गर्लफ्रेंड की भाभी को भी चोदा

हैल्लो दोस्तों सभी इस साईट के चाहने वालो को मेरा नमस्कार में इस साईट Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai नाईटडिअर डॉट कॉम का बहुत बड़ा फैन हूँ में नाईटडिअर पर कहानियां पड़कर बहुत मजे करता हूँ और कई बार मुठ भी मारता हूँ। दोस्तों अब में सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ ये मेरी पहली कहानी है और में उम्मीद करता हूँ कि आप सभी को ये बहुत पसंद आएगी। दोस्तों अगर इसमे मुझसे कोई गलती हो तो मुझे माफ़ करना। दोस्तों में जालंधर पंजाब का रहने वाला हूँ और मुझे सेक्स करना बहुत अच्छा लगता है और में अपनी गर्लफ्रेंड के साथ बहुत मजे करता हूँ। दोस्तों ये स्टोरी मेरी गर्लफ्रेंड और उसकी भाभी की चुदाई के ऊपर है। अब आप सभी पढिए कि मैंने कैसे उसे चोदा और कैसे मैंने उनके साथ मज़े किए। दोस्तों ये बात तब की है जब हम 12वीं में थे और मेरी गर्लफ्रेंड जिसका नाम रश्मि था वो 11वीं में थी। वो दिखने में एकदम मस्त सेक्सी थी।

फिर वो मेरी गर्लफ्रेंड बनी पहले साल तो हमने कुछ नहीं किया लेकिन उसके बाद तो ऐसा किया कि अब ना वो रुकती है और ना ही में। हम रोज मिल नहीं पाते लेकिन सेक्स चेट ज़रूर करते है उसके बारे में हम बाद में बताएँगे कि कैसे मैंने अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स किया। अब ज्यादा टाईम खराब ना करते हुए सीधे स्टोरी पर आता हूँ। मेरी गर्लफ्रेंड की भाभी का नाम निधि है वो दिल्ली से है और वो बहुत ही ज़्यादा सेक्सी है.. लंबे लंबे बाल गोरा गोरा चेहरा बड़े बड़े रसीले बूब्स जिनको देखकर तो हर किसी के मुहं में पानी आ जाएगा। हाईट सामान्य 5.8 इंच लेकिन भाभी को सब कुछ पहले से ही पता था मेरे और रश्मि के रिश्ते के बारे में। कई बार निधि भाभी ही हम लोगो को मिलवाने में हेल्प करती थी। कभी रेस्टोरेंट में या कभी लोंग ड्राईव पर।

फिर ये सिलसिला कुछ महीनों तक चलता रहा भाभी से तो मेरी भी चेटिंग होती रहती थी। एक दिन भाभी से में चेटिंग कर रहा था। तभी मैंने उन्हे ऐसे ही मस्ती में एक नोनवेज मैसेज भेज दिया.. इस पर उनके जवाब में स्माईली बनकर आई। फिर क्या फिर तो मेरी लाटरी निकल गई। मैंने भाभी को कई नोनवेज मैसेज भेजना शुरू कर दिया फिर भाभी का भी वहाँ से बराबर जवाब आने लगा। फिर एक दिन रात को मेरी गर्लफ्रेंड जल्दी सो गई तभी भाभी से चेट चल रही थी तो उस समय उनके पति भी घर पर नहीं थे.. वो बिजनस के लिए यूरोप गये हुए थे। फिर उस रात भाभी ने मुझसे पूछा कि तुम जो मैसेज भेजते हो उन सबका मतलब पता है? तभी मैंने कहा कि पता ही नहीं बल्कि अनुभव भी है। फिर इसमे उन्होंने पूछा कि क्या कभी किसी के साथ सेक्स किया है? तभी मैंने भी कह दिया कि हाँ आपकी ही ननंद के साथ किया है और वो भी नए नए तरीके से और फिर ऐसे करते करते हमारी सेक्स चेट शुरू हो गई। तभी मैंने उनसे कहा कि क्या फिर भैया तो रोज सेक्स करते होंगे आपके साथ? फिर वो हाँ रोज नहीं लेकिन सप्ताह में दो तीन बार जरुर करते है। फिर मैंने उनसे पूछा कि आपको सबसे ज़्यादा मज़ा कब आता है सेक्स के दौरान? तभी उनका कुछ जवाब नहीं आया और फिर में भी सोचने लगा कि क्या हो गया इनको अचानक? फिर 15 मिनट के बाद भाभी का कॉल आया पहले तो 5 मिनट नॉर्मल बात हुई फिर उन्होंने मुझसे पूछा कि रश्मि के साथ तुमने क्या क्या किया है? तभी मैंने कहा कि सब कुछ। फिर उन्होंने पूछा कि कैसे? फिर मैंने बताया कि पहले सेक्स चेट से शुरू हुई फिर फोन में ओरल सेक्स फिर रियल में सब कुछ किया।

Antarvasna Hindi Sex Story  माँ की चूत का पूरा मज़ा

तभी उन्होंने कहा कि ओरल सेक्स कैसे किया? फिर मैंने कहा कि पहले मैंने चेट सेक्स किया.. फिर उसके बाद हम दोनों बाथरूम चले गए फिर उसने सारे कपड़े अपने उतार दिए फिर मैंने भी उतार दिए फिर उसके बाद उसने अपने बूब्स को कस कसकर दबाया। फिर उसकी सांसो की आवाज में फोन पर सुन रहा था। फिर उसने अपनी चूत के अंदर एक साथ 2 ब्रश डाले और फिर कस कसकर अंदर बाहर करने लगी। फिर में भी अपने लंड को ऊपर नीचे कर रहा था और फिर हम दोनों एक दूसरे को अपनी सांसो की आवाज़ सुना रहे थे। तभी भाभी ने कहा कि अच्छा फिर मैंने उनसे अपने सवाल का जवाब पूछा तो उन्होंने कहा कि जब मिलोगे तब बता दूँगी। फिर में भी समझ गया फिर मैंने पूछा कि आप कब और कहाँ पर मिलेंगी? फिर उन्होंने कहा कि जब सही समय आएगा तब वो खुद ही बता देंगी।

भाभी के घर में मिलना तो बहुत मुश्किल था उनकी जॉइंट फेमिली थी। फिर अगले दिन मेरी मम्मी, पापा दोनों को ही एक शादी में बाहर जाना था। फिर मैंने भाभी को बताया कि अगले दिन मेरे घर पर कोई भी नहीं है तभी भाभी तैयार हो गई मिलने के लिए फिर दूसरे दिन 11 बजे का टाईम फिक्स हुआ था हमारे मिलन का। फिर दोस्तों रात भर तो मुझे भी नींद नहीं आई बस भाभी के सपने देख रहा था। फिर अगले दिन मैंने भाभी को में अपनी कार जाकर ले आया और फिर कार को घर के अंदर पार्क कर के भाभी को कार से उतारा और फिर अपने रूम में उनको ले गया।

तभी मैंने कुछ ठंडे के लिए पूछा तभी वो बोली ये तो बच्चो के पीने की चीज़ है हमारी प्यास तो किसी और चीज़ से मिटेगी। फिर मैंने टाईम खराब ना करते हुए भाभी को अपनी बाँहों में ले लिया और फिर बेड पर ले जाकर लेटा दिया और फिर उनके होंठो को चूसने लगा फिर साथ में उनके बूब्स को कस कसकर दबा रहा था। फिर मैंने भाभी के बाल खोल दिए और फिर उन्होंने उनकी साड़ी उतारने को कहा। फिर मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार लिए अब भाभी मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा पेंटी में थी। तभी मैंने उनसे कहा कि ये दोनों भी क्यो नहीं उतारे? फिर वो बोली कि अरे ये सभी काम में ही करूँगी क्या? बस फिर तो में और भी गरम हो गया और फिर भाभी को कसकर बाँहों में पकड़ कर चूमने लगा। उनके कान के पीछे, गले में, पूरे चहरे पर अपने हाथों को घुमा रहा था और साथ में दोनों बूब्स को कस कसकर दबा रहा था। तभी धीरे से मैंने भाभी की ब्रा उतार दी और फिर बूब्स चाटने सूंघने लगा दोस्तों क्या बताऊँ क्या खुश्बू थी वो जिसे में सूँघ रहा था। तभी मेरा जोश और बड़ गया और फिर मैंने उनके एक बूब्स को अपने मुहं में लिया और कस कसकर चूसने लगा और साथ में अपना एक हाथ उनकी पेंटी के अंदर डालकर उनकी चूत के बालों को सहलाने लगा। तभी भाभी और गरम हो ही चुकी थी और वो मेरे सर को कसकर पकड़ कर अपने बूब्स की तरफ धक्का देने लगी। फिर मैंने उनके गुलाबी गुलाबी निप्पल को जोर जोर से चूसा और काटा भी उनके मुहं से सिसकियां निकल रही थी और वो कह रही थी और ज़ोर से और ज़ोर से पूरे जोश से चूसो दबाओ और जोर से।

Antarvasna Hindi Sex Story  दोस्त की बीवी की हवस

फिर में उनके निप्पल के पास वाले एरिया में अपनी जीभ को घुमाने लगा। ऐसा करने से वो और भी ज़्यादा गरम हो गई और फिर अपने वो दूसरे बूब्स को खुद ही कस कसकर दबाने लगी और फिर मैंने उनके दूसरे बूब्स को भी ऐसे ही प्यार किया। फिर दोनों बूब्स को जोर से दबाने लगा बड़े बड़े गुलाबी निप्पल को एक साथ काट रहा था। फिर मैंने जल्दी से उनकी पेंटी को अपने मुहं से उतार दिया और फिर उनकी चूत के बालों को सहलाने लगा और फिर चूत के आस पास अपने हाथ को फैर रहा था। फिर उनकी चूत के पास से मदहोश करने वाली खुश्बू आ रही थी।

तभी मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ और फिर मैंने उनकी चूत को किस करना शुरू कर दिया। में अपनी जीभ को चूत के अंदर बाहर कर रहा था और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। फिर उन्होंने मेरे सर को अपने दोनों हाथो से कसकर पकड़ रखा था.. फिर उनके मुहं से सिसकियां निकल रही थी आअहह। फिर करीब 10 मिनट तक मैंने उनकी चूत को बहुत अच्छी तरह से चाटा और फिर सारा रस पी गया। तभी भाभी एकदम जन्नत की सैर कर रही थी। वो बोली कि आज तक उनके पति ने भी कभी चूत पर जीभ भी नहीं लगाई।

अब उनकी बारी थी बिना मेरे कुछ कहे उन्होंने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा जो कि पहले से ही बहुत बड़ा टाईट था उसे पकड़ कर बोली कि आज तो वो इसे खा जाएँगी। तभी मैंने कहा कि हाँ जान खा जाओ इंतज़ार किस चीज़ का कर रही हो? फिर दोस्तों करीब उन्होंने 10 मिनट तक ऐसे लंड को चूसा कि मुझे तो मज़ा ही आ गया। फिर में बस खाली उनको बालों से पकड़े हुए था और लंड को उनके मुहं में जोर जोर से धक्के दिये जा रहा था और वो पूरा पूरा लंड अपने मुहं में आखरी तक ले रही थी। फिर मेरे ज्यादा जोर से लंड को धक्का देने पर उसकी आँखों से आंसू तक बहने लगे लेकिन उन सब की परवाह किये बिना वो लंड को मुहं में लेकर चुदाई का पूरा पूरा मजा ले रही थी। फिर करीब बीस मिनट की चुदाई के बाद में भाभी के मुहं में ही झड़ गया और वो इस चुदाई से खुश होकर बिलकुल निढाल होकर पड़ी थी और फिर उन्होंने मेरा सारा वीर्य पी लिया और वो लंड को दोनों हाथों से पकड़ कर जोर जोर से चाट रही थी और फिर उन्होंने पूरा का पूरा लंड चाट चाट कर साफ कर दिया। तभी फिर से मेरे लंड में एक करंट सा दौड़ने लगा और वो फिर से चोदने के लिये तैयार होने लगा। फिर क्या था हम दोनों से ही कंट्रोल नहीं हो रहा था फिर में उनके ऊपर लेट गया और फिर मैंने उनके दोनों पैरो को फैलाकर उनकी चूत को चौड़ा किया और फिर लंड को चूत के मुहं पर रखकर सेट किया और फिर उनकी चूत में अपना लंड एक ही जोर के धक्के के साथ डाल दिया। तभी वो चिल्ला उठी और सिसकियाँ भरने लगी अह्ह्ह में मरी प्लीज थोड़ा धीरे कहने लगी कि आराम आराम से डालो चिल्लाने लगी लेकिन उसकी चूत के पहले से ही गीली होने की वजह से लंड बड़े आराम से अंदर बाहर हो रहा था।

Antarvasna Hindi Sex Story  बहन को लंड से खेलना सिखाया

फिर में अब रुकने वाला नहीं था मैंने उसे कमर से पकड़ कर जोर जोर से झटके मारे और मेरा पूरा लंड उनकी चूत में समा गया। फिर पहले एक मिनट तक तो मैंने धीरे धीरे स्ट्रोक लिए और फिर कस कसकर जोर से धक्के देने लगा और फिर भाभी भी मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी वो मेरे हर एक धक्के पर अपनी गांड उठाकर मेरे लंड का स्वागत करने लगी और फिर मैंने थोड़ी देर बाद उनके बूब्स दबाने शुरू किये वो बड़ी मस्त होकर चुदाई का मजा ले रही थी और कह रही थी कि चोदो और जोर से जाने दो पूरा पूरा चूत की गहराइयों में। फिर मैंने उनके बूब्स पर भी अपनी पकड़ जोर से बना ली और जोर जोर से बूब्स भी दबाने लगी उनकी इस ताबड़तोड़ चुदाई ने उनकी आँखों से पानी ला दिया और उनके चहरे का रगं लाल कर दिया उन्हें मजे के साथ साथ दर्द भी बहुत था लेकिन वो मजे के सामने दर्द को भुला कर चुदाई में अपने आप को व्यस्त करने लगी।

फिर कुछ देर बाद में झड़ने लगा और मैंने उनकी चूत में ही अपना पूरा वीर्य डाल दिया लेकिन तभी भाभी ने एक झटके से लंड को चूत से बाहर निकाल दिया और लंड दोनों हाथों से पकड़ कर मुहं में डाल लिया और जोर जोर से चूसने लगी उसको चूसता देख मुझे लगा कि जैसे वो जन्मो से लंड की भूखी हो। फिर मैंने भी मौका देखकर उनकी गांड में ऊँगली डाल दी और ऊँगली को उनकी गांड में आगे पीछे करने लगा। तभी भाभी फिर से गरम होने लगी और उनकी चूत और गांड का बदला मेरे लंड से लेने लगी। तभी भाभी ने चूसने की स्पीड बड़ा दी और चूस चूसकर पूरा लंड साफ कर दिया और फिर करीब दस मिनट चूसने के बाद उन्होंने लंड को फिर से चोदने के लिये तैयार कर दिया।

तभी मैंने उन्हें फिर से चोदने के लिये घोड़ी बना दिया और उनकी गांड पर थोड़ा थूक लगाया और थोड़ा लंड पर और गांड पर लंड सेट करके चोदने लगा। फिर करीब दस मिनट की चुदाई के बाद मैंने उनकी गांड में पूरा वीर्य डाल दिया। फिर उस दिन मैंने तीन बार उनके साथ सेक्स किया। मेरा अनुभव बहुत अच्छा होने की वजह से बहुत देर तक हम लोग सेक्स करते रहे.. हर बार मैंने उनके साथ एक नये तरीके चुदाई की। फिर जब आखरी टाईम मैंने उनकी चूत मारी तो वो चुदाई ना भूलने वाली थी। मैंने उनके दोनों पैरो को अपने कंधे पर रखकर उनकी चूत को करीब बीस मिनट तक चोदा और फिर उनके बूब्स पर पूरा वीर्य गिरा दिया। फिर इसके बाद मुझे जब भी मौका मिलता है तो में और भाभी बहुत मस्ती करते है फोन पर भी और बेड पर भी। मैंने एक बार तो उनको उनकी ननद के साथ में भी चोदा लेकिन आज कल तो भाभी प्रेग्नेंट चल रही है तो भाभी से तो खाली सेक्स चेट ही होती है लेकिन ननद की तो हर कभी चुदाई होती है ।।

धन्यवाद …