साली को चोदकर माँ बनाया

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम Antarvasna आशीष है और में चोदन डॉट कॉम का नियमित पाठक हूँ, में सूरत का रहने वाला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 3 इंच, हैंडसम बॉडी और लंड लगभग 8 इंच लम्बा है। में एक बड़ी कंपनी में बड़ी पोस्ट पर हूँ, मेरी उम्र 27 साल है। अब में आपको ज्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। यह स्टोरी आज से 6 महीने पहले की है जब हम मेरी दूसरी साली की शादी में गये थे। मेरी पहली साली की शादी को 6 महीने हुए थे, वो भी अपनी बहन की शादी की तैयारी के लिए आई थी। मेरी साली का नाम गीता है, हम सब शादी से 1 हफ्ते पहले गये थे। उसका पति नहीं आया था, वो करीब 24 साल की होगी, वो भी मेरी बीवी की तरह ही बहुत सेक्सी थी, वैसे मेरी साली का फिगर 36-29-38 होगा, उसके बूब्स तो बहुत ही सेक्सी थे और जब वो चलती थी तो उसके बूब्स हिलते थे। यह देखकर कोई भी मर्द मचल जाए। उसके पति की अक्सर नाइट ड्यूटी रहती थी, में जब भी उसके घर पर जाता तो उसको देखता ही रहता था और उसको चोदने की सोचा करता था कि काश इसको चोद सकूँ।

फिर एक दिन जब हम सब रात को सोने गये तो एक रूम में पूरा सामान पड़ा था इसलिए हम सब एक साथ ही सो गये। अब पहले में बाजू में मेरी पत्नी और फिर मेरी साली सो गये थे। फिर रात को जब में पानी पीने उठा तो मैंने वापस आकर देखा तो मेरी जगह पर मेरी पत्नी थी इसलिए में मेरी साली और मेरी पत्नी के बीच में सो गया, अब मुझे नींद नहीं आ रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद मेरी साली ने उसका एक पैर मेरे पैर पर रख दिया, उसने नाइटी पहनी थी और वो उसकी जांघो तक ऊपर हो गई थी। अब मेरा लंड खड़ा हो गया था और पूरा टेंट बन गया था। फिर मैंने भी अपना एक हाथ उसके ऊपर रख दिया, तो थोड़ी देर के बाद जब वो कुछ नहीं बोली, तो तब मैंने अपने एक हाथ को थोड़ा ऊपर ले जाकर उसके एक बूब्स पर रख दिया और धीरे से दबाने लगा। तो वो धीरे से मेरे पास आ गई, तो मुझे लगा कि जवाब मिल रहा है और फिर में उसके दूसरे बूब्स को दबाने लगा। फिर वो मेरी तरफ घूम गई तो में अपना एक हाथ उसकी नाइटी में ऊपर से डालकर उसके बूब्स को दबाने लगा, तो वो मचलने लगी और मेरे कान में कहा कि स्टोर रूम में चलते है। फिर वो उठकर दूसरे रूम में चली गई और में भी उसके पीछे चला गया और स्टोर रूम का दरवाजा बंद कर दिया। फिर में उसको पीछे से पकड़कर उसके बूब्स दबाने लगा, तो उसने कहा कि आहिस्ता- आहिस्ता करो। फिर मैंने उसकी नाइटी को ऊपर उठाकर पूरा निकाल दिया और उसको किस करने लगा। फिर मैंने उसकी ब्रा भी निकाल दी और उसके बूब्स को अपने हाथों से दबाने लगा, अब उसकी साँसे तेज हो रही थी।

Antarvasna Hindi Sex Story  कॉलेज टीचर की चूत फाड़ी

फिर उसने मुझे बूब्स चूसने को कहा, तो में उसका राईट बूब्स चूसने लगा और पूरा चाटने लगा और थोड़ी देर के बाद उसका दूसरा बूब्स भी चूसा। अब मैंने धीरे से उसके पेटीकोट को ऊपर करके अपना एक हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया था और उसका बूब्स भी चूसता रहा। उसकी चूत पर बाल नहीं थे और वो पूरी गर्म हो गई थी। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में घुसा दी, तो वो मचल गई, अब वो सिसकियाँ ले रही थी। फिर मैंने उसका पेटीकोट और पेंटी को भी निकाल दिया और उसकी चूत को चाटने लगा, उसके पानी का टेस्ट बहुत अच्छा था। फिर उसने मेरे पजामे का नाड़ा खोल दिया और मेरा पजामा और अंडरवियर को उतार दिया। वो मेरे लंड को देखती ही रह गई और बोली कि ये तो उसके पति से बहुत बड़ा है और उस पर अपना एक हाथ फैरने लगी, तो में फिर से उसकी चूत को चाटने लगा और फिर हम 69 की पोज़िशन में आ गये, वहाँ पर कोई बिस्तर नहीं था इसलिए हम टाइल्स पर ही लेट गये थे। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  Naukarani ki pati ne li meri chut

फिर मैंने उसके चूत के दाने को अपने दातों से थोड़ा सा दबाया, तो वो ज़ोर से मचल पड़ी। फिर में मेरी जीभ को उसके अंदर डालकर अंदर बाहर हिलाने लगा। अब वो सिसकियाँ भरने लगी थी और बहुत गर्म हो गई थी। फिर वो मेरी बाँहों में आकर लिपट गई और धीरे से कहा कि अब मत तड़पाओ, अब मेरे अंदर जल्दी से डालो, में मर रही हूँ। तो में एक कुर्सी पर बैठ गया और उसको आगे की तरफ झुकाकर मेरे लंड पर बैठा दिया और ज़ोर से आगे की तरफ एक झटका दिया तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया। अब उसने दर्द के मारे अपने होंठो को दबाए मुझे पीछे पकड़ लिया था। फिर मैंने थोड़ी देर तक उसको ऐसे ही बैठाया और में भी बैठा रहा। अब उसे भी मज़ा आने लगा था और वो आगे पीछे होने लगी थी। अब मैंने भी पीछे से धक्के देने शुरू कर दिए थे। फिर 10 मिनट के बाद उसकी रफ़्तार तेज हो गई और अब मेरा भी पानी निकलने वाला था इसलिए मैंने भी ज़ोर से धक्का लगाना शुरू कर दिया था।

Antarvasna Hindi Sex Story  ट्रैफिक लेडी की चूत और गांड मारी

फिर थोड़ी देर के बाद वो मुझ पर ही बैठ गई और में भी उसके दोनों बूब्स को ज़ोर-जोर से दबाने लगा और फिर हम दोनों ने एक साथ अपना पानी छोड़ दिया और थोड़ी देर तक ऐसे ही बातें करते रहे। फिर हम दोनों अपने-अपने कपड़े पहनकर एक लंबी किस करके वापस अपनी जगह पर आकर सो गये और फिर हम दोनों पूरी रात नहीं सोए। फिर में भी उसके बाजू में लेटे-लेटे उसकी पेंटी में अपना एक हाथ डालकर उसकी चूत पर अपना एक हाथ फैरता रहा और वो भी चादर में से अपना एक हाथ मेरे पजामे में डालकर मेरे लंड को पूरी रात पकड़कर सोई रही। फिर जब तक हम वहाँ पर एक साथ रहे तो रोज कुछ ना कुछ बहाना बनाकर बाहर चले जाते थे और कोई फार्म और खाली जगह पर जाकर अपनी मोटरसाइकिल पर बैठकर ही मज़े लूटते रहते थे। अब वो प्रेंग्नेट हो गई है और वो अब मेरे ही बच्चे की माँ बनेगी ।।

धन्यवाद …