकर लंड को चूत के अंदर डाल दिया। श्वेता की चीख निकल गई और वो उसके होंठ को किस करने लगा। थोड़ी देर बाद जब वो नॉर्मल हुई तो वो तेज़ तेज़ झटके मारने लगा और किस करने लगा इससे वो चिल्ला नहीं सकती थी। श्वेता को भी अब मज़ा आ रहा था और 20 मिनट तक उसने उसकी चूत मारी और चूत में ही वीर्य छोड़ दिया। इस बीच वो 3 बार झड़ चुकी थी और लाईफ में पहली बार वो पूरी तरह संतुष्ट थी।

फिर श्वेता ने कपड़े पहने और जाने लगी। तो गोलगप्पे वाले ने उसे पकड़ा और कहा कि जान अब तो तेरी गांड भी मारनी है। फिर 3 साल तक वो उसे रोज चोदता रहा और श्वेता ने कभी भी नहीं सोचा था कि एक बिहारी उसकी ऐसे चूत मारेगा ।।

धन्यवाद …