माँ की चूत का पूरा मज़ा

हैल्लो दोस्तों, Antarvasna आज में आपको अपनी एक और कहानी सुना रहा हूँ, जो बिल्कुल सच्ची है। में अपनी माँ के साथ काफ़ी खुला हुआ था और हर बात अपनी माँ को बताता था। माँ ने मुझे और मेरी बहन को सेक्स के बारे में सब बता रखा था। जब मेरी उम्र कोई 18 साल की होगी तब मेरा लंड जवान हो चुका था और में कभी-कभी मुठ भी मार लेता था। फिर एक दिन रात को मुझे स्वप्नदोष हो गया और मेरे नेकर पर वीर्य लगा हुआ था और फिर जब में उठा और बाथरूम में जाने लगा, तो सामने से माँ आ गई और उनकी नजर मेरी नेकर पर पड़ गई और बोली कि इधर आओ यह क्या है? तो मैंने कहा कि कहाँ पर? तो वो बोली कि तुम्हारी नेकर पर, कहीं तुमने अपनी बहन को तो नहीं चोद डाला। फिर मैंने कहा कि क्या बात कर रही हो? यह तो नाईट फैल हुआ है। फिर वो कहने लगी कि अपनी नेकर उतारकर दिखा, तो में कुछ शरमा सा गया, लेकिन उन्होंने मुझे पकड़कर मेरी नेकर उतार ही दी। अब मेरा 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा लंड देखकर तो उनकी नजरे ही फटी की फटी रह गई थी और बोली कि हाए कितना बड़ा और मोटा लंड है तुम्हारा? तो मैंने कहा कि हाँ क्यों? नहीं हो सकता क्या?

फिर वो बोली कि चल बाथरूम में में इसे साफ करती हूँ और मेरी बाजू पकड़कर ले गई और अंदर जाकर मेरे लंड को पकड़ लिया और उसे सहलाने लगी। बस फिर क्या था? अब वो पूरी तरह से तन गया था। फिर उन्होंने मेरे लंड पर साबुन लगया और मेरे लंड को धोने लगी और आगे पीछे करने लगी। अब में तो पागल सा हो गया था और आनंदित भी। फिर वो बोली कि किसी की चूत में तो नहीं डाला ना? तो मैंने कहा कि नहीं डाला। फिर वो बोली कि किसकी चूत में डालने की कोशिश की थी? तो तब मैंने कहा कि बहन की और अपनी एक फ्रेंड की, लेकिन अंदर गया ही नहीं, क्योंकि मेरा मोटा है और वो दोनों चिल्ला उठती थी। फिर तभी माँ बोली कि अच्छा अब चोदना भी सीख गया है, तो में बोला कि नहीं माँ कोशिश कर रहा हूँ। फिर तभी माँ ने पूछा कि और क्या-क्या किया है? तो में बोला कि बस 3-4 बार उन दोनों से टच किया है। फिर माँ बोली कि अच्छा और फिर उन्होंने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी। अब 5-7 मिनट के बाद मेरा झड़ने वाला था तो में माँ से बोला कि माँ मेरा झड़ने वाला है। फिर उन्होंने ज़ोर-ज़ोर से चूसना शुरू कर दिया और अब वो मेरे लंड से निकला सारा वीर्य पी गई थी और बोली कि रात को तू मेरे पास ही सोना, में तुझको चोदना सिखाऊँगी। फिर रात को खाना खाने के बाद हम टी.वी देखते रहे और फिर हम करीब 11 बजे रूम में सोने को चले गये। अब माँ ने अंदर से रूम लॉक कर दिया था और बिल्कुल नंगी हो गई थी और मुझको भी नंगा कर दिया था और मेरा लंड पकड़कर अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी।

Antarvasna Hindi Sex Story  गालियों वाली चूत चुदाई

फिर कोई 15 मिनट के बाद मेरा लंड उनके मुँह में ही झड़ गया और वो मेरा सारा माल गटक से पी गई, लेकिन उन्होंने फिर भी मेरे लंड को नहीं छोड़ा, तो कुछ देर के बाद वो फिर से अपनी पुरानी कंडीशन में आ गया। अब में माँ के बूब्स चूस रहा था और उनकी चूत में उंगली कर रहा था। फिर तभी उनकी चूत का पानी निकल आया और वो ऊऊओह, आआआ करने लगी और बोली कि अब तुम मेरी चूत को चाटो और में तेरा लंड चूसती हूँ। फिर कोई 5 मिनट के बाद उन्होंने अपने मुँह से मेरे लंड को बाहर निकालकर मुझे नीचे लेटा दिया और मेरे लंड पर अपनी चूत रखकर हल्का सा दबाव बनाया कि मेरा 4 इंच लंड उनकी चूत में चला गया और वो चिल्ला उठी आह, ऊओहो और अब अगले दबाव में मेरा पूरा लंड उनकी चूत में जा चुका था, बहुत गर्म चूत थी माँ की और अब वो ज़ोर से हिल-हिलकर मेरे लंड का मज़ा ले रही थी, बेटा फाड़ डाल अपनी माँ की चूत को, आआहहह बहुत मज़ा आ रहा है। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Antarvasna Hindi Sex Story  कविता ने अपने बॉस को खुश किया

फिर 15-20 मिनट के बाद मेरा लंड उनकी चूत में ही झड़ गया और वो मेरे लंड पर ही बैठी रही। अब मेरी हालत खराब हो चुकी थी। फिर जब वो उठी तो मेरी जान में जान आई। फिर करीब 1 घंटे तक हम शांत रहे। फिर उसके बाद वो अलग-अलग पोजिशन में चुदी और बोली कि क्या लंड है तुम्हारा? कसम से मज़ा आ गया, इतना मजा तो मैंने कभी लिया ही नहीं। फिर मैंने माँ से पूछा कि माँ एक बात सच-सच बताना कि अब तक तुम कितनों से चुद चुकी हो? तो वो बोली कि तेरे पापा, तेरे मामा और चाचू से, लेकिन जो मज़ा तेरे लंड से आया है, वो अब तक किसी के लंड से नहीं आया। फिर तब मैंने कहा कि आप मेरी इच्छा पूरी कर सकती हो। फिर वो बोली कि क्या? तो मैंने कहा कि में आपके सामने बहन को और मौसी को चोदना चाहता हूँ, क्या आप मेरी मदद करोगी? तो माँ बोली कि बहन की तो तूने चूत देखी है, लेकिन तू मौसी का दीवाना कब से हुआ?

Antarvasna Hindi Sex Story  मेरे दोस्त की सेक्सी माँ मनीषा

फिर तब मैंने बताया कि मौसी जब छुट्टियों में आई थी, तो तब वो मेरे रूम में सोई थी और वो रात को मुझसे चिपक जाती थी और मेरा हाथ पकड़कर अपने बूब्स पर रखती थी और अपनी चूत पर भी। जब में सोया होता था, लेकिन यह बात मैंने तुम्हें नहीं बताई, मुझे डर लग रहा था इसलिए। फिर माँ बोली कि ओके कोई बात नहीं, अब जब वो आएगी तो चोद डालना साली को और फाड़ देना उसकी चूत को, लेकिन यह सब मेरे सामने ही करना, में भी उसको अपनी चूत का पानी पिलाऊँगी। फिर अगले दिन माँ ने बहन को भी अपने रूम में सुलाया। फिर रात को जब हमने चुदाई शुरू की तो माँ ने बहन की चूत में अपनी एक उंगली डाल दी और हिलाना चालू कर दिया। फिर जब वो गर्म हो गई, तो मेरा लंड उसको चुसवाया और फिर बाद में मैंने उसकी चूत फाड़ डाली और उसकी चूत में से खून निकाल दिया। फिर पहले तो वो खूब चिल्लाई आहह, में मर गई, लेकिन माँ ने मेरी पूरी मदद की। फिर उस रात मैंने उन दोनों को 3-3 बार चोदा और तब से हम सेक्स का मज़ा साथ-साथ लेते है और खूब मजा करते है ।।

धन्यवाद …